नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

19 June, 2012

हर प्रात ...कहते हुए ...शुभप्रभात ...!!

इस घने विपिन मे ...
स्मित ...स्वर्णिम विहान सी ...
शुभप्रभात सी ...
एक आकृति ...
सप्त  स्वर ...
नवल-रस परिपूर्ण  कुंभ सी ...
भर-भर ..छलकाती ...
उड़ेलती मधु-रस ...
जीवन सरस..
प्रभास सी ..
आपकी आभा हम पर ..
हम वृक्षों पर ...
बरसती रहे ...
किरणों की सरिता
 सुरमई ......अनुरागमई ...प्रवाहमई .....
यूं ही बहती रहे ....बहती रहे ...बहती रहे .....!!
हर प्रात ...
अलंकृत... विभूषित  करती हुई ......
कहते हुए ...
शुभप्रभात ...हे प्रभु ....!!


**************************************************************************************

विपिन-जंगल
स्मित-मुस्कान
विहान-सुबह

53 comments:

  1. प्रभात की सुन्दरता का वर्णन, इश्वर की कृतियों का गुडगान , दिनकर की किरणों का स्पर्श , स्फूर्तिवान दिन का शुभारम्भ . सुबह अच्छी हो तो दिन फिर दिन बन जाता है . आप की कविता एक अद्भुत अनुभव की कारक होती है . बधाई .

    ReplyDelete
  2. फिर से चर्चा मंच पर, रविकर का उत्साह |

    साजे सुन्दर लिंक सब, बैठ ताकता राह ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार रविकर जी ....!!

      Delete
  3. आपकी आभा हम पर ..
    हम वृक्षों पर ...
    बरसती रहे ...
    किरणों की सरिता
    सुरमई ......अनुरागमई

    बहुत सुंदर .... प्रभु और गुरु दोनों को ही समर्पित पंक्तियाँ बहुत सुंदर हैं .... खूबसूरत भाव

    ReplyDelete
  4. किरणों की सरिता
    सुरमई ......अनुरागमई ...प्रवाहमई .....
    यूं ही बहती रहे ....बहती रहे ...बहती रहे .....!!


    सुन्दर आकांक्षामय सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  5. अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ..आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर और पवित्र आकांक्षा....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर. शुभ-प्रभात अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  8. इस घने विपिन मे ...
    स्मित ...स्वर्णिम विहान सी ...
    शुभप्रभात सी ...
    he prabhu.. ham pe bhi kuchh najar daal
    ham par bhi kuchh saptrangi kirno ki bauchhara kar:)
    bahut khubsurat shabd:))

    ReplyDelete
  9. सुन्दर रचना ....मानों फैला उजास हो...

    ReplyDelete
  10. यूं ही बहती रहे ....बहती रहे ...बहती रहे bahut accha varnan...

    ReplyDelete
  11. बहुत खूबसूरत और प्रभावशाली रचना ....

    ReplyDelete
  12. गज़ब के शब्द भाव ,बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  13. शुभ प्रभात हो
    दिन कुशल मंगल
    अगले दिन फिर
    शुभ प्रभात हो...सिलसिला चलता रहे|

    ReplyDelete
  14. बड़ी सुन्दरता से बांधा है भावों को कविता में...अनुपमा जी

    ReplyDelete
  15. सुप्रभात, नव विहान शुभ..

    ReplyDelete
  16. भावमई रचना का सुंदर सम्प्रेषण,,,,,

    RECENT POST ,,,,फुहार....: न जाने क्यों,

    ReplyDelete
  17. जीवन का महत्व तभी है जब वह किसी महान ध्येय के लिये समर्पित हो। हर प्रभात में जीवन का यह समर्पण ज्ञान और न्याययुक्त हो।

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सरस, मधुर एवं संगीतमयी रचना ! ऐसा मीठा शुभप्रभात सभी के लिए मंगलमय हो यही कामना है !

    ReplyDelete
  19. sunder suprabhat ki sunder rachna

    ReplyDelete
  20. शुभ-प्रभात हम सब के लिए शुभ हो .....येही कामना है !
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  21. शुभप्रभात ...हे प्रभु ....!!

    ReplyDelete
  22. शुभप्रभात ...हे प्रभु ....!!

    ReplyDelete
  23. सुबहे बनारस को अलंकृत करती कविता

    ReplyDelete
  24. शुभप्रभात!!!! :) :) :)
    देखिये ये एक इत्तेफाक है...की आपका ब्लॉग हमेशा मैं सुबह सुबह ही पढता हूँ..और सुबह इतनी सुन्दर और आनंद देंने वाले कविता पढ़ के दिल खुश हो जाता है..
    ये कविता भी एज-युजवल बहुत पसंद आई मुझे! :)

    ReplyDelete
  25. प्रभात इतना सुन्दर भी हो सकता है....अद्भुत !

    ReplyDelete
  26. सुसज्जित , अलंकृत रचना ...

    ReplyDelete
  27. प्रभात का अद्भुत स्वर्णिम रचना........शुभप्रभात ..अनुपमा जी..

    ReplyDelete
  28. इस सौंदर्य वर्षा से अभिभूत ,मेरा हृदय भी प्रकृति के इस अवदान के प्रति नत-शिर है !

    ReplyDelete
  29. इस गहन रमणीयता में ,जहाँ अपना भान भी भूल जाये ,केवल अभिभूत रह जाना ही शेष बचता है !

    ReplyDelete
  30. कविता अच्छी है.

    ...संस्कृतनिष्ठ शब्दों से थोडा परहेज होता तो और अच्छी लगती.

    ReplyDelete
  31. भोर की कोमल किरणों का सोंदर्य रचना में उतार दिया है ...
    अनुपम रचना आपके नाम की ही तरह ...

    ReplyDelete
  32. वृक्षों की ओर से बहुत सुंदर प्रार्थना...हृदय से निकली ! आभार !

    ReplyDelete
  33. हर प्रात ...
    अलंकृत... विभूषित करती हुई ......
    कहते हुए ...
    शुभप्रभात ...हे प्रभु ....!!
    बहुत सुन्दर विनय वाणी

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर रचना!
    इसको साझा करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  35. प्रभात का सुन्दर वर्णन , संग अद्भुत वंदना और कामना.

    ReplyDelete
  36. यूं ही बहती रहे ....बहती रहे ...बहती रहे .....!!
    खूबसूरत और प्रभावशाली रचना ...

    ReplyDelete
  37. आँखे नम हों गई प्रार्थना में डूब कर...हे प्रभु .

    ReplyDelete
  38. प्रार्थना में डूब कर अनुपम रचना रचा है.....हे प्रभु .

    ReplyDelete
  39. आप सभी ने इस प्रर्थना पर अपने हृदय उद्गार दिये ...शत-शत आभार ....!!

    ReplyDelete
  40. प्रभुमय रचना ..

    ReplyDelete
  41. मन में सुर-साज भरती, जीवन में नवरस घोलती बहुत ही सुन्दर रचना.. प्रातः स्मरणीय
    सादर

    ReplyDelete
  42. प्रभात की सुन्दर वेला को शब्दों के आभूषण ने शुभ बना ही दिया !

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर रचना.आप का शब्द वैभव देख मैं चकित रह गया.

    ReplyDelete
  44. बहुत सुन्दर शब्दावली से सराबोर प्यारी रचना प्रभात की स्वर्णिम किरण जैसी

    ReplyDelete
  45. वाह बहुत खूब ... सही भी है सब से पहले तो 'उसे' ही शुभ प्रभात कहा जाये ... बाकी सब तो बाद मे ही आते है !

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!