नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

13 February, 2014

हर रूप तुम्हारा ,मन भाया हुआ.....!!


पतझड़ में आस सा
भरमाया  हुआ
बसंत में पलाश सा
मदमाया हुआ
ग्रीष्म में प्यास सा
अकुलाया हुआ
वर्षा में उल्लास सा
हुलसाया  हुआ
शरद में उजास सा
फैला हुआ
शीत में उदास सा
अलसाया  हुआ
हर  मौसम में ,
हर रूप तुम्हारा,
मन पर छाया हुआ ,
मन भाया हुआ.....!!

25 comments:

  1. मन को भा गया.....

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (14.02.2014) को " "फूलों के रंग से" ( चर्चा -1523 )" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी कृति को चर्चा मंच पर लेने हेतु हृदय से आभार राजेंद्र जी ....!!

      Delete
  3. उसका हर रूप मन भावन है..उसका तो सुंदर हर कण है

    ReplyDelete
  4. मनभावन लाजबाब, प्रस्तुति...!

    RECENT POST -: पिता

    ReplyDelete
  5. मनभावन लाजबाब, प्रस्तुति...!
    RECENT POST -: पिता

    ReplyDelete
  6. हर मौसम जब प्रेम की बयाद लिए हो तो प्रेम किसी एक दिन के मां ही क्यों ..
    लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete
  7. प्रकृति बहुत कुछ सीखा देती है
    बहुत सुंदर रचना
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. प्रकृति बहुत कुछ सीखा देती है
    बहुत सुंदर रचना
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. सच में प्रभु के कितने रूप और हर रूप मनभावन .........

    ReplyDelete
  10. बसंत सा आया हुआ
    मन पर छाया हुआ ......मनभावन सा......
    बहुत खूबसूरत प्रेमपगी रचना

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  12. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  13. कविता इतनी सिम्पल सी भी हो सकती है, विश्वास नहीं होता! मगर वो कहावत है न कठिन कविता लिखना बहुत सिम्पल है, लेकिन सिम्पल कविता लिखना बड़ा कठिन... यह कविता इस कथन को सिद्ध करती है!!

    ReplyDelete
  14. वाह...सुन्दर...मनभावन....

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  15. शानदार प्रस्तुति से साक्षात्कार हुआ । मेरे नए पोस्ट "सपनों की भी उम्र होती है "पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है।

    ReplyDelete
  16. और आनंद ही आनंद है उसे, जिसके मन में है वो समाया हुआ. अति सुन्दर कृति.

    ReplyDelete
  17. बहुत ही प्यारी मनभावन रचना...
    अति सुन्दर....
    :-)

    ReplyDelete
  18. अति सुन्दर | चारों दिशों में सभी मौसमों में तू ही तू |

    ReplyDelete
  19. क्योंकि ये मन भी तो उसी में है समाया हुआ..

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!