नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

04 January, 2011

धुन्ध (DHUNDH)

रात अँधेरी सूनसान -
कैसी धुन्ध  में लिपटे हैं प्राण-
क्षीण सी होती जाती है दृष्टि 
व्यथा मिटा सके
 बरसे जो  नयन - वृष्टि -


कहाँ छुप गया है
 सभ्यता -संस्कृती का 
वो अनमोल खज़ाना -
जिसका डंका पीटता है -
आज भी सारा ज़माना-


हम क्यों बदलने पर आमादा हो गए ..?
आस्था के कच्चे धागे कहाँ खा गए ..?
पत्थर की पूजा करके -
कैसे मिलेंगे भगवान .? 
श्रद्धा भक्ति और सेवा का -
कौन करेगा अब गुणगान .?


काश बीत जाये ये शीतलहर ......!!
नष्ट हो हमारी सभ्यता पर छाया -
ये धुन्ध का कहर .....!!
शीत से थरथराता  कंपकपाता है मन -
नित्य ही करता है जप -
जीवन विलास  है या तप..?


बरसों से जाग-जाग कर -
की थी आराधना -
साध साध कर की थी साधना -
और किया था अंतर्मन का -
गहन अध्ययन ...!!
जैसे सागर मंथन से
 विषपान कर चुका था मन ...!!
गहराते तम  से -
सहसा हट गए नयन -


कैसे व्योम पर पहुंची मेरी दृष्टि -
शुभप्रभात की अमृत बेला -
देख रही थी सृष्टि .............!!!!
छंट चुकी थी धुन्ध ...!!
साफ़ दिख रही थी उषा की प्रथम किरण...
अकस्मात् ही गुनगुना उठा मेरा  मन -
न बदलेंगे हम -
न बदलने देंगे ज़माने को 
आओ शपथ लें ये  नया वर्ष मनाने को ........!!!!!



29 comments:

  1. न बदलेंगे हम -
    न बदलने देंगे ज़माने को
    आओ शपथ ले नववर्ष मनाने को ........!!!!!

    धुंध पर बेहतर प्रस्तुति...

    नववर्ष शुभ हो !

    ReplyDelete
  2. बहुत शाश्वत प्रश्न उठायें हैं आपने अपनी इस रचना में...शब्द और भाव का नूठा मेल है इस रचना में...मेरी बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    ReplyDelete
  3. बरसों से जाग-जाग कर -
    की थी आराधना -
    साध साध कर की थी साधना -
    और किया था अंतर्मन का -
    गहन अध्ययन ...!!
    जैसे सागर मंथन से
    विषपान कर चुका था मन ...!!

    ऐसा मन शीत से कांपता है ? मन नहीं मानता.
    पत्थर में भगवान नहीं आस्था पूजती है .

    नव वर्ष में निरंतर लिखना जारी रहेगा ऐसी ही नव वर्ष की शुभकामना है

    ReplyDelete
  4. A very positive thinking.Congrats and
    keep it up.

    ReplyDelete
  5. सभ्यता के स्थायी स्तम्भ एक एक कर खोते जा रहे हैं। सुन्दर कविता।

    ReplyDelete
  6. धुंध से निकलने का पावन संकल्प कविता की आत्मा है!
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  7. bhavon ki sundar abhivyakti .nav varsh ki hardik shubhkamnaye .mere blog 'vikhyat' par aapka hardik swagat hai .

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छा संकल्प लिया है..इस आशा के साथ कि बदलेगा ज़माना ..नव वर्ष की शुभकामनाएँ

    'सी.एम.ऑडियो क्विज़'
    हर रविवार प्रातः 10 बजे

    ReplyDelete
  9. त्रुटि सुधार--कृपया टिप्पणी में '' बदलेगा ज़माना को ...'नहीं बदलेगा ये ज़माना 'पढ़ें.

