नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

28 August, 2011

माँ ...अब तुम बहुत याद आती हो...!!

The gloom spreads ...as the sun sets......
विलक्षण उज्ज्वलता.. 
बांटता-बांटता..
प्रातः काल से
चलता चलता.. 
सूर्य भ्रमण कर ..
जब थककर ..
निशि की ओट में छुप जाता  है ..
मन अन्धकार छा जाता है...
तभी ..समझ से दूर.. सोच भी मेरी ..
रूठ जाती है मुझसे ..
तब...तमस हटाती...
सोच दुलारती ..
एक आस का दीप जलाती..
 तुम्हारी छब ...
दिखती है स्वप्न में.....!!

मन क्षीण..उद्विग्न सा ..
अटकता है ..भटकता है...
सोच रुपी निधि ..ढूँढता हुआ ..
 मन  प्रश्नों  की  विधि ..ढूँढता हुआ ....   
 ..और ढूँढता ..तुम्हें... 
रेत के तपते.. वीरान ..रेगिस्तान में...!!


महसूस होती है ...
पाँव में पड़े छालों की जलन...
तुम्हारे शीतल आँचल की छाँव पाने के लिए ...
जी  चाहता है जब....
माँ ... तुम बहुत याद आती हो...!!

बुन लेता है मकड़ी की तरह मन..
अपने ही लिए जाले...
इस मायाजाल से निकलने को .....
जब  छटपटाती है रूह..मेरी ...
तुम्हारी एक झलक पाने को.......
तुम्हारे एक स्पर्श से ही ....
जैसे तोड़कर मकड़ी के जाले को ......
छुई-मुई की तरह ..
फिर अपनेआप में
 सिमट जाने को .........
 जी चाहता है जब...
माँ... तुम बहुत याद आती हो...!!
 दुर्गा रूपिणी तुम मेरे लिए .
  मेरे मन की दुर्गति ..
आज भी दूर कर देती हो ...
प्रभु से पहले स्मरण करूँ तुम्हें ....
अदम्य शक्ति से  भरा ..
वो रूप तुम्हारा...
 सुख में..दुःख में ...हर पल ...
 माँ ..तुम बहुत याद आती हो......!!      

39 comments:

  1. वो रूप तुम्हारा...
    सुख में..दुःख में ...हर पल ...
    माँ ..तुम बहुत याद आती हो......!! बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  2. पाँव में पड़े छालों की जलन...तुम्हारे शीतल आँचल की छाँव पाने के लिए ...
    जी चाहता है जब....माँ ... तुम बहुत याद आती हो...!!...
    भावमयी सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  3. माँ ...ऐसी ही होती है...हर रूप ...हर शह में उसका ही नूर समाया है......anu

    ReplyDelete
  4. वो रूप तुम्हारा...
    सुख में..दुःख में ...हर पल ...
    माँ ..तुम बहुत याद आती हो..
    बहुत ही सुन्दर,माँ तुझे सलाम ......

    ReplyDelete
  5. न जाने कितने अवतार स्वयं में समेटे, अद्भुत रचना।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर! बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  7. ईश्वर को तो हमने नहीं देखा, मां को तो देखा है। तो सही है कि उसे ईश्वर से पहले पूजते हैं।
    बहुत ही भावपूरित कविता।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति.......

    ReplyDelete
  9. ऐ माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी . माँ की गोंद जन्नत होती है

    ReplyDelete
  10. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    मेरे इस नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! माँ के बारे में जितना भी कहा जाए कम है! माँ पिताजी हमारे लिए भगवान का रूप है और उनके जैसा कोई दूसरा नहीं हो सकता! दिल को छू गई हर एक पंक्तियाँ!

    ReplyDelete
  11. पाँव में पड़े छालों की जलन...
    तुम्हारे शीतल आँचल की छाँव पाने के लिए ...
    जी चाहता है जब....
    माँ ... तुम बहुत याद आती हो...!!

    एकदम ह्रदय तक चली जाती है रचना....
    सादर....

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर प्रस्तुति /माँ माँ ही होती है धरती पर ईश्वर का रूप होती है /हर उम्र में हर समय माँ की जरुरत होती है /बहुत ही भाव भीनी रचना/आँखों में नमी ला दी /बहुत बधाई आपको /

    ReplyDelete
  13. सुन्दर रचना ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  14. बुन लेता है मकड़ी की तरह मन..
    अपने ही लिए जाले...ye mann jab akulata hai, maa sare jaal saaf ker deti hai

    ReplyDelete
  15. निशब्द करती पंक्तिया ,बहुत ही सुन्दर |

    ReplyDelete
  16. maa ke prti komal ehsaaso ko bhaut hi khubsurati se prstut kiya h aapne....

