नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

03 May, 2011

धरा को स्वर्ग बनाएं ....!!!





जाग गया था मन ...
ब्रह्म मुहूर्त में ..
सुन रही थी ..
ढेरों वृहगों का कलरव ....!!
उड़ते हुए नीलगगन में ....
निश्चिन्त निर्द्वंद्व ...
करते हुए आपस में संवाद ....!!
सम्मिश्रित थे  ढेरों नाद ....!!
पर पाखी थे समन्वित ..!!
क्रियाशील ....!!
अपने  कर्त्तव्य  पर क्रियान्वित ..! 
कहीं ये ही तो नहीं
 हमारे पूर्वज ...!
दे रहे हैं आशीर्वाद ..
प्रभु पाद ...!

अद्भुत नाद ...
कैसे धीरे धीरे
हर ले रही थी ....
मन की पीड़ा ..
हृद के अवसाद ....!!
और नयन पट को .......
देती थी  एक मरीचि ...
अमर भावना सी अभिरुचि ...
जागे सुरुचि..
मिले शुभ ऊर्जा ..
हाँ है ..जीवन में ..
कर्म ही  तो पूजा ..!!
अब विचार 
आये ना कोई दूजा ..


चलो सखी ..
जमुना  से जल भर लायें .....
सुरा गऊअन के गुबर सों 
अंगनवा लीप ...
गज-मुतियन चौक पुरायें ...!!  
चलो सखी..
अपनी ही धरा को स्वर्ग बनाएं ...
धरा को स्वर्ग बनाएं ......!!!!!
Dreams know no territories and thoughts know no boundaries.My dream soars high like a skylark  ....and I want to see my world .....the place around me as heaven ....!Mere thinking is not enough .Rooted back to my culture ,my home  I see that the first step starts from my house .For a lady her ''HOME SWEET HOME ''........where ever she lives ...with all her circumstances ....without comparing it with others ......My best wishes to all women ......!!!!!!!!

44 comments:

  1. आपको पढ़ना संगीत सुनने के बराबर है अनु दी..खनखनाते हैं कानों में शब्द..! बहुत प्यारी अभिव्यक्ति है .

    ReplyDelete
  2. सबका सम्मिलित प्रयास और धरा स्वर्ग हो जायेगी।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही खुबसुरत और एहसासों से भरी रचना।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति ....प्रयास सार्थक होना चाहिए

    ReplyDelete
  5. खूब सुरत अहसास आखिर दिल के किसी कोने से निकल ही जाते है--पहली बार आने का मोका मिला है --लगता है सार्थक जाएगा ;;

    ReplyDelete
  6. Dreams know no territories and thoughts know no boundaries ....my dream soars high like a skylark ...and I want to see my world ...the place around as heaven ....!!Mere thinking is not enough .Rooted back to my culture ,my home ,I see that the first step starts from my house .....!!A lady's HOME SWEET HOME ....where ever she lives ...with all her circumstances ....without comparing it with others .....!!!!!!!MY BEST WISHES TO ALL WOMEN ....!!

    ReplyDelete
  7. चलो सखी ..
    जमुना से जल भर लायें .....
    bachpan me kuch isi tarah gaate the n hum ... aapne yaad dila diya aur main taiyaar hun chalne ko

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर और भावपूर्ण नयी सुबह की जैसी है तुम्हारी अद्भुत कविता, भोर की वेला मैं पक्षिओं के कलरव मैं एक नयी सुबह का स्वागत अगर हम सभी इसी आशा के साथ करे तो जीवन मैं कोई गिला-शिकवा न रहे और सचमुच प्रथ्वी स्वर्ग बन जाए!!!! अति सुंदर रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई!!!!

    ReplyDelete
  9. बहुत मनमोहक शब्दचित्र प्रस्तुत किया है आपने.बाबूषा जी ने बिलकुल सही कहा है.