    ReplyDelete
  10. धुंध गहरा रहा है , सभ्यता पर संकट की तरह , आशाये क्षीण होने लगी है फिर भी विश्वास है की सब ठीक हो जायेगा . सुन्दर अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  11. कैसे व्योम पर पहुंची मेरी दृष्टि -
    शुभप्रभात की अमृत बेला -
    देख रही थी सृष्टि .............!!!!
    छंट चुकी थी धुन्ध ...!!
    साफ़ दिख रही थी उषा की प्रथम किरण...
    अकस्मात् ही गुनगुना उठा मेरा मन -
    न बदलेंगे हम -
    न बदलने देंगे ज़माने को
    आओ शपथ लें ये नया वर्ष मनाने को ........!!!!!
    खासकर इन पंक्तियों ने रचना को एक अलग ही ऊँचाइयों पर पहुंचा दिया है शब्द नहीं हैं इनकी तारीफ के लिए मेरे पास...बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  12. आदत.......मुस्कुराने पर
    कल्पना नहीं कर्म ................संजय भास्कर
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  13. बहुत कुछ कहती है आपकी ये कविता..बहुत कुछ..

    ReplyDelete
  14. मेरी ये रचना आप सभी ने पढ़ी और अपने विचार दिए -मैं आप सभी की आभारी हूँ -
    अतुल जी आपने ठीक लिखा है -पत्थर में भगवान् नहीं आस्था पुजती है वाही चीज़ मैं कहना चाहती हूँ--

    हम क्यों बदलने पर आमादा हो गए ..?
    आस्था के कच्चे धागे कहाँ खा गए ..?
    पत्थर की पूजा करके -
    कैसे मिलेंगे भगवान .?
    श्रद्धा भक्ति और सेवा का -
    कौन करेगा अब गुणगान ?

    जब आस्था खो गयी तो हमारी पूजा सिर्फ पत्थर की पूजा है -मात्र दिखावा ...!!इसीलिए आस्था ,श्रद्धा और भक्ति का हमारे जीवन में बहुत मूल्य है --
    -

    शीत से थरथराता कंपकपाता है मन -
    नित्य ही करता है जप -
    जीवन विलास है या तप..?

    आस्थ खो जाने पर शीत से मन कपकपाता है लेकिन आस्था मिल जाने पर-जो की तप से ही मिलती है -मन की धुंद हट जाती है .

    आप सभी की मैं पुनः आभारी हूँ आपने मेरी रचना पढ़ी और अपने विचार दिए .
    बहुत बहुत धन्यवाद
    .

    ReplyDelete
  15. Potential gold mines found in Kerala!!!!

    ReplyDelete
  16. सच्चे मन की सच्ची कामना - प्रशंसनीय रचना के लिए बधाई तथा सपरिवार नव वर्ष की मंगल कामना

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्दर रचना ! नव वर्ष की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  18. शब्दों का अनूठा संकलन किया है |बहुत सुन्दर भाव बधाई |
    आपको नव वर्ष शुभ और मंगलमय हो |
    आशा

    ReplyDelete
  19. वक्त तो बदल ही जाता है.
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. नयी चेतना को संचरित करती रचना ।
    प्रशंसनीय ।

    ReplyDelete
  21. हम भी शपथ लेते हैं....कि....कि....कि....इस शपथ के प्रण में हम आपके साथ हैं.....!!

    ReplyDelete
  22. सम्मोहित करती हैं यह पंक्तियाँ .....
    हम क्यों बदलने पर आमादा हो गए ..?
    आस्था के कच्चे धागे कहाँ खा गए ..?
    पत्थर की पूजा करके -
    कैसे मिलेंगे भगवान .?
    श्रद्धा भक्ति और सेवा का -
    कौन करेगा अब गुणगान .?
    श्रेष्ठ कविता के लिए बधाई

    ReplyDelete
  23. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... अगले मोड तक साथ हमारा अभी बाकी है

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब अनुपमा जी .....
    बधाई, इतनी बढ़िया रचना के लिए.

    ReplyDelete
  25. वाह ...बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  26. न बदलेंगे हम -
    न बदलने देंगे ज़माने को
    आओ शपथ लें ये नया वर्ष मनाने को ........!!!!!

    बहुत ही बढ़िया।


    सादर

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर भावों से सजी सार्थक अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  28. jabardast prashn hain...karmyog hi jawaab hai inka...bahut sundar rachna

    ReplyDelete
  29. जैसे सागर मंथन से
    विषपान कर चुका था मन ...!!
    गहराते तम से -
    सहसा हट गए नयन -

    aur sahsa sab kuchh nazron ke saamne clear hota chala gaya..

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!