नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

04 July, 2014

बरसो रे मेघा बरसो ....!!


बरसो रे  मेघा बरसो ....

धूप घनी ,
और
पीड़ा घनीभूत  होती है जब  ,
जीवन की

तपती दुपहरी में,
छाया भी श्यामल सी
 कुम्हलाती हुई ,

मन उदास करती है जब ,

अतृप्त प्यास से
तृषित है ....
धरणि  का हृदय जब ....
जल की ही आस
जीवित रखती है
हर सांस
तब,

कोयल की कूक में
हुक सी ......
अंतस  से
उठती है एक आवाज़  ...
बिना साज़....

बरसो रे मेघा बरसो ...!!




32 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 05 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार यशोदा ....!!

      Delete
  2. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  4. तपती धरा के आँचल में,
    नव-स्नेह अंकुरित करने को
    धरती के भींगे अंतर को
    बूंदों की आस होती है... बहुत सुन्दर भाव अनुपमा जी …

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    http://kaynatanusha.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. ववाह ..बहुत सुंदर ..

    ReplyDelete
  7. ववाह ..बहुत सुंदर ..

    ReplyDelete
  8. प्यास जगती है जब भीतर तब आह्वान होता है अमृत सम जल का..सुंदर भाव !

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (05-07-2014) को "बरसो रे मेघा बरसो" {चर्चामंच - 1665} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार शास्त्री जी ...!!

      Delete
  10. कोयल की कूक में
    हुक सी ......
    अंतस से
    उठती है एक आवाज़ ...
    बिना साज़....

    बरसो रे मेघा बरसो ...!!
    आमीन !!!!

    ReplyDelete
  11. आपकी इस रचना का लिंक शनिवार दिनांक - ५ . ७ . २०१४ को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर होगा , धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आशीष जी ...!!

      Delete
  12. इतने पावन मन से कोई प्रार्थना की जाये तो अनसुनी कैसे रह सकती है ! आज मानसून की पहली फुहार पड़ी है यहाँ भी ! आपकी दुआ का ही असर दीखता है ! अत्यंत सुंदर एवं प्रभावी रचना ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  13. अतृप्ति से संतृप्ति की ओर बरसें ये मेघ! सुन्दर अभिव्यक्ति!
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  14. जल्दी बरसो रे मेघा ...
    बहुत सुन्दर चित्रयुक्त प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  16. हृदयस्पर्शी......बरसो रे मेघा

    ReplyDelete
  17. अत्यंत सुन्दर भाव |

    ReplyDelete
  18. कोयल की कूक में
    हुक सी ......
    अंतस से
    उठती है एक आवाज़ ...
    बिना साज़....

    बरसो रे मेघा बरसो ...!!
    बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  19. अनुभूतियों और भावनाओं का सुंदर समवेश इस खूबसूरत प्रस्तुति में

    ReplyDelete
  20. झिल मिल करते मेघ ... शब्दों से चित्र उतार दिया ...

    ReplyDelete
  21. जुलाई के पहले हफ्ते के आस-पास हमारे गाँव में खूब बारिश होती है हर साल. इस साल भी निराशा नहीं हुई. आशा है कविता की पुकार को बरखा रानी ने सुना होगा.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!