नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

07 May, 2011

स्वरोज सुर मंदिर (१)


मैं सरोज तुम ताल हो  मेरे ...
सरू से दूर कमल मुरझाये ...
ईमन यमन राग बिसराए ..
यमन राग मेरी  तुमसे है ........
निश्चय ही ........!!!!
मध्यम तीवर सुर लगाऊँ .........
जब लीन मगन मन सुर  साधूँ ....
तुममे खो जाऊं ...
आरोहन -अवरोहन सम्पूरण ......!!
अब रात्री का प्रथम प्रहर..
हरी भजन में ध्यान लगाऊँ .....!!

सब से पहले श्री मनोज जी का हार्दिक आभार व्यक्त करना चाहती हूँ जिन्होंने मुझे प्रेरित किया इस श्रंखला को प्रारंभ करने के लिए |
अब मेरी माँ, जिनका नाम श्रीमती सरोज अवस्थी था ,उनके नाम''सरोज '' में, अपने स्वरों को जोड़ कर ,मैंने अपने इस सुर मंदिर का नाम ''स्वरोज सुर मंदिर ''रखा है |माँ तो अब इस दुनियां में नहीं हैं |विदुषी थीं ...संस्कृत की ज्ञाता थीं |हम लोगों से घिरी रहकर ही वो खिली खिली रहती थीं ...!!बिलकुल इसी श्वेत ,स्निग्ध कमल की तरह ....!!-देखिये न ..उसकी परछाईं भी पानी में कितनी साफ़ दिख रही है ...!!ऐसी ही निश्छल -उज्जवल  थीं वो ...!!जो उनसे एक बार भी मिला ...कभी नहीं भूला उन्हें...!!मेरी तो माँ ही थीं ....मैन तो एक पल को भी नहीं भूल पाती उन्हें ...!!


जो कविता मैंने उनपर लिखी है वो उनके पूरे जीवन का निचोड़ ही कहती है ....!!माँ को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए ,उन्हें नमन करते हुए मैं इस श्रंखला को प्रारंभ कर रही हूँ |इस श्रंखला में समय समय पर आपको स्वरों से सम्बंधित   जानकारी देती रहूंगी |मेरी कोयल को भी धन्यवाद -उससे ऐसा नाता जुड़ा है मेरा .... मैं जहाँ भी जाती हूँ मेरा स्वरोज सुर मंदिर मेरे साथ साथ रहता है हमेशा........! प्रभु की असीम कृपा है |
                  संध्या दीपक का समय .....शाम सात बजे ...रात्री का प्रथम प्रहर शुरू होता है ....कानों में मुझे तानपुरे की वो अद्भुत नाद सुनाई देती है ......जो हृदय  के तार  झंकृत कर देती है और ...सहज ही मन  इश्वर से जोड़ देती है |माँ की याद में संध्या दीपक जलाते हुए आज मैं ''राग यमन''  की चर्चा कर रही हूँ  |क्योंकि वो इसी समय का राग है |
|मुग़ल काल में ईमन से अब ये यमन हो गया है |इसमें मध्यम (म )तीव्र स्वर प्रयोग किया जाता है |इसके गायन का समय -रात्री का प्रथम प्रहर है|सम्पूर्ण जाती का राग है |अर्थात सभी स्वरों का -सातों स्वरों का प्रयोग इस राग में किया जाता है |कोई भी स्वर वर्जित नहीं है |कल्याण ठाट का राग है |अभी मैंने आपको एक संक्षिप्त परिचय -राग यमन   का दिया है |आगे की श्रंखलाओं में इन्ही बातों  की चर्चा करती रहूंगी जिससे कि आप इस परिचय का अर्थ भी समझ सकें | 
            संगीत की बातें समझाना बहुत सहज नहीं है |ये एक ऐसी विधा है जो जन्म जन्मान्तर तक हमारे पास ही रहती है |और इसको समझाने के लिए भी लम्बा वक्त चाहिए |मैं उम्मीद करती हूँ आप भी इस विधा से धीरे धीरे वाबस्ता हो जायेंगे |प्रथम परिचय के लिए आज इतना ही काफी है |
आपसे विनती है ....कोई भी जानकारी राग यमन पर आप मेरे साथ बाटना चाहें ....स्वागत है |

A TRIBUTE TO MY MOTHER ON ''MOTHERS' DAY ''.

30 comments:

  1. इस शृंखला का शुभारम्भ करने के लिए शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी पेशकश ... यह श्रृंखला पढ़ कर सुरों का थोड़ा ज्ञान शायद हमें भी मिल जाए ...आभार

    ReplyDelete
  3. मैं तो स्वयं ही इन रागों का अनुरागी हूँ।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी पेशकश......

    ReplyDelete
  5. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रयास..शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  7. प्रथम तो देवी स्वरूपा माता श्री को शत शत नमन.
    फिर आपकी सुन्दर कविता को प्रणाम.
    'हरी भजन में ध्यान लगाऊं' पढ़ कर मन भक्तिमय हों गया.
    संगीत सुनने में बहुत अच्छा लगता है ,परन्तु संगीत का ज्ञान बिलकुल भी नहीं मुझे'
    आपने एक अच्छा शुभारम्भ किया है,आप संगीत की ज्ञाता है जानकर बहुत प्रसन्नता मिली.आशा आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.मेरी नई पोस्ट पर आपके सुविचारों की आनंद वृष्टि की अपेक्षा है.

