नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

01 August, 2011

देखो ..देखो मतवारी वर्षा....!!


धन घड़ी आई...पिया के आवन की पतियाँ लायी ....!!

अपनी सभ्यता और संस्कृति से  जुड़े ,हम जैसे लोगों के लिए तीज का त्यौहार अपार हर्ष, आनंद ,उत्साह लेकर आता है ...!!शुभ सन्देश..शुभ घड़ी लाता है ...!!
कल २-अगस्त को हरियाली तीज है ... आप सभी को हरियाली -तीज की अनेक अग्रिम .. शुभकामनाएं ..!!सपरिवार सहर्ष हरियाली तीज मनाएं ...घेवर खाएं ..!!
आज फिर एक खुशनुमा रचना है वर्षा पर.......


कड़-कड़  कड़कडाती...
मृदंग सा बजाती....
दूर से आ रही है ..उड़ के आ रही है ..
बिजुरी देती दस्तक..!!
दूर से आ रही है ..
उड़ के आ रही है ..
सन न  न साँय-साँय डोले ...
मनवा के भेद खोले ..
पवन संग ..
देखो ..देखो ....
झम-झम झमझमाती मतवारी वर्षा....!!
..............!!!
मुझे ..तुम्हें   भिगाने ...
नृत्य करने लगा है मन ....
 छुपा हुआ बचपन....
गोल-गोल घूमता ..
 भींजता  तन-मन...
...जाने-अनजाने ...!!
झूम कर मल्हार ..लगा है गाने ...!!

घड़-घड़  घड़ घडाते ...
चहुँ दिस छाये ..
कृष्णा से नीले अम्बर से ..
बरसे ऐसी धार
धरा पर ..
Painting by Pragya Singh.
हरियाली राधा मन भाये ..
अधरों पर मुस्कान जगाये ..
रिमझिम पड़ रही प्रेम फुहार ...
सजनवा अमुवा पे  झूला दो डार ...
तीज को आयो है त्यौहार...


मोरा जिया गया हार .
मगन अब ....
झूला-झूले ...
सावन के गीत गाये  ..
धन्य री मतवारी वर्षा ...
ये कैसा ...
अनुराग जगाये ...
चहुँ दिस ..बरस ..बरस ...
अमिय रस  बरसाए .. ..!!


52 comments:

  1. सुबह सुबह शब्दों की बरस रही सुरताल का आनन्द उठा रहा हूँ, आभार।

    ReplyDelete
  2. अनुपमा जी
    सुन्दर रचना के लिए आभार सहित , आपको भी हरियाली तीज की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. shabdon ki komal barsat ki boondon se man harshit ho gaya.badhai

    ReplyDelete
  4. ये कैसा ...
    अनुराग जगाये ...
    चहुँ दिस ..बरस ..
    रस बरसाए .. ..!!

    आपने सच में ही शब्दों का संगीत बजा,भावों की रिमझिम झड़ी लगा दिल को रस से सराबोर कर दिया है अनुपमा जी.

    अनुपम अनुराग का उदय कर रही है आपकी शानदार प्रस्तुति.बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  5. मन को आनन्दित कर गयी रचना ..... मनमोहक भाव

    ReplyDelete
  6. दिल को छूती रचना...

    ReplyDelete
  7. हरियाली तीज की आपको भी बहुत बहुत शुभकामनायें /तीज पर लिखी गई सावन की फुआर मैं डूबी बहुत प्यारी रचना /बधाई स्वीकारें /

    ReplyDelete
  8. waah......sargam si barsaat , bheeg uthe gaat gaat ang ang , mahka chhum chhanan

    ReplyDelete
  9. Anupama jee , bahut achchha likhati hain aap . aanandlok lagta hai.

    ReplyDelete
  10. आपको भी हरियाली तीज की बहुत बहुत शुभकामनाएँ।
    कविता बहुत अच्छी लगी।

    सादर

    ReplyDelete
  11. सावन मे मस्त रंग उकेर दिये हैं………बहुत खूब्।

    ReplyDelete
  12. सुन्दर रचना ..... आपको भी हरियाली तीज की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर, क्या कहने

    हरियाली राधा मन भाये ..
    अधरों पर मुस्कान जगाये ..
    रिमझिम पड़ रही प्रेम फुहार ...
    सजनवा अमुवा पे झूला दो डार ...
    तीज को आयो है त्यौहार...

    ReplyDelete
  14. क्या कल हरितालिका तीज है ???
    जहाँ तक मुझे याद है सावन के बाद कभी माँ ये व्रत करती है..
    खैर बहुत सुन्दर लिखा है..:) आपको व्रत की शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  15. नहीं शेखर जी ये हरियाली तीज है |हरतालिका तीज अगले माह आएगी ..गणेश चतुर्थी से पहले वाले दिन ....भादों में ...आपको रचना पसंद आई ..आभार..!!

    ReplyDelete
  16. वाह अनुपमा जी,
    यहाँ आफिस में शीशे से बाहर तेज धूप का नज़ारा है लेकिन आपकी रचना पढ़ते बारिश का अहसास होने लगा... कानो में गरज से सुनाई पड़ने लगे...
    सचमुच 'शब्द चित्र' है...
    सादर...

