नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

01 January, 2012

रस की छाई नील बहार .! ऐसा शुभ प्रभात आया .!.

अहा नील प्रात ....!!
आज शुभ प्रभात  ...आया ..
नव वर्ष नवल नील रस लाया ....
रोम-रोम कैसा हुलसाया   ...
जब  जागा  मन  ...
अब लागा  मन ..!
नील रस भर-भर लाया ...
आज  शुभ प्रभात आया ...!!

जागृत हुई आस ..
प्रभु ..आज तुम आस-पास ...
दिखते हो हर दृश्य में ..
बसते हो मेरे भीतर भी ....
जागृत चेतना में ...!!
मेरी भावनाओं में ...!!
देख सकती हूँ मैं तुम्हे ...
अपने समक्ष ..
अपने चहुँ ओर ..
प्रशांत ..प्रखर ....प्रत्यक्ष
सुदूर प्रचार  प्रसार ..में ..


दिव्य अनुभूति देते  हुए  ...
ऐसे  दिव्य दर्शन में .....
सुलभ कराते हुए
अलभ्य  प्रतिभा में .. ..!


जब नील अम्बर पर ..
उड़ते पंछी ..
झूम  कर ...गाते जयजयवंती ......
पोर-पोर ,भीग-भीग बरसे ..
 नील सुर धार धरा पर ..!!
रास रचें ....रसना ..!!
मन रमे ..रचें ..मन ..रचना ..!!
डूबकर ले  .. लेकर ..
नूतन नील रस धार ..!!


नील ..श्याम  वर्ण हुआ  मन ...!!
नीलिमा की ...
कुसुम की ..
रस की ....
आई ,छाई नील नील बहार  ...!!

आज एक रंग में ..
रंगा सृजन है ....
अचरज से भरा ...
घिरा ..ये मन है ...!!

कैसे उड़-उड़ कर पाखी ...
आसमान में ..
ले-लेकर ..
नील व्योम रंगधारा..
चहके चातक का सुर .. रिषभ...
और ..बहे  पाखी सुरधारा..
गुनती  जाती भावधारा ..
अभिव्यक्त  करती  जीवनधारा ..
किलक हो ... बजता मन इकतारा ....


जब रस की छाई ऐसी ..
नूतन नील-नील  बहार ..
 मगन मन प्रभु मे लागा ......
 मन लागा ..
प्रभु कृपा से ..नील वर्ण चंद्रमुखी ...!!
अब जागा मेरा मन जागा ...!!

आज राग विभास   गुन -गुन गाया ...
ऐसा  .. शुभ प्रात ...आया ..!!


*चातक पक्षी का सुर रिषब(रे) होता है ..!
*जयजयवंती  -एक राग का नाम है .
*विभास-राग का नाम है .


बृहद अरण्यक उपनिषद् से ...

''ॐ असतो मा सद्गमय 
तमसो मा ज्योतिर्गमय 
मृत्योर्मा अमृतं गमय ......!!''


प्रभु से यही प्रार्थना करते हुए ..
आप सभी को नव वर्ष ''2012'' की ढेरों शुभकामनायें...!!

33 comments:

  1. नीलमय आकाश की नीलिमा सबके लिये मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  2. नव-वर्ष आपको व आपके समस्त परिवार के लिये मंगलकारी हो इसी शुभकामना के साथ।

    अवश्य पढ़ियेगा... आज की ताज़ा रंगों से सजीनई पुरानी हलचल बूढा मरता है तो मरे हमे क्या?

    ReplyDelete
  3. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  4. कृष्ण का रंग भी नीला है.. अम्बर नीला है.. कमल भी नीला है.. आपने नीले रंग की कैसी छटा बिखेरी है आज साल के पहले दिन... शांति का प्रतीक नीलवर्ण सभी के लिये सुखमय हो...

    ReplyDelete
  5. नव वर्ष की असीम शुभकामनाये आपको और आपकी समर्थ लेखनी को .

    ReplyDelete
  6. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. बहूत सुंदर रचना है...
    नववर्ष कि शुभकामनाये.....

    ReplyDelete
  8. प्यारे भाव, प्यारी कविता।
    बहुत सुंदर।
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  9. nav varsha ke swagat main ati sunder rachna !!! prakriti ke anginat rango ko bikherti adbhut shabdawali main bhor ka varnan kya khub kiya hai !!! nav varsha ki bahut baht badhai !!!