    सादर

    ReplyDelete
  10. कविता जो संगीत की तरह खनकती है कानों में | जिसका स्वर प्रकृति से बंधा है | सुबह की तरह ताजगी लिए हुए |

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर प्रासंगिक सन्देश ......सुंदर आव्हान

    ReplyDelete
  12. @संगीता जी- आपके शुभ वचनों के लिए बहुत बहुत धन्यवाद |आपके सुझाव पढ़कर मैंने पुनः कुछ शब्द जोड़े हैं अपनी कविता में |ab mujhe apni kavita behtar lag rahi hai .
    आगे भी मार्गदर्शन देते रहिएगा |

    ReplyDelete
  13. आपकी कविता नाद है अनुपमा जी..अनहद नाद ....जैसे जैसे भावों के अन्दर प्रवेश करो ...संगीत और गहरा होता जाता है....
    भाग्यशाली हूँ कि आपको पढ़ पाता हूँ ....सुन पाता हूँ !

    ReplyDelete
  14. खूबसूरत शब्द खूबसूरत चित्र और खूबसूरत भाव...तीनो प्रचुर मात्रा में हैं आपकी इस रचना में...

    नीरज

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना!
    --
    आज के चर्चा मंच पर आपकी चर्चा विशेषरूप से लगाई गई है!

    ReplyDelete
  16. कल्पना और भावों का सुंदर संयोजन |इस सुंदर कविता के लिए बधाई और सुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  17. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (5-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. bahut hi pyari rachna me to apki is subhe ki bela me kho si gayi aur bahut aanand aaya.

    ReplyDelete
  19. gaj mutiyan chauk puraayen ....
    pravaah hi pravaah hai ......
    veerubhai .

    ReplyDelete
  20. उड़ते हुए नीलगगन में ....निश्चिन्त निर्द्वंद्व ...[Image]करते हुए आपस में संवाद ....!!सम्मिश्रित थे ढेरों नाद ....!!पर पाखी थे समन्वित ..!!क्रियाशील ....!!अपने कर्त्तव्य पर क्रियान्वित ..! कहीं ये ही तो नहीं
    हमारे पूर्वज ...!दे रहे हैं आशीर्वाद ..[Image]प्रभु पाद ...!

    अद्भुत नाद ..आपकी कल्पनाएँ अनंत हैं.आपके शब्दों का चयन का मैं क्या कहूँ /आपकी रचनाये बे मिसाल हैं /बधाई आपको /चर्चा मंच मैं शामिल होने के लिए भी बधाई /.

    ReplyDelete
  21. सुबह सुबह सकारात्मक सोच से रची सजी इतनी सुन्दर रचना पढ़ कर मन मुदित हो गया ! आपको बहुत बहुत बधाई ! अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  22. sakaratmak soch ka nihitarth ,prashansaniy prayas.


    जागे सुरुचि..
    मिले शुभ ऊर्जा ..
    हाँ है ..जीवन में ..
    कर्म ही तो पूजा ..!!
    अब विचार
    आये ना कोई दूजा ..
    man ko chhu gaye ji .
    shukriya ji .

    ReplyDelete
  23. JAGE SURUCHI, MELE SHUBH URJHA, HA HAIN JEEVEN ME, KARM HE TO PUJA, AB VICHAR AYA NA KYOE DUJA ... BRILLIANT THOUGHT BRILLIANT EXPRESSION.
    VERY GOOD THOUGHTS IN YOUR COMMENTS ALSO..

    ReplyDelete
  24. आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत ख़ूबसूरत और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  25. पावन,मधुर,कोमल भावों का अनुपम संयोजन जो आपके ह्रदय की पवित्रता को दर्शाता है.पहली बार आपके ब्लॉग पर आकार नवीन सी चेतना पाकर मन निहाल हों गया.
    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  26. सुंदर भाव व शब्दों और मन मोहक चित्रों द्वारा एक स्वर्ग तो आपके ब्लॉग पर उतर ही आता है ! बधाई !

    ReplyDelete
  27. anupma ji aap ka sundr susjjit v mohk blog dekhne ka saubhagy prapt huaa
    aap ne meri rchna pdhne ki kripa kee hardik aabhar
    bhartiy snskriti grv krne layk hi hai sadhuvad
    kripa bnaye rhiye
    dr.ved vyathit
    dr.vedvyathit@gmail.com
    http://sahityasrajakved.blogspot.com
    098884288

    ReplyDelete
  28. चलो सखी ..
    जमुना से जल भर लायें .....
    सुरा गऊअन के गुबर सों
    अंगनवा लीप ...
    गज-मुतियन चौक पुरायें

    किसी गाँव की मिटटी की महक है इस कविता में ....
    सुंदर भाव ....

