नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

30 April, 2011

री कोयल .....!!

प्रसुप्त  तन्द्रिल से ..
 मेरे मन  के -
हंसकर खोल नयन ....
और -
करता हुआ प्रहार ..
तम पर -
तम को चीरता हुआ ..
व्योम पर-
उदित हुआ अरुणाभ ....!
भर  मुकुलित  घन ....!!
स्मित हर्षित मन ...
ग्रहण किया मैंने ...
अंजुली से ...
अंतस के अंचल में ..
अरुषी का पावन स्पर्श ....!!
सहसा .....  
श्रवण किया मैंने ...
कोयल का
मदमात सारंग सा ....
कुहू कुहू का वो
अचल पंचम स्वर ....!!
समन्वित कर ... 
पाया अद्भुत आल्हाद ..!
द्विगुणित करता  उन्माद ....!!


झर झर सी झरती   
माधुरी  की 
अमृत बेला  में ..
सरस ......
भींजता  हुआ ..
सुरमई रागमयी ........ 
अनुरागमयी ..
मेरा मन बोल उठा ......!!


री कोयल ..
कैसा जुड़ गया है ...
तेरा मन मुझसे ..
कहीं भी जाऊं 
तू मेरा साथ 
क्यों नहीं छोड़ती है ..
एक डोर है जीवन की ..
तुझे मुझसे ही जोड़ती है ....!!


तेरे ही सुरों से मेरी 
गूंध कर बिखरे हुए फूलों की 
बन गयी माला ...!!
अब परिमल बयार ..
जीवन सींचती है ....
एक डोर है जीवन की 
तुझे मुझ से ही जोड़ती है ....!!
री कोयल......
कैसा जुड़ गया है ..
तेरा मन मुझसे ..
कहीं भी जाऊं 
तू मेरा साथ 
नहीं छोड़ती है ..
नहीं छोड़ती है ......!!!


सात स्वरों में से कोयल का स्वर पंचम -यानि(प) होता है |पशु -पक्षी अपने कंठ से कोई भी एक ही सुर का प्रयोग कर सकते हैं |मनुष्य ही एक ऐसा जीव  है जो सात स्वर अपने कंठ से निकाल सकता है |कोयल हमेशा पंचम स्वर में ही गाती है ....!इसलिए सात स्वर माँ सरस्वती के अनुपम वरदान हैं मानव जाती को ....!!

स्वर दो प्रकार के होते हैं -
१-चल (जिनके शुद्ध और कोमल दो रूप होते हैं |जैसे रे (रिशब) ग(गंधार )म(मध्यम) ध (धैवत ) और नि (निषाद ))
२-अचल (जिनका सिर्फ शुद्ध रूप ही होता है |जैसे सा (षडज) और प (पंचम))|तो प अचल स्वर कहलाता है |


मदमात सारंग -राग का नाम है |

34 comments:

  1. बहुत सुन्दर शब्द रचना.
    कोयल के पंचम स्वर के माध्यम से बहुत बढ़िया जानकारी दी है आपने.
    बहुत आभार.

    ReplyDelete
  2. जितनी सुन्दर कविता, सुरों की उतनी सुगढ़ व्याख्या।

    ReplyDelete
  3. सचमुच कोकिल कहीं भी बोले सभी के मन का कोई तार बज उठता है, संगीत मय सुंदर कविता के लिये बधाई !

    ReplyDelete
  4. कहीं भी जाऊं
    तू मेरा साथ
    नहीं छोड़ती है ..
    नहीं छोड़ती है ......!!!


    सात स्वरों में से कोयल का स्वर पंचम -यानि(प) होता है /bahut sunder rachanaa.kauitaa ke saath swaron ka bhi aapse gyaan mil raha hai.thanks.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर शब्द रचना.
    बहुत बढ़िया जानकारी दी है आपने.
    बहुत आभार.

    ReplyDelete
  6. Adbhut aahlad se bharti hui rachana..hriday pancham sur se jur sa gaya...dhanyvad...

    ReplyDelete
  7. इस बेहतरीन रचना के साथ सुरों के विषय में जानकारी भी रोचक रही.

    ReplyDelete
  8. इतने सुन्दर शब्द और भाव हैं के रचना बार बार पढने को उकसाती है...अआपकी लेखनी को नमन.
    नीरज

    ReplyDelete
  9. कविता काफ़ी अच्छी लगी।
    नीचे जो सुरों के बारे में जानकारी दी है, उस श्रृंखला को आगे बढाएं। इस बारे में और जानने की इच्छा प्रबल हो गई है।

    ReplyDelete
  10. कविता और व्याख्या दोनों ही अति- सुंदर...बढ़िया कविता के लिए हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  11. बहुत खूबसूरत एवं रसमयी रचना है बिलकुल कोयल की सुरीली तान सी ! गज़ब का शब्द संयोजन है और लाजवाब प्रस्तुतीकरण ! बहुत दिनों के बाद संगीत विषयक यह जानकारी पढ़ मन मुदित हो गया ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. सुगढ़ ,सुरभित और सुभाषित कविता .शब्द लहरियों के साथ हम भी प्रवाहमान रहे . अद्भुत . आभार .

