नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

01 May, 2012

रेंगती सी मानवता ...!

 सदा तेज ताप का प्रताप ...
आग  बरसाती ग्रीष्म ....
   टप-टप टपकता पसीना ....
इसके अलावा जानती ही नहीं क्या है जीना ...!!

इस जहाँ में कब आई ...पता नहीं ...
क्या है ध्येय वो नहीं जानती ,
कहाँ जाना है ...पता नहीं ...
पति का नाम ...?
हंसकर ...शरमाकर ...कहती है ...
ले नहीं सकती ...
न अक्षर ज्ञान .....
न  कुछ भान  ...
क्या कोई मान ...?
फिर भी इंसान की ही  संतान ....
कईयां(गोदी ) पर टाँगे ..
अपनी अनमोल पूंजी  ...
कृष्ण हों, बुद्ध हों ...गाँधी हों ...
मेरे लिए किसी ने क्या किया ...?
मैं हूँ भारत कि माटी  पर....
चीथड़े लपेटे ....
 रेंगती सी मानवता ...!

आज एक मई है .....मजदूर दिवस ......पिछले दिनों एक महिला मजदूर से बस दो शब्द बात  की .....मन व्यथित हो गया .......!!!बस एक बात समझ में आई .........ईश्वर का दिया हुआ बहुत कुछ है हमारे पास ....बस हम कृतज्ञ हों और कुछ सकारात्मक कर सकें ऐसे लोगों के लिए .....तभी जीवन सार्थक होगा .....!!

35 comments:

  1. मैं हूँ भारत की माटी पर....
    चीथड़े लपेटे ....
    रेंगती सी मानवता ...!

    बहुत मर्म स्पर्शी रचना ... मजदूर दिवस पर सार्थक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. जब हृदय में भाव जगते हैं
    तो कार्य भी जरूर होता है,
    बशर्ते भावों को सच्चे हृदय से
    पुष्ट किया जाए और उस ओर
    चलने की कोशिश की जाए.

    आपकी सुन्दर प्रस्तुति आपके पावन भावों की परिचायक है.
    भावभीनी प्रस्तुति के लिए आभार.

    लगता है मेरा ब्लॉग अब विस्मृत हो गया है.

    ReplyDelete
  3. चित्र आपके शब्दों को अनुनादित कर गया।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही संवेदनशील रचना ....बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  5. कितनी सच्चाई बयान कर रही है आपकी रचना .....सशक्त रचना उन्नत भाव

    ReplyDelete
  6. श्रम की प्रतिष्ठा सर्वोपरि है लेकिन इसे उचित जगह नहीं मिल पाई. संवेदनशील कविता .

    ReplyDelete
  7. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बुधवारीय चर्चा-मंच पर |

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार रविकर जी .मेरी कृति को चर्चा मंच पर रखने के लिए ....!!

      Delete
  8. आज के दिन पर बहुत ही गहरी अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  9. विपन्नता का सत्य स्वरुप मर्माहत करने वाला है!
    सार्थक प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  10. मन को छू लेने वाली रचना..

    सच है यदि इनके लिए सार्थक कुछ न किया, तो जीवन पा क्या किया...

    ReplyDelete
  11. आपने जो महसूस किया एक मजदूर महिला से बात कर और उसे शब्दों में ढाला बहुत ही सही लगा मुझे , हमारी सकारात्मक सोंच बहुत कुछ कर सकती है |

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया....
    सार्थक और सामयिक रचना के लिए आपका आभार .

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  13. मजदूर दिवस पर बहुत सुंदर सार्थक प्रस्तुति.....

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    ReplyDelete
  14. कुछ सकारात्मक कर सकें ऐसे लोगों के लिए .....तभी जीवन सार्थक होगा .....!!
    बिल्‍कुल सही कहा है आपने ...

    ReplyDelete
  15. भावों को बेहतर तरीके से अभिव्यक्त किया है ...!

    ReplyDelete
  16. मैं हूँ भारत की माटी पर....
    चीथड़े लपेटे ....
    रेंगती सी मानवता ...!
    मर्मस्पर्शी ...

    ReplyDelete
  17. bikul sahi aur sarthakl soch sabhi ko milkar chalna hoga

    ReplyDelete
  18. मजदूर दिवस पर एक सार्थक कविता!!

    ReplyDelete
  19. हम हिंद की हैं नारियां सुलगती चिंगारियां ;सार्थक पोस्ट शानदार शब्द चयन .|

    ReplyDelete
  20. रेंगती सी मानवता ...!
    बहुत सुन्दर बयाँ इस रेंगती मानवता का

    ReplyDelete
  21. मर्माहत करती रचना, सचमुच इस दिशा में पहल तो करनी ही चाहिये.

    ReplyDelete
  22. आज के दिवस पर दर्द में लिपटी मानवता और आपकी अभिव्यक्ति ....बहुत खूब

    ReplyDelete
  23. मजदूर दिवस पर एक सार्थक! रचना...बहुय सुन्दर..अनुपमा जी..

    ReplyDelete
  24. सार्थक और सामयिक रचना .....आपका आभार .

    ReplyDelete
  25. एकदम सटीक कविता है और अंत में दिया आपका सन्देश भी!!

    ReplyDelete
  26. मई दिवस पर बहुत सुंदर संदेश देती सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  27. बहुत ही भावविभोर करती हृदयस्पर्शी रचना...

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सार्थक विचार.. सच, ईश्वर ने हमें इतना कुछ दिया है, कृतज्ञता चाहिए बस, सब में थोड़ी-थोड़ी...
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  29. मानवता का दुखता अध्याय ...

    ReplyDelete
  30. जिंदगी के बहुत ही मार्मिक पहलू को उजागर करती जिम्मेदार विचारोत्प्रेरक रचना....
    सादर....

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!