नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

10 January, 2012

क्षितिज की तरह ...बहुत दूर हो गयी हूँ मैं ......!

आज सोच में डूबी ..
सोचती हूँ ..क्या हूँ  मैं ...?
जो मैं हूँ वो हूँ ....या ...?
तुम्हारी सोच हूँ मैं ....?

हाँ ... तुम्हारी सोच ही तो  हूँ .......
जब खुश हो तुम...
नीले आसमान पर ..
खूबसूरत रंगों की तरह ...
हंसती मुस्काती ...
तुम्हारे सुंदर भावों की तरह ...
कितनी सुंदर दिखतीं हूँ मैं ...
अपने भाव देखते हो तुम मुझमे ..

क्षितिज ....!!
क्षितिज की तरह.........
हवा सी बहती हुई  ... ....
मन को ख़ुशी देती हुई ... ...

जब जीने लगते हैं..
मुझमे तुम्हारे विचार ..
और  नहीं  चल  पाती  मैं -
 तुम्हारे  अनुसार ......



तब बदल जाते  हो  तुम ..
आसमान पर
बदले हुए रंगों की तरह ...
तस्वीर बदल जाती है मेरी,
तुम्हारे मन में  भी ......
तुम्हारी सोच की तरह बदली  हुई ....!!

अपनी सोच के सांचे में..
अपने मन के ढांचे में ढाला है तुमने मुझे ...
हाँ यथार्थ नहीं ..
तुम्हारी बदली हुई सोच
हो गयी  हूँ मैं अब ....!!
यथार्त में तो ..
मैं जैसी कल थी ...
वैसी ही आज भी हूँ ...
मैं नहीं बदली ...
अब  सोच बदल गयी है तुम्हारी....
इसीलिए ...
अब दृष्टि भी बदल गयी है तुम्हारी ..
तभी  तो  मैं हूँ दूर ...
तुम  से दूर ...!!

अभी भी ..
क्षितिज  की तरह ही ...
हवा सी बहती हुई ...
बहुत दूर हो गयी हूँ मैं ......

30 comments:

  1. वाह वाह अनुपमा जी...
    सच है...नज़र का फेर होता है सब...
    बहुत खूब.

    ReplyDelete
  2. आकाश और धरती का मिलन है क्षितिज, मिलन तो यहाँ पर भी है।

    ReplyDelete
  3. कई बार इंसान नहीं बदलता , नजर बदल जाती है . और सब कुछ बदला लगता है !
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  4. जब बदल जाते हो तुम ..
    आसमान पर
    बदले हुए रंगों की तरह ...
    तस्वीर बदल जाती है मेरी,
    तुम्हारे मन में भी ......
    तुम्हारी सोच की तरह बदली हुई ....!!
    मैं तो वही होती हूँ, फिर ऐसा क्यूँ ..

    ReplyDelete
  5. अब दृष्टि भी बदल गयी है तुम्हारी ..
    तभी तो मैं हूँ दूर ...
    तुम से दूर ...!!

    सुन्दर और अर्थपूर्ण पंक्तियाँ ..

    ReplyDelete
  6. अब सोच बदल गयी है तुम्हारी....
    इसीलिए ...
    अब दृष्टि भी बदल गयी है तुम्हारी ..
    तभी तो मैं हूँ दूर ...
    तुम से दूर ...!!

    अभी भी ..
    क्षतिज की तरह ...
    बहुत दूर हो गयी हूँ मैं ......

    :))...
    kya kahun, bahut pyare se shabd..

    ReplyDelete
  7. क्षितिज़ पर ही मिलन संभव है।

    ReplyDelete
  8. bhaavo ka ek sundar sayjan dikhta puri rachna me.....

    ReplyDelete
  9. जब बदल जाते हो तुम ..
    आसमान पर
    बदले हुए रंगों की तरह ...
    तस्वीर बदल जाती है मेरी,
    तुम्हारे मन में भी ......
    तुम्हारी सोच की तरह बदली हुई ....!! बहुत सही ......

