नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

30 June, 2014

ओ मासूम ज़िन्दगी। ....!!

समय जब भी असमय
 छीन  लेता  है
कुछ मासूम चेहरों से
मुस्कराहट,
आवृत सा कुछ  होता है,
जो बनता है मौन ताकत   …… !!

धीरे धीरे कड़ी जुड़ती है ,
इस मौन ताकत में ,
प्राची के पट खुलते  ही ,
होने लगता है शोर
 इस ताकत का
तब टूटने लगता है मौन   …
उदासी का ...!

आहत  मन सुनता है
आहट जीवन की  …!!
और चल पड़ती है  ज़िन्दगी फिर......!!

तब सुनाई देती है ,
वही प्रार्थनारत आवाज़ें ,
अगर मेरे शब्दों में ताकत है
अगर मेरी प्रार्थना में बल है
तो दर्द लेकर भी ह्रदय में अपने,
सुनकर मेरे शब्दों की सदा ,
तुम्हें फिर उठना होगा ,
तुम्हें फिर हँसना होगा  …
ओ मासूम ज़िन्दगी। ....!!

29 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार रविकर जी ....!!

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना बुधवार 17 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भाव .........

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना बुधवार 02 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार यशोदा ....!!

      Delete
  5. प्रार्थना में अकूत बल है...जो जिन्दगी के चेहरे पर फिर से मुस्कुराहट लाने में सक्षम है...सुंदर भाव अनुपमा जी !

    ReplyDelete
  6. Thats life :)
    bahut hi sundar kavita hai :) Very beautiful!!

    ReplyDelete
  7. Thats life :)
    bahut hi sundar kavita hai :) Very beautiful!!

    ReplyDelete
  8. जिन्द्स्गी की और आशा भरी नज़र से देखती रचना ... प्रेरित करते भाव ...

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग बुलेटिन की 900 वीं बुलेटिन, ब्लॉग बुलेटिन और मेरी महबूबा - 900वीं बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  10. ब्लॉग बुलेटिन की 900 वीं बुलेटिन, ब्लॉग बुलेटिन और मेरी महबूबा - 900वीं बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार सलिल जी ....!!

      Delete
  11. ये निराशा के प्रहर बीतेंगे दुख की शिकनें दूर कर फिर प्रसन्नता और उछाह छायेगा - प्रार्थना में बहुत बल है !

    ReplyDelete
  12. निराशा की रात से आशा के उजाले की ओर.. सुंदर कविता

    ReplyDelete
  13. Aise aahwan zindgi ko sunne hi honge!

    ReplyDelete
  14. बहुत सार्थक और भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  15. अगर मेरे शब्दों में ताकत है
    अगर मेरी प्रार्थना में बल है
    तो दर्द लेकर भी ह्रदय में अपने,
    सुनकर मेरे शब्दों की सदा ,
    तुम्हें फिर उठना होगा ,
    तुम्हें फिर हँसना होगा …
    ओ मासूम ज़िन्दगी। ....!!

    बहुत सुन्दर भाव
    अतुलनीय


    ReplyDelete
  16. सुन्दर भाव ........

    ReplyDelete
  17. आशा का संचार करती सुन्दर पंक्तियाँ |

    ReplyDelete
  18. भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  19. बहुत सार्थक और भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  20. दृढसंकल्पित हो कर्म-अभिरत चलने को प्रेरित करती हुई कविता.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!