नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

25 October, 2013

स्वप्न न बुनूँ ....तो क्या करूँ ....??


ताना बाना है जीवन का
भुवन की कलाकृति
आँखें टकटकी लगाए ताक रही हैं
अनंत स्मिति.....!!

घड़ी की टिक टिक चलती
समय जैसे  चलता चलता भी ...रुका हुआ

शिशिर की अलसाई हुई सी प्रात
झीनी झीनी सी धूप खिलती शनैः शनैः
शीतल अनिल  संग संदेसवाहक आए हैं
सँदेसा लाये हैं
उदीप्त हुई आकांक्षाएँ हैं
......ले आए हैं मधुमालती की सुरभि से भरे
कुछ कोमल शब्द मुझ तक
...अनिंद्य आनंद दिगंतर
तरंगित भाव शिराएँ हैं  ....!!

गुनगुनी सी धूप और ये कोमल शब्द-
सुरभित अंतर
कल्पना दिगंतर
भाव  झरते निरंतर
स्वप्न न बुनूँ ....तो क्या करूँ ....??




35 comments:

  1. बिलकुल ... कुछ और नहीं बस ऐसी ही रचनाओं का सृजन कीजिये .... स्वप्न बुनेंगे तो काव्य यूं ही बहेगा ..... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. माहौल ऐसा हो तो स्वप्न भी स्वर्णिम सा आये..मन आह्लादित कर जाए. अति सुन्दर.

    ReplyDelete
  3. स्वप्न बुनिए और उनको पंख लगने दीजिये , अम्बर में ऊँची उडान विचारों को नई ऊंचाई देंगी . बहुत सुन्दर दी .

    ReplyDelete
  4. सुवासित हो रहा है ये स्वप्न भी.. अति सुन्दर..

    ReplyDelete
  5. हर दिन बुनता स्वप्न नया मैं,
    बना क्षितिज की चादर सा मैं।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर ..... आपके शब्द सम्मोहित करते हैं ....

    ReplyDelete
  7. शब्दों का सम्मोहन हैं भावों की सुर सरिता है ,बहुत खूब

    ReplyDelete
  8. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने..

    ReplyDelete
  9. स्वप्न बुनते रहिये .... सुन्दर रचना !!

    ReplyDelete
  10. अति सुन्दर रचना..
    :-)

    ReplyDelete
  11. Prakriti ke sur pratidhwanit ho rahe hain.. Ek painting si kavita..

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (28.10.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    ReplyDelete
    Replies

    1. बहुत बहुत आभार आपका ...हृदय से ....!!

      Delete
  13. गुनगुनाती ध्प्पो ओर प्रेम का एहसास ... स्वप्न स्वत: ही आ जाते हैं ...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  15. सुंदर सम्मोहित करते शब्द ....

    ReplyDelete
  16. ताना बाना है जीवन का ......
    भुवन की कलाकृति ....
    आँखें टकटकी लगाए ताक रही हैं .....
    अनंत स्मिति.....
    घड़ी की टिक टिक चलती ......


    समय जैसे चलता चलता भी ...रुका हुआ ....

    शिशिर की अलसाई हुई सी प्रात ... .....
    झीनी झीनी सी धूप खिलती शनैः शनैः ........
    शीतल अनिल संग संदेसवाहक आए हैं ....
    सँदेसा लाये हैं ....
    उदीप्त हुई आकांक्षाएँ हैं .....
    ......ले आए हैं मधुमालती की सुरभि से भरे ...
    कुछ कोमल शब्द मुझ तक ....
    ...अनिंद्य आनंद दिगंतर ....
    तरंगित भाव शिराएँ हैं ....!!

    गुनगुनी सी धूप और ये कोमल शब्द-
    सुरभित अंतर ...
    कल्पना दिगंतर ....
    भाव झरते निरंतर ....
    स्वप्न न बुनूँ ....तो क्या करूँ ....??

    रूपकत्व लिए बेहतरीन रचना।

    ReplyDelete
  17. गुनगुनी सी धूप और ये कोमल शब्द-
    सुरभित अंतर ...
    कल्पना दिगंतर ....
    भाव झरते निरंतर ....
    स्वप्न न बुनूँ ....तो क्या करूँ ....??
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !
    नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

    ReplyDelete
  18. गुनगुनी सी धूप और ये कोमल शब्द-
    सुरभित अंतर ...
    कल्पना दिगंतर ....
    भाव झरते निरंतर ....
    स्वप्न न बुनूँ ....तो क्या करूँ ....??
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !
    नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

    ReplyDelete
  19. गुनगुनी सी धूप और ये कोमल शब्द-
    सुरभित अंतर ...
    कल्पना दिगंतर ....
    भाव झरते निरंतर ....
    स्वप्न न बुनूँ ....तो क्या करूँ ....??
    ...वाह! कोमल अहसासों की बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  20. शिशिर की अलसाई हुई सी प्रात ... .....
    झीनी झीनी सी धूप खिलती शनैः शनैः ........
    शीतल अनिल संग संदेसवाहक आए हैं ....
    सँदेसा लाये हैं ....
    उदीप्त हुई आकांक्षाएँ हैं .....

    वाह, प्रकृति ऋतु और मनोभावों का अदभुत संमिश्रण।

    ReplyDelete
  21. स्वप्न में ही जीवन के आशय हैं,बुनना ही होगा

    ReplyDelete
  22. खूब स्वप्न बुनिये....तारों जड़े स्वप्न बुनिए....
    बहुत सुन्दर!!

    अनु

    ReplyDelete
  23. स्वप्न जीने की प्रेरणा हैं स्वप्न तो बुन ' ने ही होगे .उम्दा रचना

    ReplyDelete
  24. वाह- बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  25. गुनगुनी सी धूप और ये कोमल शब्द-
    सुरभित अंतर ...
    कल्पना दिगंतर ....
    भाव झरते निरंतर ....
    स्वप्न न बुनूँ ....तो क्या करूँ ....??
    ...वाह सम्मोहित करते भाव.....!!!!

    ReplyDelete
  26. अपने विचार देने हेतु आप सभी का हृदय से आभार ....!!!

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छा लेख
    मेरे ब्लॉग पर पधारे www.hinditime.com

    ReplyDelete
  28. बुना जाता रहे स्वप्न... बना रहे माहौल!

    सुन्दर अभिव्यक्ति, हमेशा की तरह!

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!