नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

18 March, 2012

जीवन के साक्षी ....

दुर्भेद्य तम  को चीरती ...
उषा की पहली किरण ...
स्वर्णिम सी .....


नीरव एकांत में ,
जिंदगी  की आहट ...
झीगुर की आवाज़ ....
एक सांस सी ...

तृषा से व्याकुल ह्रदय ...
पा गया है ...
बस एक बूँद ,,,
स्वाति की ओस  सी ...

क्रोधाग्नि पर बरसती झमाझम ....
बस एक मुस्कान ...
ठंडक सी ...

वृहद् अरण्य पर भटकती रूह ...
मिल गयी मंजिल ...
एक डगर सी ....

डूब के  इस कोलाहल में भी ......
मेरी अनुभूति ....
एक दिव्य मौन सी ...!!

देती है प्रतीति ....
प्रत्येक क्षण में ..कण कण में ...
जीवन के साक्षी ....
तुम्हारे होने के ......
एक आभास सी ......

59 comments:

  1. तम में उषा की किरण, झींगुर नीरव माँय |
    प्यासा चाटे ओस कण, क्रोध करे मुसकाय |

    जंगल में इक पथ मिले, कोलाहल में मौन |
    जीवन के प्रतीति सी, कण कण में तू कौन |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार रविकर जी आपने कविता में चार चाँद लगा दिए ...!आपका कौशल अप्रतिम है ...!!एक जगह टंकण त्रुटि लगती है .....'क्रोध हरे मुस्काय' होना चाहिए क्योंकि कविता में मैं जीवन के साक्षी भाव की बात करना चाहती हूँ इसलिए क्रोध करने कि नहीं बल्कि क्रोध हरने कि बात करना चाहती हूँ ...तभी तुम्हारा ...यानि प्रभु का आभास होता है ...!!...!या मेरा ही आशय स्पष्ट नहीं है ....बताईयेगा ज़रूर ....
      पुनः आभार ...आपने बहुत सुंदर रूप दिया भावों को ...आपकी लेखनी को नमन ...!

      Delete
    2. जी जरुर ।
      बधाई जबरदस्त प्रस्तुति पर ।।

      Delete
  2. सार्थक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  3. क्रोधाग्नि पर बरसती झमाझम ....
    बस एक मुस्कान ...
    ठंडक सी ...
    बढ़िया भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन प्रस्तुति ,...

    ReplyDelete
  4. देती है प्रतीति ....
    प्रत्येक क्षण में ..कण में ...
    जीवन के साक्षी ....
    तुम्हारे होने के ......
    एक आभास सी ......बस यही आभास बना रहना चाहिये।

    ReplyDelete
  5. गहराती भावों की उद्विग्नता

    ReplyDelete
  6. bahut hi gahre bhav.....acchi prastuti

    ReplyDelete
  7. स्वर्णिम सी रचना व्याकुल ह्रदय को मधुर मुस्कान दे रही है..

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 19-03-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  9. विश्वास चाहता है मन , विश्वास पूर्ण जीवन पर
    सुख दुःख के पुलिन डुबाकर, लहराता जीवन सागर
    कविवर पन्त

    भावो की गूढता डूबते उतराते रहते है . अत्यंत भावप्रवण .

    ReplyDelete
  10. वृहद् अरण्य पर भटकती रूह ...
    मिल गयी मंजिल ...
    एक डगर सी ....

    मनोभावों का सुंदर रूपांतर।
    बहुत अच्छी कविताएं।

    ReplyDelete
  11. क्रोधाग्नि पर बरसती झमाझम ....
    बस एक मुस्कान ... बहुत सुन्दर मधुर भाव

    ReplyDelete
  12. वाह!!!
    शब्दों का झरना बहा दिया आज तो आपने...

    ReplyDelete
  13. नीरव एकांत में ,जिंदगी की आहट ...
    झीगुर की आवाज़ ....
    एक सांस सी ...

