नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

01 March, 2012

तुम पवन मैं नदिया ...!!!

बहती चलती .बढ़  चली   ... 
जाने   किस ओर .. ?
मन में हिलोर ..
मन के भावों को ..
गुनती...बुनती .. ...तुम संग ..
तुम  पवन मैं नदिया ...!! 

हरियाली बिखेरती ....
छल छल ....कल कल ...
धरा पर अविचल ...
गीत गाती तुम संग ...
चलते हुए ...राह  में ...
दिशा तुम ही  देते हो मुझे ....
तुम पवन मैं नदिया ....


चीर सघन बन ...
मैं बह चलूँ ...
पत्थर तोड़ ...
यूँ राह मोड़ ..
पहाड़ों पर चढ़ूँ ...
फिर झरने सी झरूँ ...
अब वेग तुम  ही दो मुझे ...
तुम पवन मैं नदिया ...!!!

33 comments:

  1. चीर सघन बन ...
    मैं बह चलूँ ...
    पत्थर तोड़ ...
    यूँ राह मोड़ ..
    पहाड़ों पर चढ़ूँ ...
    फिर झरने सी झरूँ ...
    अब वेग दो मुझे ...

    बहुत खूबसूरत भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. अनुपमा जी, कितना सुंदर चित्र है यह बहती हुई नदी का...काश पवन भी दिख जाता, उतनी ही सुंदर कविता है आपकी...बधाई!

    ReplyDelete
  3. हरियाली बिखेरती ....
    छल छल ....कल कल ...
    धरा पर अविचल ...
    गीत गाती तुम संग ...
    चलते हुए ...राह में ...
    दिशा तुम ही देते हो मुझे ....
    तुम पवन मैं नदिया ....सुंदर भाव की पंक्तियाँ

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,इस सुंदर रचना के लिए बधाई,...

    MY NEW POST ...काव्यान्जलि ...होली में...

    ReplyDelete
  4. कलकल की ध्वनि निःसृत है

    ReplyDelete
  5. भावों की अभिव्यक्ति ने मोड़ दी धाराएँ है,
    हम संभल भी न पाए की उस वेग ने साथ ले लिया..........

    ReplyDelete
  6. चीर सघन बन ...
    मैं बह चलूँ ...
    पत्थर तोड़ ...
    यूँ राह मोड़ ..
    पहाड़ों पर चढ़ूँ ...
    फिर झरने सी झरूँ ... बहुत सुंदर नदिया की छल छल सी बहती कविता

    ReplyDelete
  7. कल कल निश्छल नदी जैसी प्रवाहित काव्य रचना .सुँदर

    ReplyDelete
  8. साथ सदा को, पहला दूसरे को शीतल करता हुआ तो दूसरा पहले में सिहरन पैदा करता हुआ।

    ReplyDelete
  9. एक दूजे के पूरक...
    पवन और नदिया...
    सुन्दर...

    ReplyDelete
  10. एक दार्शनिक अंदाज़ में संबंधों को रेखांकित करती कविता.. सुन्दर!!

    ReplyDelete
  11. नदी सागर के मुहाने पर..अति उत्तम रचना..

    ReplyDelete
  12. चीर सघन बन ...
    मैं बह चलूँ ...
    पत्थर तोड़ ...
    यूँ राह मोड़ ..
    पहाड़ों पर चढ़ूँ ...
    फिर झरने सी झरूँ ...
    अब वेग तुम ही दो मुझे ...

    kya baat hai.. bahut hi sundar kavita :)

    palchhin-aditya.blogspot.in

    ReplyDelete
  13. बहती चलती .बढ़ चली ...
    जाने किस ओर .. ?
    मन में हिलोर ..
    मन के भावों को ..
    गुनती...बुनती .. ...तुम संग ..
    तुम पवन मैं नदिया ...!!वाह! बहुत खुबसूरत एहसास पिरोये है अपने......

    ReplyDelete
  14. अनुपमजी क्या बट है बहुत सुन्दर भावमय रचना आभार

    ReplyDelete
  15. भावपूर्ण रचना, हृदयस्पर्शी शब्द ..........आभार

    ReplyDelete
  16. रचना का प्रवाह मन मोहक है।

    ReplyDelete
  17. मर्मस्पशी भाव..... बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर भाव लिए नदिया के बारे मैं लिखी अनुपम कविता .बहुत बधाई आपको /

    मेरी nai पोस्ट आपकी टिप्पड़ी के इंतज़ार मैं है /जरुर पधारें

    www.prernaargal.blogspot.com
    thanks.

    ReplyDelete
  19. ठंडी पवन सी ही शीतल और मधुर ये कविता!!

    ReplyDelete
  20. सुन्दर प्रस्तुति !
    आभार !

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर शब्द चित्र ...

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर...
    आपकी विशुद्ध हिंदी कविता भा गयी मन को...

    ReplyDelete
  23. पवन का वेग नदिया को दिशा देता है ...
    सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  24. ..........हरियाली बिखेरती ..........
    तुम पवन मैं नदिया ....
    सुंदर प्रस्तुति हेतु आभार ...........

    ReplyDelete
  25. nadiyon ki kal kal dikh bhi rahi hai, chitra me:)
    bahut khub!

    ReplyDelete
  26. सुंदर अभिव्यक्ति ,बेहतरीन रचना प्रवाह,..अनुपमा जी पोस्ट पर आइये,...
    ,..
    NEW POST...फिर से आई होली...

    ReplyDelete
  27. अनुपमा जी होली की शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  28. आभार आप सभी का ...

    ReplyDelete
  29. बहुत ही सुन्दर मनमोहित करती रचना...
    सुन्दर भाव अभिव्यक्ति :-)
    ****होली की बधाई और ढेर सारी शुभकामनाए ****

    ReplyDelete
  30. उत्तम रचना...
    सादर..

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!