नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

20 July, 2012

श्याम भजन ....

वैसे तो गीत को स्वर देना एक अलग ही विधा है ..!कभी इससे  पहले कोशिश नहीं की थी किसी गीत को स्वर देना की ...पर आज समझ मे आया प्रोत्साहन क्या होता हैऔर क्या कुछ कर सकता है .. ...!मुझे कभी विश्वास नहीं था मैं कर पाउँगी पर आप सभी के कहने पर ही आज मैंने  अपने  लिखे एक श्याम भजन ..रीत रही मोरी प्रीत .....को स्वर्बद्ध किया और स्वयम ही इसे संगीत्बद्ध   भी किया  है ...!!इसका छायांकन  भी मेरी ही कोशिश है  ...मेरे जीवन की एक श्रेष्मठतम  उपलब्द्धी है ये ...!और श्रेय जाता है ...आप सभी को ....
मधुरेश ,सलिल जी ,मनोज जी,अशीष जी ,प्रवीण जी ,यशवंत ,मुकेश ,अरविंद जी ,संगीता दी अनमिका जी ,अनु,दिगम्बर नासवा जी,रमाकांत जी ,शिखा जी,रश्मी दी ,अमृता जी,बाबुषा ,धीरेंद्र जी ,सतीश जी, शास्त्री जी,रविकर जी ,ललित जी ,शिवम ,अभि,वीरुभई जी ,संजय भास्कर जी ,हिमांशु जी ,...
समय समय पर आप सभी मुझे बहुत प्रोत्साहित करते रहे हैं कि मैं अपनी  रचना स्वयम स्वर बद्ध  करूं.....वैसे तो और भी बहुत नाम हैं लिखती जाउँ तो उसी से पोस्ट भर जायेगी ......

आप सभी का स्नेह और आशिर्वाद भरपूर  मिला है ....तभी  ये प्रभु कृपा भी हुई है ...लीजीये ये विरह गीत सुनिये .....



53 comments:

  1. सुन्दर बहुत सुन्दर......
    मनभावन... अनुपमा जी.....
    आप गुणों की खान हो सच्ची....
    और सुनने मिलेगा ऐसी उम्मीद है...अनुरोध है....
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut aabhaar Anu ..aage bhii koshish karatii rahoongi ..zaroor ..

      Delete
  2. सुन्दर शब्द ,मनोहारी धुन , मनभावन भजन..
    बहुत सुन्दर ..!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर आवाज के साथ बेहतरीन भजन की प्रस्तुति,,,,
    बधाई अनुपमा जी,,,,,

    RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

    ReplyDelete
  4. प्राणों में बस जात्ते हैं इस तरह के भजन ! आप इसी तरह स्वर माधुरी बिखेरती रहें!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार हिमांशु जी.....!

      Delete
  5. बहुत सुन्दर भजन आपकी आवाज
    बहुत प्यारी है .....
    विडिओ भी बहुत बेहतरीन है...
    शुभकामनाये :-)

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर भजन .... संगीत भी और छायांकन भी गजब का .... मज़ा आ गया ... आगे भी सुनने का अवसर दें

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी दी ज़रूर कोशिश करूंगी ..

      Delete
  7. अति सुंदर...मनमोहक भजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार ...मोनिका जी ..

      Delete
  8. मनभावन भजन सुनने का अवसर मिला बहुत बहुत आभार अनुपमा जी

    @ संजय भास्कर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार संजय जी ..

      Delete
  9. मन को शांति प्रदान करता भजन !

    ReplyDelete
  10. मधुर, सुन्दर, सुर-समृद्ध...मन भक्ति में उतर गया..

    ReplyDelete
  11. अभी तो कई ऐसे ही अनछुए स्वरों को छेड़ना बाकी ही है..शुभकामनाये...

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह अमृता जी आपने आगे का मार्ग खोल दिया ...!!बहुत आभार ...

      Delete
  12. मधुर स्‍वर लिए उत्‍कृष्‍ट गीत ... बधाई सहित शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार सदा जी ..!!

      Delete
  13. कृष्ण तो भक्त वत्सल है , और अपने प्रिय की पुकार पर नंगे पांव दौड़े चले आते है. आप की इस श्याम भजन में शब्दों और भावो ने भक्ति के सागर में डूबने का अनुपम अवसर दिया . सुर और संगीत इसीलिए. अप्रतिम गान .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आशीश जी ..

