नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

18 January, 2012

लो फिर आई है चिड़िया ........!!

भोर से पहले ही उठ जाती
सूखे सूखे त्रिण चुन लाती
बुलबुल सी उड़-उड़ ...
रे मन चुलबुल ...
बाग़ में चहचहाई  है चिड़िया
मन भाई है चिड़िया ..!!
लो ,फिर आई है चिड़िया....

राग विभास की आस .....
चुने हुए शब्द विन्यास ....
सींचती-उलीचती ....
घट भर-भर लायी है चिड़िया ...

सृष्टि पर बिखरा ...
सुरों के  रंगों का..तरंगों  का ..उमंगों  का   .
राग लालिल सा  लालित्य ..
बुन-बुन गुन लायी है चिड़िया ......
राग के ख्याल में खोयी  हुई ...
कुछ जागी सी कुछ सोई हुई ...
सुलक्षण  सुमंगल परंपरा निभाती ...
दिए की बाती ...
पूजा की थाली में ..
ज्यों  जलती जाती .....
पञ्च तत्व..
से पांच सुरों का राग गाती  ....
सुध बुध बिसराती..उन्माती ........
माघ के आगमन पर ..
मन के आँगन पर ..
सुघड़ नीड़ पर...
बैठी  झूलती .... इतराती ....मुस्काती ...सुस्ताती है चिड़िया  ...
अब लो फिर आई है चिड़िया ...!!!!


*विभास और ललित ये दोनों राग सूर्योदय से पहले गए जाने वाले राग हैं ...
*सुरों की उत्पत्ति भी पञ्च तत्वों से ही होती है ...
*राग  विभास  में  पांच स्वरों का प्रयोग होता है...पंचम जाती का राग है ...!!

38 comments:

  1. ये चिड़िया रोज़ आये , प्रकृति के शाश्वत गीत सुनाये

    ReplyDelete
  2. मन के आँगन पर ..
    सुघड़ नीड़ पर...
    बैठी झूलती .... इतराती ....मुस्काती ...सुस्ताती है चिड़िया ...
    अब लो फिर आई है चिड़िया ...!!!!
    इन चित्रों के साथ भावनाओं का सुन्‍दर संयोजन किया है आपने इस अभिव्‍यक्ति में ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर अनुपमा जी..कविता भी संगीत भी...
    दोनों अदभुद...

    ReplyDelete
  4. vaah ri chidiya teri ajab khaani fir bhi kisi ne teri baat nhin maani bhtrin rchnaa ke liyen mubarkbaad .akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  5. सुरों और रागों से सजी अभिव्यक्ति ...

    बहुत खूब ....आनंदमयी

    ReplyDelete
  6. वाह...बेजोड़ चित्र ...बेजोड़ रचना...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  7. मन के आँगन में चिड़िया चहचहाने लगी है होठ आपके गीत को धीमे-धीमे गुनगुनाने लगा है , राग की तो उतनी समझ नहीं है पर आनंद से भर उठी आपको पढ़कर..

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत चित्रण अभिवयक्ति............

    ReplyDelete
  9. सबसे पहले तो चित्रों के लिए ...
    लाजवाब!
    बड़े मन भावन हैं।
    बिम्ब और विन्यास देखते बनता है। संगीत के तत्वों का समागम कर आपने इसके सुरों को बहुत ही सुरीला बना दिया है।

    ReplyDelete
  10. नित्य भोर में जो उठ जाती।
    सूखे-सूखे तृण चुन लाती।।
    चीं-चीं करके हमें जगाती।
    इसीलिए चिड़िया कहलाती।।
    --
    बहुत सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  11. *विभास और ललित राग सुनाती..रोज ये आए चिड़िया..अनुपम...

    ReplyDelete
  12. बुन-बुन गुन लायी है चिड़िया ......
    राग के ख्याल में खोयी हुई ...

    बहुत सुन्दर, लाजबाब भाव.

    राग के ख्याल में खोई हुई
    चिड़िया की कल्पना करता मन
    कितने अनुपम और अनमोल
    भावों का सर्जन कर लेता है.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  13. वाह सुन्दर गीत ,सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  14. bahut sundar kavita... rag me baare me achhi jankari mili...

    ReplyDelete
  15. यह तो अच्छे से गायी जा सकती..

    ReplyDelete
  16. is chidiya ka swagat hai
    mere ghar roz :)

    ReplyDelete
  17. pakshee prem jhalak rahaa hai
    itne kareeb se kitnon ne pakshiyon ko ab tak samjhaa hai?
    excellent

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर प्रस्तुति,बेहतरीन रचना
    welcome to new post...वाह रे मंहगाई

    ReplyDelete
  19. Bahut hi pyaari lagi ye kavita aapki, bahut saraahna! :)

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर और बालमन को लुभाने वाली कविता |

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन ..शब्दों का प्रयोग तो अति सुन्दर है ..
    मन को भा गयी ये कविता..
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

    ReplyDelete
  24. कल 20/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  25. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  26. बेहद सुंदर चित्रों से सजी सुंदर रचना बधाई

    ReplyDelete
  27. kavita aur chitra dono ati sunder.............

    ReplyDelete
  28. आपकी रचनाओं को पढ़ना हो या प्रकृति के साथ जीना हो ...अद्भुत साम्य है दोनों में!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!