    ReplyDelete
  17. काव्य में आपने पूरा वर्षा का चित्र खींच दिया है।
    हरियाली तीज की आपको भी अनंत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  18. दिल को छूती रचना...
    वाह बहुत ही सुन्दर
    रचा है आप ने
    क्या कहने ||

    ReplyDelete
  19. आपको भी हरियाली - तीज की बधाई . बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  20. आपको भी हरियाली - तीज की शुभकामना . बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  21. वाह अनुपमजी, बरसात का आनंद आपकी कविता पढ़कर कई गुना हो गया है... तीज की बधाई!

    ReplyDelete
  22. ये कैसा
    अनुराग जगाये
    चहुँ दिस ..बरस .
    रस बरसाए .. !!

    वर्षा ऋतू के अभिनन्दन स्वरुप
    कही गयी बहुत ही मन मोहक रचना है
    बधाई स्वीकारें .

    ReplyDelete
  23. Anupma ji, aapki nirjhar rachana se lagta hai saavan aaya hai nahi to yhan badariya keval dhokha hi de rahi hai . achchhi lagi .

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..ध्वन्यात्मक शब्दों का प्रयोग उसकी ध्वनि भी सुना रहा हो जैसे .. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. बेहद भावमयी और खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार. आपको भी हरियाली तीज की बहुत बहुत शुभकामनाएँ।
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  26. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  27. सुन्दर रचना के लिए आभार .

    ReplyDelete
  28. दिल को छूती रचना..

    ReplyDelete
  29. आपको भी हरियाली तीज की बहुत बहुत शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  30. देखो ..देखो मतवारी वर्षा....!!

    तो वर्षा की शुभकामनाएं स्वीकार कीजिए....

    ReplyDelete
  31. अनुपमा जी
    सुन्दर रचना के लिए आभार......मनमोहक भाव

    ReplyDelete
  32. शब्दों की बारिश...बहुत मनोहारी!!

    ReplyDelete
  33. bahut hi sunadar drashya hai man bhi hara bhara ho gaya aapke shabdon ki barsaat se :)

    ReplyDelete
  34. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना! आपको हरियाली तीज की बधाइयाँ और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  35. हरियाली तीज? पहली बार सुना है...तीज त्यौहार से तो अच्छी तरह परिचित हूँ...मुझे बहुत कारणों से ये त्यौहार पसंद है...पेड़किया और ठेकुआ खाने को मिलता है हमें :)

    वैसे बारिश की ये कविता भी बहुत पसंद आई..आपने कुछ दिनों पहले एक कविता लिखा था बारिश पे...वो भी पसंद आई...मुझे बारिशों की कविता पसंद आती है..

    ReplyDelete
  36. wah ham bhi jhoom liye aapke is geet ke sath.
    bahut sunder prastuti.

    ReplyDelete
  37. संगीतमयी फुहार के बीच मन भीगा . जिस गीत की आत्मा संगीत हो वो आत्मा संतृप्त करने वाली होती है . ह्रदय हर्षित हुआ.

    ReplyDelete
  38. are vah aapne to sunder shavdo kee rimjhim se bhigo hee diya....

    ReplyDelete
  39. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  40. achhe shabd..achhi prastuti...


    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  41. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर कविता .. बारिश की बून्धो के साथ मन को भिगोता हुआ ..
    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  43. सुभाग्य मेरा ...आपके अशिर्वचनो की वर्षा हुई ...!!
    बहुत बहुत धन्यवाद ...त्रुटी क्षमा करें ...स्नेह बनाये रखें.....!!!!

    ReplyDelete
  44. दिल को छूती सुन्दर-सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  45. Pragya Singh घड़-घड़ घड़ घडाते ...
    चहुँ दिस छाये ..
    कृष्णा से नीले अम्बर से ..
    बरसे ऐसी धार
    धरा पर ..

    हरियाली राधा मन भाये ..
    अधरों पर मुस्कान जगाये ..
    रिमझिम पड़ रही प्रेम फुहार ...
    सजनवा अमुवा पे झूला दो डार ...
    तीज को आयो है त्यौहार...
    best way to express the feel of my painting......really lovely..now i luv my this work more nd more.....thanx a lot..
    Thanks Pragya for the beautiful painting ...It gave me some beautiful feelings to complete my poem.

    ReplyDelete
  46. सरस कविता से मन भीग-सा गया।

    ReplyDelete
  47. मोरा मन गया हार .
    मगन अब ....
    झूला-झूले ...
    सावन के गीत गाये ..
    धन्य री मतवारी वर्षा ...
    ये कैसा ...
    अनुराग जगाये ...
    चहुँ दिस ..बरस ..बरस ...
    अमिय रस बरसाए .. ..!!

    भावबिभोर कर दिया अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  48. हरियाली राधा मन भाये ..
    अधरों पर मुस्कान जगाये ..
    रिमझिम पड़ रही प्रेम फुहार ...
    सजनवा अमुवा पे झूला दो डार ...
    तीज को आयो है त्यौहार...
    tyohaar ki dhoom hai mausam bhi bheega -2 hai ,rachna me mithas hai sundar .

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!