    ReplyDelete
  10. सुमन आप चाहें तो मेरे ब्लॉग से ही हिंदी में लिख सकतीं हैं ....मैंने आपका कमेन्ट हिंदी में लिख दिया है ...
    नव वर्ष के स्वागत में अति सुंदर रचना !!! प्रकृति के अनगिनत रंगों को बिखेरती अद्भुत शब्दावली में भोर का वर्णन क्या खूब किया है !!! नव वर्ष की बहुत बहुत बधाई !!!

    ReplyDelete
  11. नव वर्ष की शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  12. जागृत हुई आस ..
    प्रभु ..आज तुम आस-पास ...
    दिखते हो हर दृश्य में ..
    बसते हो मेरे भीतर भी ....
    जागृत चेतना में ...!!
    मेरी भावनाओं में ...!!

    जय हो ... जय हो...

    अनुपमा जी आपकी जय हो.

    अनुपम भक्तिरस से ओतप्रोत प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.
    बहुत बहुत शुभकामनाएँ जी.

    ReplyDelete
  13. आपको नव-वर्ष 2012 की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  14. नववर्ष का स्वागत करती सदा की तरह अनुपम रचना | नीली आभा से वर्णित नए वर्ष का अभिनन्दन है ,मानों इन्द्रधनुष धरा पर उतर आया हो |

    ReplyDelete
  15. नव वर्ष का स्वागत करती सुंदर रचना,...
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,..
    आपके जीवन को प्रेम एवं विश्वास से महकाता रहे,

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  16. बहुत प्यारी रचना..
    सुन्दर प्रस्तुति...

    नव वर्ष की इन्द्रधनुषी शुभकामनाये आपके लिए...

    ReplyDelete
  17. आपको नव वर्ष 2012 की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  18. नील ..श्याम वर्ण हुआ मन ...!!
    नीलिमा की ...
    कुसुम की ..
    रस की ....
    आई ,छाई नील नील बहार ...!!
    नूतन वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाए ...

    ReplyDelete
  19. सुन्दर रचना के लिये बधाई एवं नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  20. बहुत ही खुबसूरत नयी आशा नयी मुराद के साथ ये नया साल खुशियों भरा हो|

    ReplyDelete
  21. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें. छलके सुख, समृद्धि का मंगलघट. आये जीवन में आपके हर्ष, उल्लास और खुशियाँ अपार.
    सादर,
    हिमकर

    ReplyDelete
  22. जागृत हुई आस ..
    प्रभु ..आज तुम आस-पास ...
    दिखते हो हर दृश्य में ..
    बसते हो मेरे भीतर भी ....
    जागृत चेतना में ...!!
    मेरी भावनाओं में ...!!
    सार्थक व प्रेरणात्‍मक अभिव्‍यक्ति ... नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  23. nav varsh ,nav prabhat, nav vichar liya naveen sunder kavita, sunder chitro ke sath. Nav varsh apke aur apke pariwar ke liya ati mangalmay ho.

    ReplyDelete
  24. प्रभु ..आज तुम आस-पास ...
    दिखते हो हर दृश्य में ..

    बहुत ही खुबसूरत..... सादर बधाई और नूतन वर्ष की सादर शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  25. बहूत सुंदर रचना|
    नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं|

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छी रचना .. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  27. यह कविता सिर्फ सरोवर-नदी-सागर, फूल-पत्ते-वृक्ष आसमान की चादर पर टंके चांद-सूरज-तारे का लुभावन संसार ही नहीं, वरन जीवन की हमारी बहुत सी जानी पहचानी, अति साधारण चीजों का संसार भी है। यह कविता उदात्ता को ही नहीं साधारण को भी ग्रहण करती दिखती है।

    ReplyDelete
  28. वाह नववर्ष के सुन्दर भाव!!

    नववर्ष की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  29. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को नये साल की ढेर सारी शुभकामनायें !
    उम्दा रचना!

    ReplyDelete
  30. कैसे उड़-उड़ कर पाखी ...
    आसमान में ..
    ले-लेकर ..
    नील व्योम रंगधारा..
    चहके चातक का सुर .. रिषभ...
    और ..बहे पाखी सुरधारा..
    गुनती जाती भावधारा ..
    अभिव्यक्त करती जीवनधारा ..
    किलक हो ... बजता मन इकतारा .... अम्बर पनघट से कितने मनोरम दृश्य भर लायी हो -

    ReplyDelete
  31. बहुत सुंदर,प्रस्तुति,..
    नए वर्ष में आपका मेरे पोस्ट में स्वागत है,

    --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  32. आभार ...नए साल पर शुभकामनाओं के लिए ....

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!