नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

20 April, 2011

अम्मा को प्रणाम ...!!


महुआ ले आई बीन के -
और तिल्ली  धरी है कूट -
आज सजन की आवती -
सो कौन बात की छूट .......!!

अरी... गुड़ होतो तो
 गुलगुला बनाती  ....
तेल   लै आती उधार...
मनो का करों जा बात की ..
मैं आटे से लाचार ........!!!!

आज मेरी  दादी --''अम्मा ''--कहते थे हम सभी उनको, उनकी पुण्यतिथि है |ये बुन्देलखंडी कहावत, वो बहुत सारी  चीज़ों में अपनी लाचारगी को छुपाते हुए, बहुत खुश होकर कहा करती थीं |उनकी लाचारगी अब समझ में आती है |कितना कुछ करना चाहते हैं हम और ज़िन्दगी के इस घेरे में बंध कर क्या - क्या कर पाते हैं ...!!
  समय के साथसाथ पुरानी कहावते ,मान्यताएं सभी तो दम तोड़ रहीं हैं |उनकी दी हुई इस धरोहर को आप सभी तक पहुंचा कर उनको एक भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करती हूँ |वो क्या गयीं मेरा बुन्देलखंडी भाषा से जैसे नाता ही टूट गया |
मेरा वो --''काय अम्मा ?''पूछना और उनका वो --''कछु नईं बेटा ....''कहना बहुत याद आ रहा है | आज उन्हींकी यादों  के साथ पुनः जी ले  रही हूँ अपना बचपन थोड़ी देर के लिए ....!!

14 comments:

  1. दादी माँ को याद किया ...अच्छा लगा ...विनम्र श्रद्धांजली

    ReplyDelete
  2. पुरानी कहावतें और दादी माँ। विनम्र श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  3. दादी अम्मा को हमारी ओर से भी श्रद्धा सुमन |माँ को याद करना ईश्वर को याद करना है माँ ईश्वर का सजीव रूप होती है |

    ReplyDelete
  4. दादी अम्मा को नमन सहित श्रद्धा सुमन.
    माँ में ईश्वर के दर्शन होते हैं.माँ की याद करना ईश्वर को याद करना है.
    "त्वमेव माता च पिता त्वमेव'

    ReplyDelete
  5. अम्मा को मेरी तरफ से भी शत-शत नमन और श्रद्धांजलि ...!!
    बचपन में गए ...महुआ बीना धूप में सुखाया ...और जब बरसात आई तो अम्मा का बताया व्यंजन भी खाया........कितने लम्बे सफ़र पे ले गयी ये अम्मा कि यादें ....
    महुआ का जो फल होता है जिसको "कोलैया" कहते थे...उसकी सब्जी बहुत अच्छी बनती है आपने जरूर खायी होगी ?
    अब तो बस यादें ही हैं..

    ReplyDelete
  6. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    ReplyDelete
  7. बचपन की इन यादों में आप सभी का साथ था मेरे साथ ....
    बहुत बहुत आभार आप सभी का ...!!!
    आनंद भाई ...कोलैया की सब्जी और बरी की कढ़ी.....खा कर तारो ताज़ा होकर लौटी हूँ ....!!!
    बाबु ..तुम्हें पकड़ लाई हूँ अपने साथ ..
    संगीता जी ..
    प्रवीन जी ..
    जय कृष्ण जी ..
    राकेश जी ..
    रश्मि प्रभा जी ..
    सारा सच जी ..सच में ये सफ़र बहुत सुहाना रहा ....
    अपार आशीष बरसा है अम्मा का ....हम सभी पर ...
    एक बार पुनः ह्रदय से आभार ...!!!!

    ReplyDelete
  8. vibhinn lokjivan men kitani sachhayiyan hain unke ander ka ahsas jadon se kitani madhurata se bandha hain ,aapki kavita se jalakata hai .sunder prastuti,
    abhar ji /

    ReplyDelete
  9. amma ko mera bhi pranam.Aap to khair bahut special thi unke lia.

    ReplyDelete
  10. लाजवाब, बहुत समय बाद इतनी भावपूर्ण आंचलिक पंक्तियां पढ़ने को मिलीं.

    ReplyDelete
  11. अपनी दादी को हम भी "अम्मा " या " बउवा" बुलाते थे ! इस माध्यम से बचपन की बहुत सी यादें पुनः ताज़ा हो गयी . आंचलिक भाषा की मधुरता इसमें थी की वो अपने परिवेश से आत्मसात थी . जीवन से बंधी हुई .

    ReplyDelete
  12. ''काय अम्मा ?''...सुनकर जबलपुर याद आ गया....


    दादी जी को विनम्र श्रद्धांजली.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!