नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

11 July, 2012

मचल रही बूंदरी ...!!!!!!


सना नना...
सना नना सायँ सायँ   ....
पुरवा  करत अठखेली  ...
 उड़ाए ले रही सर से चूनरी ...!!

चम-चम चमक चमक.....
चमके ......मन कामिनी...
दम-दम दमक दमक ....
दमके   दुति दामिनी ....
री सखी ...रूम-झूम ...
लूम-झूम ..झूम-झूम ..
घन घन बरस रही बूंदरी ...!!

झम-झम ...झमाझम .....
मूसलादार  पड़ रही वृष्टी...
भीग रही  ....तर बतर अतर  ... समग्र सृष्टी..
सखियाँ खिल-खिल भींजत जायें....!!
हंस-हंस घूम-घूम फुगड़ी खेलें....
पटली जड़ाऊ नगदार ...
पहने इठलायें...!!
हाय सखी ऐसे मे....
श्याम  मोसे रूठ रूठ  जाएँ ...!!
अमुवा झूरा ना झुरायें...
सखी कैसे करूँ मनुहार ....??
काह करूँ..कित जाऊँ..??
मन बतियाँ कह नाहिं पाऊँ ....
बोलन बिन चैन नाहिं पाऊँ .......!!
कैसे मनाऊँ ....??

आली ....घन घन घना घन..
 श्याम  घन  बरस रही बूंदरी .....
जियरा मोरा भिगोय रही ...
चंचल श्याम सी ...
मन अभिराम सी ...
हाय री नादान ....
कैसी मचल रही बूंदरी ...!!!!!!

35 comments:

  1. बहुत सुन्दर अनुपमा जी....
    आपकी बूंदा बांदी ने भावविभोर का दिया...

    ReplyDelete
  2. सावन की मचलती बूंदों के शब्द चित्र सी कविता !

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा वर्णन बरखा रानी का ....

    ReplyDelete
  4. चंचल श्याम सी ...
    मन अभिराम सी ...
    हाय री नादान ....
    कैसी मचल रही बूंदरी ...!!!!!!

    मन हर्षाती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  5. आली ....घन घन घना घन..
    श्याम घन बरस रही बूंदरी .....
    जियरा मोरा भिगोय रही ...
    चंचल श्याम सी ...
    मन अभिराम सी ...
    हाय री नादान ....
    कैसी मचल रही बूंदरी ...!!!!!!


    बहुत सुंदर ..... संगीत मयी ध्वानि से गुंजरित सुंदर दृश्य उपस्थित कर दिया है ...

    ReplyDelete
  6. आली ....घन घन घना घन..
    श्याम घन बरस रही बूंदरी .....
    जियरा मोरा भिगोय रही ...
    चंचल श्याम सी ...
    मन अभिराम सी ...
    हाय री नादान ....
    कैसी मचल रही बूंदरी ...!!!!!!
    वाह ... वाह मचलती बूंदों का सजीव चित्रण अत्‍यन्‍त मनमोहक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. वाह: मंद मंद मन को लुभाए बूँदरी..आली री कितना सुन्दर शब्द संजोया..निशब्द भए हम तो सखी मोरी..

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर
    एक लाइन याद आ रही है


    मंदिर के हिरिक हिरिक
    नाचत हैं थिरिक थिरिक
    गंगाजल छिरिक छिरिक
    दर्शन कू जात हैं...

    ReplyDelete
  9. सावन मय संगीत मय कविता ... बहुत सुन्दर कविता...

    ReplyDelete
  10. आली ....घन घन घना घन..
    श्याम घन बरस रही बूंदरी .....
    जियरा मोरा भिगोय रही ...
    चंचल श्याम सी ...
    मन अभिराम सी ...
    हाय री नादान ....
    कैसी मचल रही बूंदरी ...!!!!!!.... राग स्पंदित हो उठते हैं इन बोलों में

    ReplyDelete
  11. इस पोस्ट कों पढते पढते तेज मूसलाधार बारिश का एहसास गूंजने लगा है ... संगीत में तो एहसास जुड़े होते अं ... रचना में भी ये एहसास जुड जाते हैं अगर भाव जबरदस्त हों ...
    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  12. अनुपमा जी, बरखा के आगमन पर थिरकना और गाना एक स्वाभाविक कृत्य है...उतना ही स्वाभाविक है आपकी कलम से बरखा गीत उपजना..बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  13. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 12 -07-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... रात बरसता रहा चाँद बूंद बूंद .

    ReplyDelete
  14. ला ला ला ला अ अ अ ....बस ऐसे ही गुनगुनाने को दिल किया :)

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर, झमाझम बारिश में हम भी भीग गए....

    ReplyDelete
  16. गुनगुनाती बारिश सी रचना |

    ReplyDelete
  17. मन बतियाँ कह नाहिं पाऊँ ....
    बोलन बिन चैन नाहिं पाऊँ .......!!
    बड़ा ग़जब का मौसम है यह। मिलन का भी, विरह का भी, मौन का भी संवाद का भी। नमी और हरियाली के संगम से जो मन में होलेरें उठती हैं, उसका सुंदर चित्रण किया है आपने।
    मुझे भी अपनी एक रचना याद आ गई, विचार पर कल लाता हूं।

    ReplyDelete
  18. बरसात की बूंदों की तरह आपकी कविता भी कर्णप्रिय सरगम छेडती है . धरा की प्यास बुझाने को आतुर , परोपकार की भावना लिए बूंदों का अविरल नृत्य . आपकी लेखनी ने साकार कर दिया है . अनिवर्चनीय आनंद प्रद रचना .

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर रचना है सावन की रिमझिम फुहार सी ! तन मन दोनों को ही सराबोर कर गयी !
    हर शब्द मन में संगीत की मधुर तान सा ध्वनित प्रतिध्वनित हो रहा है ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  20. अच्छी लगी यह वर्षा ध्वनि भी।

    ReplyDelete
  21. सावन की रिमझिम फुहार में सराबोर बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST...: राजनीति,तेरे रूप अनेक,...

    ReplyDelete
  22. सावन के मौसम में सरसता समेटे सुन्दर गीत

    ReplyDelete
  23. sawan ke bund bund si shabdon ko tapkati rachna ....sundar..

    ReplyDelete
  24. बहुत ही सुंदर रचना ....

    ReplyDelete
  25. शब्दों से सावन की छटा बिखेरता मनोरम सावन गीत...

    ReplyDelete
  26. खूबसूरत अभिव्यक्ति ....रिमझिम फुहार की

    ReplyDelete
  27. आपकी रचना ने पावों में थिरकन पैदा कर दी ....उम्दा....!!!!

    ReplyDelete
  28. अद्भुत ध्वन्यान्कन...
    शब्द शब्द बज रहे हैं।
    गीत में वे सज रहे हैं।
    सादर।

    ReplyDelete
  29. गज़ब का स्वागत गीत ...

    ReplyDelete
  30. खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित है
    जो कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग है, स्वरों में कोमल निशाद और बाकी स्वर शुद्ध लगते हैं, पंचम इसमें वर्जित है, पर हमने इसमें अंत में पंचम का प्रयोग भी किया है, जिससे इसमें राग
    बागेश्री भी झलकता है.
    ..

    हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया है.
    .. वेद जी को अपने संगीत
    कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती
    है...
    Feel free to surf my web blog ... संगीत

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!