नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

26 December, 2010

अर्चना -(२०११ के लिए )

नवल -वर्ष की बात नवल हो -
जीवन में सौगात नवल हो -
नवल प्रभा से खिली हो उषा -
गौरव से मस्तक हो ऊँचा -

 सदा कर्मरत रहें हम सभी -
विजय पताका लहराए -
मधुर -सरस सुर गूंजे चाहूं दिस -
अनहद  नाद मन सुन जाए .

नवल स्पर्श हो खुशियों का -
ये गहराता तम हट जाए -
बंसी की  धुन सुन  कृष्णा की -
राधामय मन हो जाए -

प्रेम -पुष्प की सदा हो वर्षा -
सुरभिमय हो सबका जीवन -
यही अर्चना  प्रभु से मेरी    -
स्वीकार करो प्रभु मेरा वंदन......!!!!!


आप सभी को नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ..........!!!!

31 comments:

  1. बेहतरीन!

    आप को भी नव वर्ष की अग्रिम शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना!!!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  3. भगवान सबको नववर्ष मे सुख दे और हर दिन नववर्ष लेकर आये।

    ReplyDelete
  4. bahut shandaar...

    nav-varsh ki bahut bahut subhkamnayen....aapko bhi...:)

    ReplyDelete
  5. Very beautiful "RACHNA" for the "NEW YEAR" to start with.
    May this NEW YEAR brings all happiness to you and your family and you keep writing such good poems for us.
    '"HAPPY NEW YEAR"

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आपको भी सपरिवार नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना . नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  8. हर पल यही है दिल की दुआ आपके लिए
    खुशियों भरा हो साल नया आपके लिए...
    नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  9. नववर्ष की अग्रिम शुभकामनाएं आपको भी.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना! आपको भी सपरिवार नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  11. प्रभु आपकी बातें सुन ले..
    आपके लिए भी नववर्ष खुशियाँ लेकर आये..

    ReplyDelete
  12. नवल -वर्ष की बात नवल हो -
    जीवन में सौगात नवल हो -
    नवल प्रभा से खिली हो उषा -
    गौरव से मस्तक हो ऊँचा -

    नए वर्ष पर काव्यमय शुभकामना अच्छी लगी. कविता की लयात्मकता आपके कवि मन को चित्रित करती है.
    मेरी हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  14. मन की सुंदर अभिव्यक्ति दिल के संवेदनशील तारों को झंकृत कर गयी।नव वर्ष 2011 की अशेष शुभकामनाओं के साथ।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना..अच्छी लगी. नव वर्ष पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ.

    _____________
    'पाखी की दुनिया' में नए साल का पहला दिन...

    ReplyDelete
  16. प्रेम -पुष्प की सदा हो वर्षा -
    सुरभिमय हो सबका जीवन -
    यही अर्चना प्रभु से मेरी -
    स्वीकार करो प्रभु मेरा वंदन......!!!!!
    xxxxxxxxxxxxxx
    बहुत उम्दा सोच को सार्थक शब्द दिए हैं आपने ...काश ऐसा सब सोच पाते ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  17. नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें स्वीकार करें

    ReplyDelete
  18. सुंदर अभिव्यक्ति ! आपको भी नए वर्ष की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  19. शाबाश ...लगता है लोगों को अपना अहसास कराने में कामयाब रहोगी ...हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  20. Bahut hi sunder rachana . tumhe bhi naya varsh shubh-dayak ho swasthyadayak ho, bahut bahut pyar sahit sukh kamnayen.

    ReplyDelete
  21. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... जल कर ढहना कहाँ रुका है ?

    ReplyDelete
  22. मधुर -सरस सुर गूंजे चाहूं दिस -
    अनहद नाद मन सुन जाए .

    अनुपम भाव,सुन्दर प्रस्तुति.
    अनहद नाद मन सुन जाये
    तो सच में ही बेडा पार हो जाये.

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर प्रार्थना...
    नववर्ष मंगलमय हो....
    सादर.

    ReplyDelete
  24. खूबसूरत रचना ....आपको नववर्ष की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  25. सुन्दर प्रार्थना...
    आपको नववर्ष की शुभकामनाएं
    सादर.

    ReplyDelete
  26. सदा कर्मरत रहें हम सभी -
    विजय पताका लहराए -
    मधुर -सरस सुर गूंजे चाहूं दिस -
    अनहद नाद मन सुन जाए .

    नव-वर्ष की मंगल कामना के शब्द , मंत्र बन गये हैं , वाह !!!

    ReplyDelete
  27. संगीता जी बहुत बहुत आभार इस रचना को एक वर्ष बाद भी नयापन देने के लिए .... ...

    ReplyDelete
  28. लयात्मकता आप के अन्तर्मन में विद्यमान है। इस सुंदर प्रस्तुति को पढ़वाने के लिए बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!