    ReplyDelete
  29. मधुर,कोमल भावों का अनुपम संयोजन.

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर अनुपमा जी
    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी उपस्थिति चाहूँगा
    :)) योगेश अमाना =
    http://yogeshamana.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. चलो सखी ..
    जमुना से जल भर लायें .....
    सुरा गऊअन के गुबर सों
    अंगनवा लीप ...
    गज-मुतियन चौक पुरायें
    बेहद खूबसूरत भावों को समेटा है आपने इस रचना में ...अनुपम ..।

    ReplyDelete
  32. वाह बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  33. I am overwhelmed by the comments and response from all of u ...I felt like giving my personal thanks this time...
    @Babusha-thanks a tonn ...!!
    @Pravin ji -I hope so ...!!
    @Satyam Shivam ji -thanks a lot .
    @Sangeeta ji -hriday se abhar ....!!
    @Darshan ji -samay samay par batate rahiyega ..sarthak gaya ki nahin ...thanks
    @Rashmi ji -bahut hi achchha laga aapki tippani padh kar .bahut bahut dhanyavad

    ReplyDelete
  34. @Suman -जमुना जल से भरी प्रेम की गगरिया देख रही हो न ...!!
    तुम कल्पना भी नहीं कर सकती हो मुझे तुम्हारी टिपण्णी पढ़ कर कितना हर्ष हुआ ....!!
    @yashwant ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .
    @Atul-thank you so much for all the appreciation and encouragement.
    @monica ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .
    @anand ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .

    ReplyDelete
  35. @neeraj ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .

    @shastri ji - बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .
    @jai krishna ji आपका .बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .
    @vandana ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .
    @anamika ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .आपका प्यार हमेशा मिलता रहा है ....!!ह्रदय से आभारी हूँ |

    ReplyDelete
  36. @veerubhai -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .
    @prerna -बहुत बहुत धन्यवाद .स्नेह बनाये रखिये . प्यार हमेशा मिलता रहा है ....!!ह्रदय से आभारी हूँ |
    @sadhana ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .आपका प्यार हमेशा मिलता रहा है ....!!ह्रदय से आभारी हूँ |बहुत अच्छा लगता है आकी टिपण्णी पढ़कर ...!!
    @uday veer ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .

    ReplyDelete
  37. sukriti ji
    main babushhha ji ki baat sme sammlit hun.
    sach shabd kya jaise sagar se seep sa moti chun kar lai hain aap.addhbhut lekhni .aur abhivykti to kammal ki hai.jaise-- sone pe suhaga---
    bahut hi behatreen jajbaat hain aapke andar jise badi hi khoob surati ke saath aapki kalam ne panno par ukera hai .
    bahut bahut badhai
    poonam

    ReplyDelete
  38. @meena -Its a delight to read ur comment .I always look forward to it .
    @babli ji -thank u so much ..!!
    @Rakesh kumar ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये.
    @Anita ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .आपका प्यार हमेशा मिलता रहा है ....!!ह्रदय से आभारी हूँ |बहुत अच्छा लगता है आकी टिपण्णी पढ़कर ...!!

    ReplyDelete
  39. @Vedvyathit ji thankyou so much .
    @Harkeerat heer ji -theek pahchana apne ...thank u so much .
    Kuwar Kusumesh ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .आपका प्यार हमेशा मिलता रहा है ....!!ह्रदय से आभारी हूँ |बहुत अच्छा लगता है आकी टिपण्णी पढ़कर ...!!
    @Yogesh ji -thank you so much.
    @mridula ji -बहुत बहुत धन्यवाद आपका .स्नेह बनाये रखिये .
    @ Sada ji -Thank you so much .

    ReplyDelete
  40. @Kajai kumar ji -Thank you so much.
    @Poonam ji -Thank you very very much.

    ReplyDelete
  41. @Kajai kumar ji -Thank you so much.
    @Poonam ji -Thank you very very much.

    ReplyDelete
  42. bahut pyaree abhivykti .
    Humare hee hath me hai ise swarg ya nark banana.......
    shubhkamnae

    ReplyDelete
  43. हम आपकी कविता के प्रवाह में स्वर लहरियों के नाद के साथ बहे जा रहे है , जरुरी नहीं की हर बार शब्द ही मिल जाए , हम तो मन ही मन गुने जा रहे है

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!