नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

11 February, 2013

निर्मल निर्लेप नीला आकाश ...

निर्मल निर्लेप नील आकाश ...
देता है वो विस्तार .....
कि तरंगित हो जाती है कल्पना ...
 नाद सी.......हो साकार ....

अकस्मात  जब ढक लेते हैं  बादल ...
नीलांबर  का वो नयनाभिराम  सौन्दर्य .....
गुण को गुणातीत ...
तत्व को तत्वातीत......
अगम्य को गम्य कर त्वरित गति  देती हैं ...
मन की अनहद उन्माद तरंगें ...!!


मूक सर्जना  मुखरित हो  उठती है .....
पंगु शब्द भी -
कविता में नृत्य करते  है ...
मौन तरंगित हो ......
अनहद सा ले जाता है ...
मेरे मन को उस पार .......
 हे  प्रभु  ...तुम्हारे पास .....!!


अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ  ....
ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
सुकृत  हो जाऊँ.....
तुम्हारा रूप ....मेरे आखर ....

निर्मल निर्लेप नील आकाश ...
देता है वो विस्तार .....
कि तरंगित हो जाती है कल्पना ...
हो साकार ....

**********************************************
 नाद -नाद के दो प्रकार होते हैं ....
1-आहत नाद वह नाद है जो कानो को सुनाई देता है |
2-अनाहत या अनहद नाद वो नाद है  , जो नाद केवल अनुभव से जाना जाए ....या जिसके उत्पन्न होने का कोई खास कारण न हो ,यानि जो बिना संघर्ष के स्वयंभू रूप से उत्पन्न होता है ,उसे अनहद नाद कहते हैं ...!!



Can I see YOU with the eyes that I have ...?
Can I pray to YOU with the hands that I have ....?
Can I worship YOU with the mind that I have ...?
I know not much .....in fact nothing ....!!O GOD .....!!
Hold me and behold me as I tread THE PATH ...IN PURSUIT OF EXCELLENCE ...towards YOU ...THE OMNIPOTENT ...AND THE OMNIPRESENT ......!!!!!!



30 comments:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगलवार 12/213 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत आभार राजेश जी ....!!

    ReplyDelete
  3. जो हर तरह से अनुभव किया जा सके..सुन्दर व्याख्या

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  5. अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ ....
    ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
    सुकृत हो जाऊँ.....
    तुम्हारा रूप ....मेरे आखर ....

    अद्भुत भाव

    ReplyDelete
  6. अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ ....
    ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
    सुकृत हो जाऊँ.....
    तुम्हारा रूप ....मेरे आखर ....

    पूरी रचना ही अद्भुत भाव लिए हुये .... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  7. गहन अनुभूति ,उतम प्रस्तुति
    #links

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर व्याख्या,आभार.

    ReplyDelete
  9. पंगु शब्द भी -
    कविता में नृत्य करते है ...
    मौन तरंगित हो ......
    अनहद सा ले जाता है ...
    मेरे मन को उस पार .......
    हे प्रभु ...तुम्हारे पास .....!
    अनुपम भाव संयोजित करती अभिव्‍यक्ति ... आपकी लेखनी का जवाब नहीं

    नि:शब्‍द करते शब्‍द
    आभार

    ReplyDelete
  10. अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ ....
    ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
    सुकृत हो जाऊँ.....
    तुम्हारा रूप ....मेरे आखर ....

    खूबसूरत पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  11. Gahan abhivykti liye sundar racana.

    ReplyDelete
  12. 'उसका' रूप...आपके आखर सुमन...
    कितना सुंदर होगा वो संगम..... :)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  13. भावमयी प्रार्थना..बहुत सुंदर शब्द अनुपमा जी, बधाई!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर रचना

    तत्व को तत्वातीत......
    अगम्य को गम्य कर त्वरित गति देती हैं ...
    मन की अनहद उन्माद तरंगें ...!!

    अच्छे भाव, अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. बहुत उम्दा,गहन अभिव्यक्ति की सुंदर रचना, शुभकामनाएं

    RECENT POST... नवगीत,

    ReplyDelete
  16. बहुत उम्दा गहन अभिव्यक्ति की सुंदर रचना,,,,

    RECENT POST... नवगीत,

    ReplyDelete
  17. अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ ....
    ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
    सुकृत हो जाऊँ.....
    तुम्हारा रूप ....मेरे आखर ....

    प्रभावशाली प्रस्तुति

    ReplyDelete
  18. Beautiful and I loved reading it. Hindi poetry is so good.

    ReplyDelete
  19. जय हो ...


    बुलेटिन 'सलिल' रखिए, बिन 'सलिल' सब सून आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार शिवम भाई ...

      Delete

  20. अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ ....
    ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
    सुकृत हो जाऊँ.....
    यह आशीर्वाद तो आपको मिल चुका है अनुपमा जी ! आपकी रचनाएं मन को तृप्त कर देती हैं ! बहुत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  21. मूक सर्जना मुखरित हो उठती है .....
    पंगु शब्द भी -
    कविता में नृत्य करते है ...
    मौन तरंगित हो ......
    अनहद सा ले जाता है ...
    मेरे मन को उस पार .......
    हे प्रभु ...तुम्हारे पास .....!!

    बहुत ही सुन्दर भावमय रचना

    ReplyDelete
  22. अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ ....
    ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
    सुकृत हो जाऊँ.....
    तुम्हारा रूप ....मेरे आखर ....
    वाह ...खूबसूरत ख़याल ..

    ReplyDelete
  23. आखर-आखर भजे अनहद नाद ..

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर......
    अक्षर के अक्षत चढ़ाऊँ ....
    ज्ञान दो विस्तार पाऊँ ....
    सुकृत हो जाऊँ.....
    तुम्हारा रूप ....मेरे आखर ....

    कितनी सात्विक सी लगती है आपकी रचनाएं...
    बहुत प्यारी रचना.

    अनु

    ReplyDelete
  25. गुण को गुणातीत ...
    तत्व को तत्वातीत......
    अगम्य को गम्य कर त्वरित गति देती हैं ...
    मन की अनहद उन्माद तरंगें ...!!

    तत्व की अनुभुति हो जाये फ़िर क्या बात है? अनहद नाद तो निरंतर गुंजायमान है, मौजूद ही है, सिर्फ़ सुनने वाला गहन मौन में डूब जाये उसके बाद और कुछ नही है, बहुत ही सुंदर, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  26. चुन-चुन के अक्षरों के अक्षत इस सुंदर रचना को अर्पित
    किये हैं -दिव्यता का आभास देती है अनुपमा तुम्हारी यह रचना

    ReplyDelete
  27. शब्द-शब्द अनहद ..

    ReplyDelete
  28. आप सभी का हृदय से आभार ....कविता के सूक्ष्म भाव तक पहुँचने के लिए ....!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!