    ReplyDelete
  8. Congrats Anupama for starting this new series. aunty ke chehra me tumari chabi hai.

    ReplyDelete
  9. माँ को नमन !

    दी , मुझे वहीं से बैठे बैठे थोडा सा सिखा दो न संगीत ! बजता रहता है मेरे सीने में ,पर व्याकरण नहीं आती !

    और पहले ही कह चुकी हूँ...आप जो लिखती हो उसमें संगीत सुनायी देता है !

    ReplyDelete
  10. अनुपमा जी, आभार तो मैं प्रकट करना चाहूंगा आपका जो मेरे निवेदन को आपने स्वीकार किया।
    बचपन से संगीत में रुचि रही पर कभी कुछ सीख नहीं पाया। कोई बताने वाला जो नहीं मिला। पर जब उस पोस्ट में आपने थोड़ी सी चर्चा की थी तो मुझे लगा कि आप से निवेदन कर इसके बारे में जानकारी ली जाए।
    कृतार्थ हुआ।
    हम लोग जैसे नवसिखुओं के लिए छोटी छोती चीज़ों पर भी प्रकाश डालें। जैसे आरोह क्या है? अवरोह क्या है? स्वर क्या है? आदि आदि।
    हमारे लिए तो बस इतना ही हमें मालूम था कि ‘मेरे नैना सावन भादो’ कल्याण थॉट का गीत है बस।
    अब थॉट क्या है, और राग क्या है? इनमें अंतर क्या है यह सब ह्में नहीं पता। तो इन विषयों पर भी हमें अवगत कराने की क्रूपा करेंगी।

    ReplyDelete
  11. आपकी माँ के नाम पर स्व-रोज सुर मंदिर श्रंखला शुरू करने के लिए आपको बहुत -बहुत बधाई /आपकी रचना से दो चीजों का सुख मिलता है एक तो अनूठी रचना पढने को मिलती है दूसरा शास्त्रीय संगीत की रागों के बारे मैं पता चलता है/बहुत ही संगीतमय रचना

    ReplyDelete
  12. अनुपमा जी, माता जी को नमन और इस पहल में हम आपके साथ हैं ..शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  13. हृदयस्पर्शी पंक्तियाँ हैं.....इस सुंदर श्रंखला को प्रारंभ करने का आभार ...... माँ को नमन

    ReplyDelete
  14. इस सुंदर श्रंखला को प्रारंभ करने का आभार| माँ को नमन|

    ReplyDelete
  15. हम आपकी कक्षा में पुरे मनोयोग से उपस्थित है . सर्जना से संगीत का सफ़र अद्भुत रहा .

    ReplyDelete
  16. sundar shuruaat..badhai. kaam ki cheez hai yah.

    ReplyDelete
  17. अत्यंत सुन्दर प्रस्तुती! दिल को छू गयी हर एक पंक्तियाँ! माँ को मेरा नमन!

    ReplyDelete
  18. क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ. आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें

    ReplyDelete
  19. सुन्दर! अच्छा लगा जानना, और की प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  20. राग यमन ... सात शुद्ध स्वरों के राग से शुरुआत .... बहुत लाजवाब ... स्वागत है आपका ...

    ReplyDelete
  21. Is shrinkhla ki shuruta ke liye shubhkamna aur Apni Mata ko saccha gift diya aapne aaj ke din...

    ReplyDelete
  22. बेहतर हो संगीत के पारिभाषिक शब्दों से भी वाकिफ करवाएं .मसलन ठाट (या थाट)क्या है कोमल ,मध्यम ,तीव्र ,आदि .अथ से शरू करें .आभार .माँ को नमन .'माँ "तो उम्र बहर क्या उसके बाद के हर जन्म का तोहफा होती है ."मदर्स -डे"की मुबारक ऐसे में कहूं भी तो कैसे ?

    ReplyDelete
  23. पहली बार इस ब्लाग पर आयी हूँ वो भी इस श्रिंखला के शुभारंभ पर। संगीत मे रुची है लेकिन इतनी जानकारी नही। आपके ब्लाग के माध्यम से आनन्द लेंगे। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  24. आप सभी की शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ...!!
    अपना स्नेह एवं आशीवाद बनाये रखियेगा ....!!

    ReplyDelete
  25. माँ की स्मृती में श्रृंखला शुरू करने के लिए हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं . इसी बहाने से हम को भी कुछ संगीत की समझ आयेगी . राग से सम्बंधित रचना का लिंक अगर साथ में दें तो यात्रा और रोचक हो शायद .

    ReplyDelete
  26. आपकी इस संगीतमय प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  27. अनुपमा जी इस श्रंखला को आरम्भ करने के लिये आपको ढेर सारी बधाइयाँ व शुभकामनायें ! संगीत की चर्चा ही मुझे आल्हादित कर जाती है ! स्कूल के दिनों में यह मेरा एक वैकल्पिक विषय था और मन और आत्मा के सबसे करीब आज भी है ! संगीत की हर बात मुझे बहुत अच्छी लगती है ! आपका बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  28. कल 02/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार यशवंत ....हलचल पर इसे लेने का ...

      Delete
  29. हलचल से होती हुई यहाँ पहुंची.....
    जाने पहले कैसे नहीं पढ़ी आपकी ये पोस्ट......????

    बहुत सुन्दर....
    आपकी रचना ...आपकी भावनाएं.....
    प्यारी माँ की प्यारी बिटिया हो आप...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!