नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

23 June, 2012

मैं किस बिध तुमको पाऊँ प्रभु..?

मैं किस बिध तुमको  पाऊँ प्रभु..?

अब अखियन  नीर बहाऊँ प्रभु ...
पग धरो श्याम मत बेर करो ...
मन मंदरवा   सुधि-छाप धरो..
अब  अंसुअन पांव पखारूँ प्रभु ...

मैं किस बिध तुमको  पाऊँ प्रभु..?

मन का इकतारा बाज रहा ..
सुर बिरहा  आकुल साज रहा ...

तुम कौन गली ....ऋतु बीत चली ....!
मेरे हिरदय मधु  प्रीत पली ...
तुम कौन गली ....ऋतु बीत चली ...
निज  प्राण पखेरू निकसत हैं ...
मन सुमिरत वंदन गावत है ...
तरसत मन  अब हरि दरसन दो ....
हरो पीर मेरी ...तर जाऊँ प्रभु ...!!

मैं किस बिध तुमको  पाऊँ प्रभु..?

50 comments:

  1. सुन्दर निवेदन!!

    ReplyDelete
  2. इस रचना की गेयता अद्भुत होगी..एक प्रयास तो प्रस्तुत कीजिये..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपकी शुभकामनाओं के लिये प्रवीण जी ....ज़रूर ...अब कोशिश करती हूँ ....रचना को सुर देना अपने आप मे एक अलग विधा है ....इसलिये थोड़ा समय लग रहा है ....मन मे है मेरे भी कि अपने लिखे हुए गीतों को स्वर देकर प्रस्तुत करूँ ...!!

      Delete
  3. मीरा सी व्याकुलता और समर्पण ...

    ReplyDelete
  4. कल 24/06/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार यशवंत ...!!

      Delete
  5. प्रभु मिलन की छटपटाहट..मन की सच्ची व्याकुलता को बहुत खुबसूरत शब्दों में चित्रित किया है.....अनुपमा जी.. सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रार्थना
    :-)

    ReplyDelete
  7. मत व्याकुल हों....
    ऐसे प्यारी प्रार्थना प्रभु अवश्य सुनेंगे
    सुन्दर रचना अनुपमा जी..........
    सस्नेह.

    ReplyDelete
  8. निज प्राण पखेरू निकसत हैं ...
    मन सुमिरत वंदन गावत है ...
    तरसत मन अब हरि दरसन दो ....
    हरो पीर मेरी ...तर जाऊँ प्रभु ...!!
    भावमय करते शब्‍द ... उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार

    ReplyDelete
  9. प्रभु को पाने की भावपुर्ण अनुपम निवेदन,,,

    MY RECENT POST:...काव्यान्जलि ...: यह स्वर्ण पंछी था कभी...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-062012) को चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार शास्त्री जी ...!!

      Delete
  11. बहुत सुन्दर ..., प्रभुचरणोँ मेँ भावपूर्ण निवेदन ।

    ReplyDelete
  12. ..मुझसे भी आपने बड़े दिनों बाद प्रार्थना करवा ही दी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. :)) कर भला सो हो भला ...!!

      Delete
  13. bhakti bhaav me ram gaya man padh ke..viyog bhi hai..bhakti bhi...

    ReplyDelete
  14. सुंदर भक्ति गीत.

    ReplyDelete
  15. तरसत मन अब हरि दरसन दो ....
    हरो पीर मेरी ...तर जाऊँ प्रभु ...!!

    मन तडपत हरि दर्शन को आज ………बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार ...वंदना जी ...

      Delete
  16. बहुत ही सुन्दर पोस्ट।

    ReplyDelete
  17. सच्चिदानंद की अनुभूति ,देते गीत , प्रवीण जी के स्वर में मेरा भी एक स्वर शामिल है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आशीश जी ...शुभकामनायें ज़ोर पकड़ रही हैं ...प्रभु कृपा हो ही जायेगी ...!!

      Delete
  18. मन तड़पत हरि दर्शन को आज...
    व्याकुलता, अधीरता का अद्भुत गीत !!

