नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

05 October, 2013

माँ मुझे आने तो दो ....

आद्या  शक्ति माँ सुखदायिनी ...!!
हे माँ मुझे आने दो ....
अपने  संसार में ...
नव राग प्रबल गाने दो ....

शक्ति दायिनी...
 माँ तुम  हो मेरी ...
आस मेरी ...मुझमें  उल्लास भरो ....!!

भाई जैसा ...
मेरी शिराओं में भी ....
चेतना का  संचार करो .....
माँ मुझसे भी तो प्यार करो ....!!

छल छल कर दुनिया छलती है ....
तुम तो न जग का हिस्सा बनो .....
मुझे जीवन दो पालो-पोसो ....
नव-शक्ति का किस्सा बनो ...


जब तुम जग से भिड़ पाओगी .....
अपनी छाया फिर देखो तुम ...
जग से मैं भी लड़ जाऊँगी ...
पोसूंगी तब अपने सपने .....
और एक उड़ान पा जाऊँगी ....!!

माँ मुझे आने तो दो ....
अपने संसार में ....
नव राग प्रबल गाने तो दो ...!!
************************************** 

31 comments:

  1. मार्मिक पुकार ..... बहुत ही सुंदर रचना

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार - 06/10/2013 को
    वोट / पात्रता - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः30 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना चयन हेतु हृदय से आभार दर्शन जी ...!!

      Delete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार - 06/10/2013 को
    वोट / पात्रता - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः30 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (06-10-2013) हे दुर्गा माता: चर्चा मंच-1390 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना चयन हेतु हृदय से आभार शास्त्री जी ।

      Delete
  5. बहुत सुन्दर......
    माँ अपनी बेटी की इस पुकार को कैसे अनसुना कर सकती हैं......
    नवरात्र शुभ हों..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति.!
    नवरात्रि की बहुत बहुत शुभकामनायें-

    RECENT POST : पाँच दोहे,

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ....माँ को वंदन

    ReplyDelete
  8. ह्रदय से आयी पुकार...अश्रुत कैसे हो....

    ReplyDelete
  9. माँ मुझे आने तो दो ....
    Labels: अभिलाषा, कन्या, जन्म, हिन्दी कविता ।
    आद्या शक्ति माँ सुखदायिनी ...!!
    हे माँ मुझे आने दो ....
    अपने संसार में ...
    नव राग प्रबल गाने दो ....


    शक्ति दायिनी...
    माँ तुम हो मेरी ...
    आस मेरी ...मुझमें उल्लास भरो ....!!

    भाई जैसा ...
    मेरी शिराओं में भी ....
    चेतना का संचार करो .....
    माँ मुझसे भी तो प्यार करो ....!!

    छल छल कर दुनिया छलती है ....
    तुम तो न जग का हिस्सा बनो .....
    मुझे जीवन दो पालो-पोसो ....
    नव-शक्ति का किस्सा बनो ...


    जब तुम जग से भिड़ पाओगी .....
    अपनी छाया फिर देखो तुम ...
    जग से मैं भी लड़ जाऊँगी ...
    पोसूंगी तब अपने सपने .....
    और एक उड़ान पा जाऊँगी ....!!

    माँ मुझे आने तो दो ....
    अपने संसार में ....
    नव राग प्रबल गाने तो दो ...!!
    **************************************
    Posted by Anupama Tripathi

    मत मारो मुझे पूतना बन ,
    क्योंकि यहां न कोई कृष्ण
    अब -

    सिर्फ बचे हैं कंस।

    ReplyDelete
  10. हम सभी ईश्वर के रूप में शक्ति पूजक हैं .....दुर्गा हों या कृष्ण ....शक्ति के दो भिन्न रूप ....कृष्ण तो वो प्रबल शक्ति हैं जो स्वयं तो बचेंगे ही ....साथ ही हम सब की भी रक्षा करेंगे .....कृष्ण से ही संसार है .....!!

    ReplyDelete
  11. नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें .....

    ReplyDelete
  12. भक्ति भरी पुकार ..नवरात्रि की बहुत बहुत शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  13. निश्चल वंदन - बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  14. माँ की स्तुति में बहद सुन्दर शब्दों का गुलदस्ता ... नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  15. माँ से ही करे पुकार , दुनिया जो अनसुनी हो !
    मार्मिक !

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  17. माँ मुझे आने तो दो ....
    अपने संसार में ....
    नव राग प्रबल गाने तो दो ...!!
    भावमय करते शब्‍दों का संगम ....

    ReplyDelete
  18. नवराग निकलेगा और जगत को गुंजित करेगा।

    ReplyDelete
  19. प्रांजल भाषा में अप्रतिम भावाभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  20. आप सभी का हृदय से आभार इस कृति पर अपने विचार दिये ....माँ दुर्गा दुर्गति दूर करती हैं ....उन्हीं से ये प्रार्थना है कि हम स्त्रियॉं को ऐसी शक्ति दें कि अपने ही भ्रूण को नाश करने का विचार भी कभी न आए ....और हम गर्व से कन्या को जन्म दे सकें ....!!उसे सगर्व पाल पोस कर बड़ा कर सकें ....!!

    ReplyDelete
  21. करुण पुकार किसी भी मां के ह्रदय को आर्द्र बना देती है . बहुत सुन्दर दी.

    ReplyDelete

  22. माँ मुझे आने तो दो ....
    अपने संसार में ....
    नव राग प्रबल गाने तो दो ...!!--------

    माँ दुर्गा को प्रतीक मानकर नारी शक्ति को
    बड़ी गहनता से उजागर किया है----
    बहुत सुंदर
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    सादर

    आग्रह है- मेरे ब्लॉग में भी समल्लित हों
    पीड़ाओं का आग्रह---
    http://jyoti-khare.blogspot.in


    ReplyDelete
  23. बधाई हो
    अच्छी कविता बन पडी है

    ReplyDelete
  24. क्या बात है कि कोई कविता नहीं डाल रही हैं ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा लगा अमृता जी आपने याद किया …। कुछ दिनों से यात्रा ही यात्रा चल रही है। ....बस अब शीघ्र ही डालती हूँ। …।!!

      Delete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!