    ReplyDelete
  13. Thanksfor taking my post to charcha manch.

    मनोज जी नमस्कार -सुंदर ,विस्तृत और बढ़िया चर्चा |
    मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद |आपके इतने बढ़िया सुझाव के लिए आभार |अमल ज़रूर करूंगी |

    ReplyDelete
  14. झर झर सी झरती
    माधुरी की
    अमृत बेला में ..
    सरस ......
    भींजता हुआ ..
    सुरमई रागमयी ........
    अनुरागमयी ..
    मेरा मन बोल उठा ......!!


    अत्यंत मधुर कविता है, बहुत सुन्दर।
    सुरों की भी सुन्दर व्याख्या।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर रचना , बहुत अच्छा शब्द संयोजन । संगीतमयी कविता ।

    ReplyDelete
  16. वाह ... कितना मधुर ... आत्मा को .... अंतस को छूता हुवा .... कमाल की अभिव्यक्ति है ....

    ReplyDelete
  17. अंतस के अंचल में ..
    अरुषी का पावन स्पर्श ....!!
    सहसा .....
    श्रवण किया मैंने ...

    Beautiful creation , Anupama ji . It's a pleasure to read something over 'Pancham swar' of a bird.

    Very new to me.

    .

    ReplyDelete
  18. अरे वाह!
    कोयल के साथ-साथ!
    सुरों पर भी सुन्दर कविता!

    ReplyDelete
  19. कोयल की मीठी कुहू -कुहू तुम्हारी इस अनुपम कविता के साथ कानो मैं रस घोल गई, बहुत- बहुत बधाई इस अति सुन्दर कविता के लिए , साथ ही जो जानकारी हिंदी क्लास्सिकल संगीत के बारे मैं दिया बहुत ही अच्छा लगा जानकर !!!!!!

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर खूबसूरत चित्रण| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  21. वाह... कोयल की कुहुक सी मधुर रचना, और सुन्दर जानकारी....

    ReplyDelete
  22. री कोयल ..
    कैसा जुड़ गया है ...
    तेरा मन मुझसे ..
    कहीं भी जाऊं
    तू मेरा साथ
    क्यों नहीं छोड़ती है ..
    एक डोर है जीवन की ..
    तुझे मुझसे ही जोड़ती है ....!!
    achha hai n

    ReplyDelete
  23. न सिर्फ सुंदर कविता बल्कि सुरों की सुंदर व्याख्या!
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...सुरों की अच्छी जानकारी दी है

    ReplyDelete
  25. very beautiful poem and very relevant information.Very nice idea of giving music tips with ur poems

    ReplyDelete
  26. झर झर सी झरती
    माधुरी की
    अमृत बेला में ..

    सरस ......
    भींजता हुआ ..

    सुरमई रागमयी ........
    अनुरागमयी ..
    मेरा मन बोल उठा ......!!

    Sachmuch man ki baatein rasbhari ho gayi...bahut khoob....

    ReplyDelete
  27. आप की बहुत अच्छी प्रस्तुति. के लिए आपका बहुत बहुत आभार आपको ......... अनेकानेक शुभकामनायें.
    मेरे ब्लॉग पर आने एवं अपना बहुमूल्य कमेन्ट देने के लिए धन्यवाद , ऐसे ही आशीर्वाद देते रहें
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2011/04/blog-post_26.html

    ReplyDelete
  28. संगीत की समझ तो नहीं है हमें , पर कोयल अगर पंचम में कूकती है . तो शायद अब पंचम की पहचान हो गयी . बहुत शीतल बहुत मधुर | आत्मा को स्पर्श करने वाला स्वर . और उसका वर्णन आपकी कविता में भी वैसा ही उतरा है .

    ReplyDelete
  29. "री कोयल ..
    कैसा जुड़ गया है ...
    तेरा मन मुझसे ..
    कहीं भी जाऊं
    तू मेरा साथ
    क्यों नहीं छोड़ती है ..
    एक डोर है जीवन की ..
    तुझे मुझसे ही जोड़ती है ....!!"

    भावविभोर कर देने वाली इन पंक्तियों ने मन मोह लिया.

    सादर

    ReplyDelete
  30. कोयल के स्वर जैसा है आपका शब्द चयन ....बेहद मधुर ....

    ReplyDelete
  31. सभी गुनी जानो को सस्नेह नमस्कार |आप सभी ने मेरे इस प्रयास को इतना सराहा मैं आभारी हूँ |कोयल का पंचम स्वर तो मेरी आत्मा ही है|आप इससे जुड़ गए -मेरा प्रयास सफल रहा |अपना आशीष और स्नेह बनाये रखें -एक बार पुनः धन्यवाद .....!!

    ReplyDelete
  32. यद्यपि मुझे शास्त्रीय संगीत कि जरा भी समझ नहीं है फिर भी आपकी कविता के संगीत को अपने अन्दर...बहुत गहरे तक महसूश करता हूँ मैं हमेशा ही....मुझे नाज है कि मैं इस दौर में हूँ जिसमे कि आपकी लिखने से ऐसे मधुर संगीत कि बरसात होती है...

    ReplyDelete
  33. bahut sunder rachana shbd-chayan bahut khoobsurat hain

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!