      Delete
  14. मंत्रमुग्ध कर दिया

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार रश्मि दी ...!!

      Delete
  15. बहुत ही मधुर मनमोहक भजन ..आभार अनुपमा जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार माहेश्वरी जी ..

      Delete
  16. बहुत सुन्दर रचना, सुन्दर संगीत संयोजन. विडीयो में चित्र संयोजन भी प्रसंशनीय है..इसे youtube पर डालें , बहुत लोकप्रिय होगा. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार संतोष जी .. youtube पर ही है ये ...जब आप क्लिक कर के सुन रहे होंगे ..कर्सर को स्क्रीन पर ले जायें ...आप्को साइड मे youtube लिखा हुआ दिखेगा ..उस पर क्लिक करें...
      कुछ परेशानी हो दुबारा पूछ लें...

      Delete
  17. वाह !! कर्णप्रिय मधुर गीत...मधुर स्वर...मनभावन छायांकन|
    बधाई और शुभकामनाएँ स्वीकार करें !!

    ReplyDelete
  18. मधुर आवाज़ ,सुंदर भजन और मोहक छायांकन ...
    बहुत-बहुत मुबारक हो |
    शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  19. अध्यात्म भाव से मन आप्लावित हो गया है -आपने स्वर -संगीत बद्ध किया है यह अपने में ही एक अतिशय सुखद अनुभव है -क्योकि आपके गायन में एक परिपूर्णता और परिपक्वता है और क्लासिकी अभ्यास की झलक भी है !

    ReplyDelete
  20. Replies
    1. बहुत आभार अमित जी ..

      Delete
  21. बारिस में तन ही नहीं मन भी भीग गया भक्ति भाव से भरा श्याम के रंग में रंगा गीत .मनमोहक

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार रमाकांत जी ..!!

      Delete
  22. अति सुन्दर...मधुर!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार समीर जी ..

      Delete
  23. वाह अनुपमाजी .......मज़ा आ गया ...आप इतनी बहुमुखी प्रतिभा की धनि है ......जितना आपकी प्रतिभाएं अनावृत होती जा रही हैं ...आप एक inspiration बनती जा रही हैं .....साभार यह मधुर रसपान कराने के लिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे सरस जी हृदय से आभार ...ये आपका स्नेह बोल रहा है ...अपना प्यार और आशिर्वाद बनाये रहियेगा ..!!

      Delete
  24. manbhavan, khubsurat....
    sach me anupama jee aap multi talented ho.
    har vidha me aap apna sthan rakhteho
    badhai........

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार मुकेश जी ..!!

      Delete
  25. लाजवाब! ये तकनीक तो आपसे सीखना पड़ेगा, अनुपमा जी।

    गाने के साथ-साथ जो तस्वीरें आ रही हैं और उस पर गीत के बोल जो लिखे आ रहे हैं इसने इस प्रस्तुति में चार चांद लगा दिए हैं। अब आप अपने सहृदयता से कहेंगी कि यह मुश्किल काम नहीं है, पर जब तक न आता हो मुश्किल तो लगता ही है। इसलिए इसी ब्लॉग पर इसकी भी कक्षा लगाएं।

    गीत के बोल के साथ जो स्वर देने का काम आपने यहां किया है, यही मैं आपसे आपकी हर कविता के साथ चहता हूं। आपके स्वर देने से इसका सौन्दर्य कई गुना बढ़ जाता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार मनोज जी .....आप सभी का आशिर्वाद वा शुभकामनायें सम्भवत; वो भी करा जायें ....आशिर्वाद मैं इसलिये कहती हूँ क्योंकि जब शुभकामनाओं मे ईश्वरीय अंश जुड़ता है तब वो आशिर्वाद बनती हैं ...!!

      Delete
  26. ओह! मेरा स्पीकर धोखा दे गया है...
    उसके ठीक होने तक सुन न पाने के मलाल के साथ ही रहना पड़ेगा मुझे...
    हालांकि जानता हूँ आपका गायन अद्भुत होगा...
    सादर।

    ReplyDelete
  27. वाह! आनंद आ गया... सचमुच...
    सादर बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  28. मैंने सोचा ही था की पिछले पोस्ट में पूछूं आपसे...की आपने तीनो काम खुद किया है, इतनी टैलेंटेड हैं आप...कैसे? :) :)
    खैर मुझे तो बहुत पसंद आया आपका काम!! :)

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!