नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

10 March, 2012

मेरी बुलबुल मुझे बहुत भाती है ... !!

चहकते हैं ...बुलबुल की बोली में ...
मन की झोली में ..
अबकी होली में ...
Scarlet Tanager (Piranga olivacea)
काफी ठाट के राग ....
कभी षडज-मध्यम के संवाद ...!!
बागेश्री जैसे ....!!

या षडज पंचम के संवाद ...
काफी..भीमपलासी जैसे ..!!

ये  रंग  ...ये  उमंग ...
डुबकी  लगाती हिय बोर-बोर ...
Golden Pheasant(Chrysolophus pictus)
फिर-फिर  ..फुदक-फुदक ..पंख झटकाती......
हुलसाती ..झड़-झड़  छिटकाती रंग .....
 खेले होरी धरा के संग ...
काफी राग के रंग ...

ज्यों उड़त अबीर  गुलाल ...
लाल-लाल ..
बैंगनी ..हरा गुलाबी
नीला पीला  ..चटकीला ...
सप्त सुरों की
उठती सतरंगी...तरंग .....
डाल-डाल फुर-फुर ..उड़-उड़ .....
रंग लिए उड़ जाती है ....
धरा पर बिखरी अद्भुत छटा का ...
पंखों  में रंग भर लाती है ... ...
फिर धरा पर ही झटकाती है ..छिटकाती है ....उड़ जाती है ...........  ...

आज फिर मेरी बुलबुल ....
मुझे सतरंगी रंगों से जुड़ना सिखाती है ...!!!
राग ''काफी "गाती है ....
मेरी बुलबुल मुझे बहुत भाती है ... !!

*जब हम राग बागेश्री गाते हैं तो तानपुरे पर षडज के साथ मध्यम बजाया  जाता है ।बागेश्री गाने के लिए उचित श्रुति तभी मिलती है ....!!
*होली काफी  राग में ही ज्यादातर गाई जाती है ..!
*बागेश्री ,काफी और भीमपलासी ...ये तीनो ही काफी ठाट के राग हैं ....!!

35 comments:

  1. संगीता और काव्य का अनोखा संगम ... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. संगीतात्मक काव्य इश्वर वंदना जैसे . मन प्रफुल्लित होता है पढ़कर .

    ReplyDelete
  3. सुन्दर..........
    राग और रंग का अनोखा संगम.......
    बहुत प्यारी रचना अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  4. rang, bulbul aur holi, sangeet aur kaavya ka adbhut mail....

    ReplyDelete
  5. राग रंग का सुंदर संगम,बहुत सुंदर रचना,इस बेहतरीन प्रस्तुति....अनुपमा जी बधाई

    MY RESENT POST ...काव्यान्जलि ...:बसंती रंग छा गया,...

    ReplyDelete
  6. राग रंग का अद्भुत ताल मेल अच्छा लगा ...होली की ढेरों शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  8. शास्त्रीय संगीत के रागों से सजी सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  9. अद्भुत प्रस्तुति...
    सादर बधाईयाँ..

    ReplyDelete
  10. संगीत के बारे में और ज्ञान बढ़ा हम सबका..

    ReplyDelete
  11. बढ़िया प्रस्तुति

    Gyan Darpan
    ..

    ReplyDelete
  12. इस संगीतमयी सुरीली प्रस्तुति ने मन मोह लिया ! रंगों की अद्भुत छटा बिखेरी है इस प्यारी सी चंचल बुलबुल ने ! खूबसूरत रचना के लिये आभार एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  13. राग और रंगों से सजी आपकी यह रचना प्यारी लगी अनुपमा जी - रचना खुद कह रही है कि कवयित्री को साहित्य के साथ साथ रागों की भी पकड़ है - बधाई
    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    http://www.manoramsuman.blogspot.com
    http://meraayeena.blogspot.com/
    http://maithilbhooshan.blogspot.com/

    ReplyDelete




  14. आज फिर मेरी बुलबुल ....
    मुझे सतरंगी रंगों से जुड़ना सिखाती है ...!!!
    राग ''काफी "गाती है ....
    मेरी बुलबुल मुझे बहुत भाती है ... !!

    आहाऽऽहाऽऽ… ! बहुत सुंदर !!

    आदरणीया अनुपमा जी
    आपने इसकी धुन कैसे बनाई है , सुनने की बहुत उत्कंठा है …


    हार्दिक शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर मनमोहित करती रचना ..
    सुन्दर भाव संयोजन....

    ReplyDelete
  16. आज फिर मेरी बुलबुल ....
    मुझे सतरंगी रंगों से जुड़ना सिखाती है ...!!!
    राग ''काफी "गाती है ....
    मेरी बुलबुल मुझे बहुत भाती है ... !!


    बहुत सुंदर
    क्या कहने

    ReplyDelete
  17. रागों की लय ताल लिए .. संगीतमय रचना ...

    ReplyDelete
  18. बुलबुल की बोली बहुत प्यारी होती है


    सादर

    ReplyDelete
  19. कल 12/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  20. bahut sunder ...... bulbul ke sath rango ki chata bikhar gayi

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर ..अद्भुत.

    ReplyDelete
  22. wah kya khoob likha hai anupama ji apne ...bilkul sahaj prawah ke sath ....adbhud rachana.

    ReplyDelete
  23. सुंदर प्रस्तुति.. मन खुश हो गया

    ReplyDelete
  24. अनुपम भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  25. रागात्मक प्रस्तुति मन मोह गयी...

    कविता में रागोंका जिस प्रकार आपने प्रयोग किया है, इससे रागों की प्रवृत्ति मधुरता पूर्णतः मुखरित हो उठी है...

    और चित्रों का समायोजन...तो वाह भाई वाह...

    कुल मिलकर हृदयहारी प्रस्तुति...

    बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  26. संगीत मय, चित्र मय और राग मय इस सुंदर प्रस्तुति के लिये बहुत बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  27. अनुपमा जी बहुत ही सुन्दर गीत बधाई |

    ReplyDelete
  28. संगीत और काव्य का सुंदर संगम एव बहुत ही सुंदर भाव संयोजन से सजी सुंदर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  29. क्या बताऊं .. अनुपम !

    रंग, उमंग और संगीत का संगम ... अद्भुत!

    आपने ब्लॉग जगत में काव्य को एक अलग आयाम और नई ऊंचाइयां दी है। बस आपका स्वर ऐसे ही चलता रहे और हम आनंद के रंग में डुबते रहें।

    ReplyDelete
  30. anupama ji blog par kai din bad aana hua meri maa ka holi se next day dehant ho gaya tha man theek nahi tha aaj hi net par aai hoon .
    aapki kavita tan man donon me rang bharti hai.bahut pyaari prastuti.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेश जी आपकी माँ के विषय में जान कर दुःख हुआ !!माँ से आत्मिक जुड़ाव होता है जिसकी भरपाई संभव नहीं होती |ईश्वर के आगे हम बेबस ही हैं ...!यही सोच कर तसल्ली कीजिये ,एक दिन तो उनको जाना ही था ...!!उनकी आत्मा कि शांति के लिए प्रभु से प्रार्थना करती हूँ ...!

      Delete
  31. आप सभी का मन से आभार मेरी बुलबुल पसंद करने के लिए ...!

    ReplyDelete
  32. आदरणीय अनुपमा जी
    नमस्कार !
    ...मुझे बहुत भाती है मेरी बुलबुल... !!
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ !

    ReplyDelete
  33. बहुत अच्छी प्रस्तुति!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!