नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

17 February, 2013

ए री ,बसंत आया .....!!!

आभार मीनाक्षी ...
चटकी कलियाँ ......
फूली बेला चमेली ...

बनन में....
बागन में बगरो बसंत ...
बिखरे अनगिन रंग ....
ज्यों रूप अनंग ....

रोम-रोम हर्षाया....
सुभग सलोना सा ...
कैसा बसंत छाया ....
नवल उल्लास अंगना  आया ...


पुष्प गुच्छ लद गए ....
......राग -रंग खिल गए ...
श्वेत 'श्याम- रंग'  नीले नीले ...
बैगनी  गुलाबी .....
'प्रीत-रंग' पीले पीले ....


कुछ टप टप गिरती बूंदों से ....
धरा धुल गई ........खिल गई ...
...साँवली संकुचाई सृष्टि की रंगभरी........
...प्रभामई आभा भई....

सिकुड़े सिमटे शब्दों की ...
प्रेम भरी बाहें फैल गईं ......

असीम अनंत सुख की ....
सुरभि चहुं दिस बिखर गई ...


सजन रूप मन भाया ...
भरमाया .........
ए री  ,बसंत आया .....!!!

45 comments:

  1. बसंत आए या न आए पर आपकी रचना ने बासन्ती कर दिया :)

    ReplyDelete
  2. बहुत खुबसूरत आपकी पेशगी आपको बशंत ऋतू की हार्दिक बधाई
    मैं आपके ब्लॉग पर पहली बार आया हूँ आगे निरंतर आता रहूगा
    आप से आशा करता हूँ की आप एक बार मेरे ब्लॉग पर जरुर अपनी हजारी देंगे और
    दिनेश पारीक
    मेरी नई रचना फरियाद
    एक स्वतंत्र स्त्री बनने मैं इतनी देर क्यूँ

    ReplyDelete
  3. सखी वसंत जो आया , मन पुलकित-हर्षित पाया ............

    ReplyDelete
  4. बहुत ही मनमोहक बासंती कविता, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. बसंत आगमन पर बहुत ही सुन्दर गीत....
    अति सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  6. बहुत शानदार बसंत आगमन और उल्लास की उम्दा प्रस्तुति,,,

    recent post: बसंती रंग छा गया

    ReplyDelete
  7. आपकी उपमा बहुत ही सुन्दर है इसिलए आप अनुपमा हैं |अच्छी कविता |

    ReplyDelete
  8. बसंत और प्रकृति की मोहक अंगड़ाई

    ReplyDelete
  9. असीम अनंत सुख की ....
    सुरभि चहुं दिस बिखर गई ...
    ...वाकई बहुत ही सुन्दर आगमन किया है वसंत का .....

    ReplyDelete
  10. वसंत आगमन पर प्रकृति में आयी खूबसूरती का एहसास कराती सुन्दर रचना
    latest postअनुभूति : प्रेम,विरह,ईर्षा
    atest post हे माँ वीणा वादिनी शारदे !

    ReplyDelete
  11. कुछ टप टप गिरती बूंदों से ....
    धरा धुल गई .....खिल गई ...
    ----------------------------
    बहुत उम्दा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  12. Bahut hi sundar kavita. Anupama ji ,aabhar aapka meri tasveer ko sthan dene ke liye ... Aapke shabdon se usme jaan aa gayi mano ...

    ReplyDelete
  13. Bahut hi sundar kavita. Anupama ji ,aabhar aapka meri tasveer ko sthan dene ke liye ... Aapke shabdon se usme jaan aa gayi mano ...

    ReplyDelete
  14. बसन्तमयी रचना से मन बसन्त-बसन्त हुआ।

    ReplyDelete
  15. बहुत प्यारी कविता....
    इसे देख तो पतझर में भी वसंत आ जाय...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  16. सिकुड़े सिमटे शब्दों की ...
    प्रेम भरी बाहें फैल गईं ......

    असीम अनंत सुख की ....
    सुरभि चहुं दिस बिखर गई ...


    सजन रूप मन भाया ...
    भरमाया .........
    ए री ,बसंत आया

    बहुत मनमोहक बासंती कविता.....

    ReplyDelete
  17. आनुप्रासिक छटा बिखरी हुई है इस वसंत गीत में .सुन्दर मनोहर गीत कुदरत के रंग लिए .मन का सूक्ष्म स्पंदन लिए .

    ReplyDelete
  18. वाह!
    आपकी यह प्रविष्टि दिनांक 18-02-2013 को चर्चामंच-1159 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार चन्द्र भूषण जी .....

      Delete
  19. क्या खूब बसंत आया !

    ReplyDelete
  20. रूनझुन-रुनझुन बजता हुआ बसंत..

    ReplyDelete
  21. वासंती रंग में रंगी सुन्दर प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  22. कितना सुंदर गीत है! इसको आपने अपनी आवाज़ भी दी या नहीं..? :-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर.......वक़्त मिले तो जज़्बात पर भी आएं ।

    ReplyDelete
  24. अनुपमा जी, वसंत आया और न जाने कितने दिलों का महका गया..सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर वासंती रचना ...
    दिग-दिगंत छाया बसंत....
    महकें खुशियाँ अनंत
    अनुपमा तुम्हारी कविता ने
    वासंती कर दिया
    साभार....

    ReplyDelete
  26. वाह आजकल तो इस प्रकार का काव्य दुर्लभ है

    ReplyDelete
  27. बहुत कोमल भाव लिए है यह खूब सूरत प्रस्तुति .शुक्रिया आपकी सहृदय टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  28. बहुत कोमल भाव लिए है यह खूब सूरत प्रस्तुति .शुक्रिया आपकी सहृदय टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  29. बहुत खूबसूरत ! प्र्कृती के सोंद्रय को बखूबी निखारा है आपने रचना मे, लाजवाब

    ReplyDelete
  30. मन हरषाया,
    बसन्त आया।

    ReplyDelete
  31. हृदय से आभार आप सभी का ....

    ReplyDelete
  32. बहुत प्यारी-सी रचना....

    ReplyDelete
  33. बहुत सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  34. सिकुड़े सिमटे शब्दों की ...
    प्रेम भरी बाहें फैल गईं ......

    असीम अनंत सुख की ....
    सुरभि चहुं दिस बिखर गई ...

    बसंती बयार बहाती सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  35. असीम अनंत सुख की ....
    सुरभि चहुं दिस बिखर गई ...

    सही कहा सुन्दर रचना ...एक बसंत आता है बाहर
    एक जब भीतर आता है तो दशा कुछ ऐसी ही होती है !

    ReplyDelete
  36. बासंती रंग में रंगी सुन्दर रचना
    सादर !

    ReplyDelete
  37. वसंत का स्वागत... सुन्दर सहज अनुपम भाव... बधाई.

    ReplyDelete
  38. ऋतुराज जैसे स्वयमेव उपस्थित हो गए शब्द चित्र में . बहुत सुन्दर .

    ReplyDelete
  39. भाव का अनुभूति का इसके आगे रूपंतरण और क्या होगा ?प्रकृति नटी का रोम रोम पुलकाया ,ए री सखी सुन ,बसंत आया .प्रकृति का नारीकरण (मानवीकरण ).भाव शान्ति करता है .शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  40. असीम अनंत सुख की ....
    सुरभि चहुं दिस बिखर गई ...


    सजन रूप मन भाया ...
    भरमाया .........
    ए री ,बसंत आया .....!!!

    सच ही तो ।

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!