नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

25 February, 2014

मेरी पहचान ...!!



दीनता नहीं
ये पलायन का समय भी नहीं ...
ये समय है कर्मठता का
निर्भर हैं हम सब की आशाएँ तुम पर ...
निर्भर हैं हम सब की मुस्कान तुम पर ..
आश्रित ही हैं मेरी उपलब्धियां तुम  पर ,
तुम   संतति मैं प्रकृति ,
माता तुम्हारी ,
मुझमे ही हो तुम ,
और मुझमें ही दिखते हो कितने रूप में तुम ,
उठो अब वक़्त है ,
ऊंची भरो उड़ान .
परवाज़ दो अपने पंखों को ,
भरो उड़ान इस तरह ,
मेरे  बच्चों ,
गूंज उठे भारत का गौरव इस युग में ऐसे
कि  सृजन जीवित रहे  तुम्हारा सदा सदा ,
आँधी और तूफान से भी लड़ सको
कि हौसला बुलंद  रहे तुम्हारा सदा सदा !!




26 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना ..............हौसला बढ़ाने वाली रचना ...........

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. हौसला बढ़ाने वाली सुन्दर रचना......

    ReplyDelete
  4. और आसमान के पार भी रच जाओ इतिहास.. अति सुन्दर कहा है..

    ReplyDelete
  5. सुन्दर सन्देश देती गहन अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  6. आह्वान है यह रचना ... सुन्दर ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  7. माता प्रकृति का यह आह्वान, आपकी इस रचना में और भी मुखर हो उठा है... आशा करें कि हमारे देशवासी माता की यह पुकार, यह शंखनाद अवश्य सुनेंगे!!

    ReplyDelete
  8. सब सहना, न दैन्यं न पलायनम्।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर सन्देश देती अभिव्यक्ति ...अनुपमा जी


    संजय भास्कर
    Reccent post खुशकिस्मत हूँ मैं

    ReplyDelete
  10. सशक्त आवाहन

    ReplyDelete
  11. आकांक्षाओं का असीम आकाश
    बाँहें फैलाए कर रहा इंतज़ार
    बस पंख खोलो और भर लो
    एक ऊँची उड़ान सबसे ऊँची
    यही शुभ कामनाएं हैं हम सभी की

    ReplyDelete
  12. प्रभावशाली कविता ....नया इतिहास रचे ......

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रेरणा दायक रचना !
    न्यू पोस्ट उम्मीदवार का चयन
    New post शब्द और ईश्वर !!!

    ReplyDelete
  14. सार्थक आव्हान लिए भाव

    ReplyDelete
  15. सकारात्मकता से पूर्ण--एक संदेश युवा पीढी के लिए.

    ReplyDelete
  16. माँ सदा ही बच्चों को सुखद भविष्य की ओर ले जाती है...बहुत सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  17. ओजमयी शब्द-नाद. अति सुन्दर.

    ReplyDelete
  18. उठो अब वक़्त है ,
    ऊंची भरो उड़ान ....

    ReplyDelete
  19. मेरे बच्चों ,
    गूंज उठे भारत का गौरव इस युग में ऐसे
    कि सृजन जीवित रहे तुम्हारा सदा सदा ,
    आँधी और तूफान से भी लड़ सको
    कि हौसला बुलंद रहे तुम्हारा सदा सदा !!

    आशीर्वाद के मुखर स्वर

    ReplyDelete
  20. सहज ही उत्साह को संचारित कर देने वाली रचना !

    ReplyDelete
  21. आह्वान सा करती सुन्दर पोस्ट |

    ReplyDelete
  22. सुंदर अभिव्यक्ति। मेरे नए पोस्ट DREAMS ALSO HAVE LIFE.पर आपका इंतजार रहेगा। शुभ रात्रि।

    ReplyDelete
  23. सार्थक संदेश देती उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!