    ReplyDelete
  17. प्रभु से पहले स्मरण करूँ तुम्हें ....
    अदम्य शक्ति से भरा ..
    वो रूप तुम्हारा...
    सुख में..दुःख में ...हर पल ...
    माँ ..तुम बहुत याद आती हो......!!
    माँ होती ही ऐसी है.. प्रभु सी प्रिय और निकट भी.. सुंदर भाव भीनी रचना !

    ReplyDelete
  18. सच है माँ का आंचल में हर दुःख मिट जाता है|

    ReplyDelete
  19. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  20. महसूस होती है ...
    पाँव में पड़े छालों की जलन...
    तुम्हारे शीतल आँचल की छाँव पाने के लिए ...
    जी चाहता है जब....man
    माँ ... तुम बहुत याद आती हो...!!

    bahut hi bhavuk rachna hai. upar ke 4th line me maine ek shabd jod diya hai shayad aapko pasand aaye.

    maine bhi apne blog par "babuji ka nidhan" naam ki ek rachna post ki hai awshya padhne ka kasht kariyega.

    ReplyDelete
  21. bahut uttam bhaav bahut achchi abhivyakti.

    ReplyDelete
  22. अद्भुत रचना...आपकी लेखनी को प्रणाम

    नीरज

    ReplyDelete
  23. सुख में..दुःख में ...हर पल ...
    माँ ..तुम बहुत याद आती हो......!!
    ispar to kuch bhi kahne ko bacha hi nahin.......

    ReplyDelete
  24. bahut acchi prastuti
    samrat bundelkhand blog

    ReplyDelete
  25. पाँव में पड़े छालों की जलन...
    तुम्हारे शीतल आँचल की छाँव पाने के लिए ...

    अनुपमा की अनुपम प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  26. महसूस होती है ...
    पाँव में पड़े छालों की जलन...
    तुम्हारे शीतल आँचल की छाँव पाने के लिए ...
    जी चाहता है जब....
    माँ ... तुम बहुत याद आती हो...!!


    बहुत ही सुंदर....

    ReplyDelete
  27. bahut sunder.
    ma hotee hee hai sambal.
    Aabhar.
    http://www.youtube.com/watch?v=0vJD6TzsmA0&feature=related
    ise link ko dekhiye suniye aur circulate karne me sath deejiye.
    Dhanyvaad

    ReplyDelete
  28. जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मनाले ईद.
    ईद मुबारक

    ReplyDelete
  29. pehli baar aapki rachnaon se gujraa hoon.is sundar bhavbhivayki se pripoorn rachna ke liye badhai.

    ReplyDelete
  30. सचमुच उज्जवल काव्य...

    ReplyDelete
  31. ममता का वन्दनीय स्वरुप... साकार करती अभिव्यक्ति!
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  32. मां की याद ही स्पर्श जैसी प्रतीत होवे है ,मैनू याद नहीं कड़ी मां भूली हो , बहुत मार्मिक काव्य .,....... शुक्रिया जी /

    ReplyDelete
  33. लाजबाब.
    दिल चुरा लिया है मेरा आपकी
    इस अनुपम 'सुकृति' ने.

    गणेश चतुर्थी और इद की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  34. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 01-09 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ... दो पग तेरे , दो पग मेरे

    ReplyDelete
  35. संगीता जी हार्दिक धन्यवाद ...मेरी यादें चयन करने के लिए...

    ReplyDelete
  36. मेरी परमप्रिय भावनाओं को आपने आशीर्वचन देने के लिए आप सभी का आभार ...

    ReplyDelete
  37. yaaden aur bas yaaden yahee to hai kram jaise jaise samay beetata jata hai aur sangrah hota jata hai yaadon kaa . aur ant mein jab koi paas nahee rahata to rah jatee hain yaaden. hamaree sathee aur hamare sare smritparak dukhon kaa karan bhee. ek abhav kee teess jo aa jaatee hai jahan mein.

    ReplyDelete
  38. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली(७) के मंच पर प्रस्तुत की गई है/आपका मंच पर स्वागत है ,आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना है / आप हिंदी ब्लोगर्स मीट वीकलीके मंच पर सादर आमंत्रित हैं /आभार/

    ReplyDelete
  39. प्रेरणा आप जो भी काम करतीं हैं मेहनत और आस्था से करती हैं ये तो मैं जानती ही हूँ... आभार आपने मेरी पोस्ट का चयन किया ....अनवर जी बधाई आपको भी... बढ़िया संकलन के लिए ...!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!