    ReplyDelete
  19. विधि हेरत हेरत.. हे ! सखी..बस विधि होई गयी...

    ReplyDelete
  20. कितना सुन्दर यह गीत रचा
    प्रभु तो भक्तन का मीत सदा
    पढ़कर मन में यह बात उठी
    सुर में यह धुन काहे न बजी

    अनुपम स्वर में सुन पाऊँ प्रभु....!


    आदरणीय अनुपमा जी,
    आदरणीय प्रवीण ने जी सही कहा...
    आप इसे गाकर अवश्य सुनाएँ....
    सादर बधाई स्वीकारें इस सुन्दर सृजन के लिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार संजय जी ...आ ही गई है मन मे अब गीतों को स्वर देने की बात ...शीघ्र ही इस पर कार्य प्रारम्भ करूगी ....!!

      Delete
  21. बहुत मनभावन भक्ति गीत ....

    ReplyDelete
  22. आप समर्पित रहें बस , प्रभु को आप नहीं अपितु प्रभु आपको पायेंगे |

    ReplyDelete
  23. प्रभु को पाने की लालसा एक सुन्दर भाव से सजा हुआ ......बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  24. प्रभु भक्ति के अद्भुत भाव.....

    ReplyDelete
  25. अब अखियन नीर बहाऊँ प्रभु ...
    पग धरो श्याम मत बेर करो ...
    मन मंदरवा सुधि-छाप धरो..
    अब अंसुअन पांव पखारूँ प्रभु ..

    bahut sundar praarthna.

    .

    ReplyDelete
  26. मेरे हिरदय मधु प्रीत पली ...
    तुम कौन गली ....ऋतु बीत चली ...
    निज प्राण पखेरू निकसत हैं ...
    मन सुमिरत वंदन गावत है ...
    तरसत मन अब हरि दरसन दो ....
    हरो पीर मेरी ...तर जाऊँ प्रभु ...!!

    मैं किस बिध तुमको पाऊँ प्रभु..
    bhawmay sundar bhakti se sani prarthana .

    ReplyDelete
  27. सुबह-सुबह इतना अच्छा भजन पढ़कर मन मुदित हो चला। यदि इसका गायन भी आपकी आवाज़ में होता, तो ....

    ReplyDelete
  28. वाह..दिल से निकलती प्रार्थना..बहुत ही सुन्दर...प्रभु को पाने की विध मिल जाये फिर क्या कहने....

    ReplyDelete
  29. मेरे हिरदय मधु प्रीत पली ...
    तुम कौन गली ....ऋतु बीत चली ...
    निज प्राण पखेरू निकसत हैं
    .....सार्थकता लिए हुए सटीक अभिव्‍यक्ति ... आभार
    नई पोस्ट .....मैं लिखता हूँ पर आपका स्वगत है

    ReplyDelete
  30. ankhiya hari darsha ko pyasi.....sundar prarthana.

    ReplyDelete
  31. सुंदर समर्पण भाव, सुंदर भजन सच्ची प्रार्थना.

    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  32. सुंदर भजन।
    कंठ दिये नहीं कोयल के...मैं किस विधि इसको पाऊँ प्रभु!

    ReplyDelete
  33. भक्ति भाव लिए सम्पूर्ण गीत

    ReplyDelete
  34. समर्पित भाव .......बिल्कुल उस भजन की तरह "दरस बिन दूखण लागे नैन "
    आभार

    ReplyDelete
  35. Replies
    1. बहुत आभार अजय जी ...आज आपके बुलेटिन में वाकई प्रभु प्रसाद मिल गया ...!!

      Delete
  36. हर पंक्ति के साथ बढ़ती व्याकुलता महसूसती रचना ......बहुत सुन्दर अनुपमाजी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार सारस जी ...

      Delete
  37. तुम कौन गली ....ऋतु बीत चली ...

    aanand aa gaya...!!

    ReplyDelete
  38. आप सभी गुणी जानो का हृदय से आभार ....

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!