नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

13 March, 2012

हम प्यार में जलने वालों को .....

ये गीत एक ऐसी शख्सियत के लिए ....जिसने मुझे गाना सिखाया ....जीना सिखाया ...हँसाना सिखाया ....स्वाभाव से एकदम फक्कड़ ....जिन्दादिली की जीती जागती  मिसाल ....
 ...अच्छे लोगों को भगवन भी अपने पास ही रखना चाहते हैं ....
खैर .....
This song is dedicated to you ....MUNI MAMA....


आज  अगर  माँ  और  मुनि मामा  जिन्दा  होते  तो  पापा  के  फ़ोन  का  बिल पता नहीं कितना आता .....!!जीवन में आगे बढ़ते हुए उन लोगों को ज़रूर याद करता है मेरा मन जो अब आँखों के सामने नहीं हैं ,प्रभु के पास हैं ........उन्हीं लोगों को याद करते हुए ....


आज ये गीत आपको सुनाने का मन है ...!

कृपया थोड़ा बफरिंग के बाद सुने तब नहीं अटकेगा ..



39 comments:

  1. श्रद्धांजलि देने का इससे बेहतर तरीका नहीं हो सकता |बधाई|

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और प्यारी आवाज है ,और गीत भी शानदार है | ढेर साड़ी बधाईयाँ ,अनुपमजी|

    ReplyDelete
  3. यह गीत बड़ा प्यारा है, मुनि मामा को समर्पण योग्य, स्मृति पुष्प।

    ReplyDelete
  4. आनंद आ गया आदरणीय अनुपमा जी...
    बीच में कुछ अटक रहा है... शायद सर्वर की समस्या हो...
    सादर आभार

    ReplyDelete
  5. प्यारा गाना....प्यारी आवाज़.....प्यारी सूरत....
    great combination
    :-)

    ReplyDelete
  6. आँखें नम हो गयीं .
    .श्रद्धांजलि ...
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  7. बेहद प्यारा गीत और प्यारी श्रद्धांजलि प्यारे लोगों को.

    ReplyDelete
  8. मामा जी को नमन।
    गीत बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  9. वाह!!!बहुत बढ़िया प्रस्तुति,इससे अच्छी सुंदर श्रद्धांजलि हो ही नही सकती,...अनुपमा जी

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    ReplyDelete
  10. सुंदर गीत ... मामा के लिए समर्पण की भावना अच्छी लगी ...

    ReplyDelete
  11. वाह ....अच्छा लगा सुनकर ... शुभकामनायें अनुपमाजी

    ReplyDelete
  12. ओये होए ....
    अनुपमा जी ये तो मेरा पसंदीदा गीत है ......
    हम प्यार में जलने वालों को चैन कहाँ.....
    फिर आती हूँ सुनने ....
    आपने गया है ....?

    ReplyDelete
  13. सुन्दर गीत. मामाजी को नमन.

    ReplyDelete
  14. वल्लाह क्या बात हैं अनुपमा जी ...खुबसूरत सूरत की खुबसूरत आवाज़ ! यानी सोंदर्य की देवी और सरस्वती दोनों एक ही जगह ..क्या बात हैं ! गीत की सुन्दरता और भी निखर आई हैं?

    ReplyDelete
  15. सुन्दर गीत सुनवाने के लिए आभार..

    ReplyDelete
  16. मधुर स्‍वर लिए यह अनुपम गीत ..मामाजी को नमन आपके लिए शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  17. सुँदर गीत मधुर आवाज़ , मामाजी की स्मृतियों को नमन .

    ReplyDelete
  18. जी सुना अनुपमा जी .....
    आनंद आ गया .....

    बहुत प्यारी आवाज़ है आपकी .....

    ReplyDelete
  19. अनुपमा जी, आपकी आवाज बहुत मधुर है और गीत का चुनाव भी सुंदर है...आप स्वयं भी बहुत प्यारी लग रही हैं...आपकी माँ व मामा की स्मृति को सादर नमन !

    ReplyDelete
  20. कल 15/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. आपकी पोस्ट कल 15/3/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-819:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  22. अनुपमा जी गीत बहुत सुन्दर गाया है आपने |बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  23. bahut hi madhur aawaj hai apki
    geet bhi bahut badhiya hai ....

    ReplyDelete
  24. हमारे पास यहाँ ऑफिस में स्पीकर नहीं हैं हम फ़ोन में दाल के सुनेंगे आपकी आवाज़.....कुछ लोग जिंदगी को एक दिशा देते हैं जिन्हें हम कभी भुला नहीं पाते।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुंदर और मधुर श्रद्धांजली...

    ReplyDelete
  26. वाह .. बहुत ही मधुर आवाज़ में गाया है आपने इस गीत को ...

    ReplyDelete
  27. बहुत ही मधुर आवाज़ पाई है अनुपमा जी..सुन्दर...

    ReplyDelete
  28. बहुत मधुर स्वर...!
    आभार !

    ReplyDelete
  29. बेहद सुन्दर गीत! आपको सुनना बहुत अच्छा लगा!
    The melodious voice of yours must have surely reached to them to whose memory it has been dedicated too...!
    Lots of love,
    Regards,

    ReplyDelete
    Replies
    1. I ardently wish that ,Anupama ...!!With each of my performance,I miss them from the core of my heart ...!!Thanks dear ...for all ur love and support ....!

      Delete
  30. नेट बड़ा स्लो है अभी, इसलिए सुन न पायी...पर पढ़कर ही अंदाजा लग रहा है आपके अनुराग का..

    नमन..

    ReplyDelete
  31. आदरणीय गुनी श्रीताओं ,
    किसी भी कलाकार के लिए श्रोता ईश्वर स्वरुप होते हैं |आप अपना स्नेह,अपना आशीर्वाद बनाये रखें ....|
    बहुत बहुत आभार ...!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ईश्वर का रूप तो साक्षात् होता है कलाकार में...!
      माँ शारदे आपके कंठ में यूँ ही निवास करें!
      शुभकामनाएं!

      Delete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!