नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

15 October, 2013

हाइकु ...संवेदना ....

ज्यों टूटकर ...
गिरती पीली पात  .....
बीतते लम्हें ...


 रैन  न बीते ....
ये  क्षण रहे रीते ....
आस न जाए ...

कुछ तो कहो ....
ऐसे चुप न रहो ....
नदी से बहो .....



संवाद से ही ....
मुखरित  होती है ...
संवेदनाएं ....


ठिठक गई ....
मूक सी हुई जब ...
संवेदनाएं ....



संवेदना ही ..
ज्योति है जलाये ...
जीवन खिले ....

मानवता ही ...
परम दया धर्म .....
एक मुस्कान ...


तरंग जैसी .....
छू जाती हैं  मन को .....
संवेदनाएं ....


सृजन खिला ... ..
संवेदनशील हो .....
तरंग बना ...





35 comments:

  1. आदरणीया अनुपमा जी, संवेदनाओं से भरी संवेदनशील बेहतरीन रचना के लिए अनेकों बधाई !

    ReplyDelete
  2. ज्यों टूटकर ...
    गिरती पीली पात .....
    बीतते लम्हें ...

    बहुत खूब .

    ReplyDelete
  3. रैन न बीते ....
    ये क्षण रहे रीते ....
    आस न जाए ...... बहुत खुबसूरत हायकू

    ReplyDelete
  4. संवाद से ही ....
    मुखरित होती है ...
    संवेदनाएं ....

    बेहद सुंदर हाइकू !

    RECENT POST : - एक जबाब माँगा था.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (16-10-2013) "ईदुलजुहा बहुत बहुत शुभकामनाएँ" (चर्चा मंचःअंक-1400) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार शास्त्री जी .....!!

      Delete
  6. बहुत ही सुन्दर हाइकु....
    :-)

    ReplyDelete
  7. संवेदना और संवेदनशीलता के विभीन आयाम , अच्छे लगे .

    ReplyDelete
  8. वाह, बेहतरीन हाइकु हैं...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर ...
    बधाई !

    ReplyDelete
  10. आपकी यह रचना आज बुधवार (16-10-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 147 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
    एक नजर मेरे अंगना में ...
    ''गुज़ारिश''
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका ....!!

      Delete
  11. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-17/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -26 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका ....!!

      Delete
  12. उम्दा हाइकू ..

    ज्यों टूटकर ...
    गिरती पीली पात .....
    बीतते लम्हें ...

    ReplyDelete
  13. सुन्दर हाइकू....

    ReplyDelete

  14. बहुत सशक्त भाव अभिव्यक्ति अर्थगर्भित।


    संवाद से ही ....
    मुखरित होती है ...
    संवेदनाएं ...

    .संवाद करते से हैं सब के सब हाइकु।

    ReplyDelete
  15. कम शब्दों में गहरी बात।

    ReplyDelete
  16. कम शब्दों में गहरी बात।

    ReplyDelete
  17. तरंग जैसी .....
    छू जाती हैं मन को .....
    संवेदनाएं ....

    अनुपमजी, गागर में सागर जैसी हैं आपकी यह सूक्ष्म भाव लहरियां..आभार!

    ReplyDelete
  18. वाह , बहुत खूबसूरत हाइकु ...

    संवेदनहीन
    हो गया है हृदय
    खाली खाली सा ।

    संवाद नहीं
    दरकता है मन
    मौन ही मौन ...

    हाइकु पढ़ कर कुछ यूं ही खयाल उपजे :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार दी बहुत सुंदर लिखा ....बहुत ही सुंदर ॥

      Delete
  19. सारे हाईकू एक से बढ़ कर एक ! बहुत सुंदर अनुपमा जी !

    ReplyDelete
  20. कुछ तो कहो ....
    ऐसे चुप न रहो ....
    नदी से बहो .....

    मन का कोना कोना रिक्त करो
    वाह

    ReplyDelete
  21. हाइकु आप सभी ने पसंद किए ....हृदय से आभार ...!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!