    ReplyDelete
  10. इस रचना में जो आत्मीयता के साथ शिकायत है वह मन को छूता है।

    ReplyDelete
  11. वाह बहुत बढ़िया!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर और अर्थपूर्ण पंक्तियाँ ..

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत प्रस्तुति.
    अनुपम भावों का सुन्दर अहसास
    कराती हुई.

    आभार.

    ReplyDelete
  14. अपनी सोच के सांचे में..
    अपने मन के ढांचे में ढाला है तुमने मुझे ...
    हाँ यथार्थ नहीं ..
    तुम्हारी बदली हुई सोच
    हो गयी हूँ मैं अब ....!!
    अर्थ पूर्ण विचारों की सुन्दर अभिव्यक्ति,
    vikram7: हाय, टिप्पणी व्यथा बन गई ....

    ReplyDelete
  15. खूबसूरती से मन में आये भावों को उकेरा है .. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  16. "कभी जब नहीं चल पाती तुम्हारे मुताबिक मैं ...
    रंग बदल जाते हैं क्षितिज के ..!!"- bemisaal kalpana hai..badhaai anupamaji.

    ReplyDelete
  17. अर्थ पूर्ण विचारों की सुन्दर अभिव्यक्ति|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  18. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति ।
    मेरी नई कविता देखें । और ब्लॉग अच्छा लगे तो जरुर फोलो करें ।
    मेरी कविता:मुस्कुराहट तेरी

    ReplyDelete
  19. मन में उमड़ते भावों को अभिव्यक्ति किया है ... उम्दा रचना ...

    ReplyDelete
  20. तब बदल जाते हो तुम ..
    आसमान पर
    बदले हुए रंगों की तरह ...
    तस्वीर बदल जाती है मेरी,
    तुम्हारे मन में भी ......
    तुम्हारी सोच की तरह बदली हुई ....!!

    बहुत सुन्दर पोस्ट|

    ReplyDelete
  21. अपनी सोच के सांचे में..
    अपने मन के ढांचे में ढाला है तुमने मुझे ...
    हाँ यथार्थ नहीं ..
    तुम्हारी बदली हुई सोच
    हो गयी हूँ मैं अब ....!!
    यथार्त में तो ..
    मैं जैसी कल थी ...
    वैसी ही आज भी हूँ ...
    बहुत सहजता से बदलती हुई सोच के सतह बदलते हुए सम्बन्धों को दर्शाया है आपने, किसी ने ठीक कहा है कि हम दूसरों के आईने में खुद को ही देखते हैं.

    ReplyDelete
  22. बहुत ही गहन भावनाओं के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  23. दृष्टि , सोच , सांचा- ढांचा ..आदि सब काल के सापेक्ष परिवर्तनशील हैं . इन सबके बीच कोई शाश्वत है तो हमारा होना और अपने निकष पर इन्हें केवल देखना भर ही है . कर्ता से विमुख होकर . .. अपरिवर्तनशील.. क्षतिज की तरह..हवा सी बहती हुई..

    ReplyDelete
  24. तब बदल जाते हो तुम ..
    आसमान पर
    बदले हुए रंगों की तरह .
    बहुत सुंदर भाव संजोये है और उनकी अभिव्यक्ति भी बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  25. man me umadte bhavo ko bakhubi abhivyakt kiya hai ...

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छी रचना,सुंदर प्रस्तुति,बढ़िया लिखा पसंद आया,....
    नई रचना-काव्यान्जलि--हमदर्द-
    मै समर्थक बन गया हूँ आप भी बने तो मुझे हार्दिक प्रसन्नता होगी,

    ReplyDelete
  27. sach kaha...insaan nahi badalte bas soch badal jati hai.kabhi2 jo dil ke bahut pas hota hai vo hi dur chala jata hai...sundar prastuti...
    मिश्री की डली ज़िंदगी हो चली

    ReplyDelete
  28. मेरे भावों से निकट हैं आप ....सभी गुनी जानो का आभार ....
    उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो ...
    न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये ....!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!