    तृषा से व्याकुल ह्रदय ...
    पा गया है ...बस एक बूँद ,,,
    ओस सी ...
    वाह, बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  14. इस कविता में यथार्थबोध के साथ कलात्मक जागरूकता भी स्पष्ट है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. डूब कर इस कोलाहल में भी
      मेरी अनुभूति—
      एक दिव्य मौन सी---
      अति-सुंदर

      Delete
    2. डूब कर इस कोलाहल में भी
      मेरी अनुभूति—
      एक दिव्य मौन सी---
      अति-सुंदर

      Delete
  15. सुंदर बिंबों से सजी एक सकारात्मक सोच लिए सुंदर रचना

    ReplyDelete
  16. देती है प्रतीति ....
    प्रत्येक क्षण में ..कण में ...
    जीवन के साक्षी ....
    तुम्हारे होने के ......
    एक आभास सी .....

    गहन अभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  17. डूब के इस कोलाहल में भी ......
    मेरी अनुभूति ....
    एक दिव्य मौन सी ...!!
    प्रत्येक कण में तुम्हारे होने के एहसास सी !
    वाह ...बेहतरीन !

    ReplyDelete
  18. सुंदर कोमल भावपूर्ण कवि‍ता

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया भावपूर्ण प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  20. भावपूर्ण प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  21. देती है प्रतीति ....
    प्रत्येक क्षण में ..कण में ...
    जीवन के साक्षी ....
    तुम्हारे होने के ......
    एक आभास सी ......


    बहुत सुन्दर भीगी-भीगी-सी मधुर भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  22. वाह ...बहुत ही बढि़या ।

    ReplyDelete
  23. उर्मिला सिंह जी कि टिप्पणी ...मेल द्वारा प्राप्त हुई ....

    डूब कर इस कोलाहल में भी
    मेरी अनुभूति—
    एक दिव्य मौन सी---
    अति-सुंदर


    आभार उर्मिला जी ...

    ReplyDelete
  24. || मुस्कानों की बात है, अजब निराली जान
    अंधियारा हरता सदा, उज्जर कर दे प्राण ||

    बहुत सुन्दर रचना.
    सादर

    ReplyDelete
  25. खूबसूरत भाव संयोजन सुन्दर प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  26. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ. अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    जितने सुन्दर चित्र उतनी सुन्दर रचना...बधाई स्वीकारें



    नीरज



    नीरज

    ReplyDelete
  27. behad khoobsoorat bhavpoorn aur sashakt rachna...badhayee.

    ReplyDelete
  28. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  29. मन का भावों की सुन्दर अभिवयक्ति |


    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  30. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  31. वाह, बहुत सुंदर
    क्या कहने

    ReplyDelete
  32. वाह !!! बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  33. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    अद्भुत रचना के लिए बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    ReplyDelete
  34. डूब के इस कोलाहल में भी ......
    मेरी अनुभूति ....
    एक दिव्य मौन सी ...!!

    देती है प्रतीति ....
    प्रत्येक क्षण में ..कण में ...
    जीवन के साक्षी ....
    तुम्हारे होने के ......
    एक आभास सी ......

    बहुत अच्छी रचना। अनुभूतियों की गहराई में डूबकर मोती चुने हैं आपने। मेरी बधाई और नए संवत्सर की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार दिनेश जी ...!!
      नवरात्री की मंगलकामनाएं ...!!

      Delete
  35. बहुत सुन्दर प्रस्तुति| नवसंवत्सर २०६९ की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  36. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन सटीक रचना,......

    my resent post


    काव्यान्जलि ...: अभिनन्दन पत्र............ ५० वीं पोस्ट.

    ReplyDelete
  37. जीवन के साक्षी भाव पर हस्ताक्षर करने के लिए आप सभी का बहुत बहुत आभार ....ईश्वर करें नव वर्ष सभी के लिए जीवन से भरे रंग लाए .....

    ReplyDelete
  38. mangakmay ho aapko bhi .dhnyavad mere blog ki sarthakta siddha karne hetu .

    ReplyDelete
  39. जीवन के साक्षी केा अस्तित्व हमें पल पल अनुभव होता रहता है । सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  40. वाह...
    मंगल कामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  41. बहुत अभिव्यक्ति से परिपूर्ण सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  42. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति .पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये. मधुर भाव लिये भावुक करती रचना,,,,,,

    ReplyDelete
  43. बहुत सुंदर ईश्वर के अस्तित्व को ऐसे ही महसूस किया जा सकता है ।

    ReplyDelete
  44. Aap behad achha likhtee hain...deewali mubarak ho!

    ReplyDelete
  45. दीपावली की अनेक शुब कामनाएं ।

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!