नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

11 July, 2014

धनक की आस बरसाओ ...!!

धनक की आस बरसाओ ,
मेघा बरसो सरसो
धिनक धिन 
बूंदों का ताल सुनाओ ,
धन धन भाग हमरे हो जाएँ 
धरा पर धान का धन बिखराओ 
आ जाओ जीवन हर्षाओ ....!!
मेरी धरा धारण करे धानी धनक ...!!

बेर भई अब ,
मेघा बरसो सरसो
धनक की आस बरसाओ ...!!

16 comments:

  1. वाह्ह्ह्हह्ह्ह्हह
    आपकी मुराद पूरी हो

    ReplyDelete
  2. इस पोस्ट की चर्चा, रविवार, दिनांक :- 13/07/2014 को "तुम्हारी याद" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1673 पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका राजीव कुमार जी ...!!

      Delete
  3. वाह .... बेर भई
    मेघा बरसो
    सच ....

    ReplyDelete
  4. बढ़िया सुंदर रचना व लेखन , अनुपमा जी धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर संगीत मय प्रार्थना..

    ReplyDelete
  6. सुंदर आह्वान

    ReplyDelete
  7. मेघों को संगीतमय आमंत्रण ...
    अब तो बरसो प्यार बुझाओ ..
    मेघा आओ ... मेघा आओ ...

    ReplyDelete
  8. dharaa par dhanya-dhan bikhraao......der bhayi megha ab to barso sarso
    bahut sunder swaagat-geet hai varsha ka avahan kartaa saa ...

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचना...........

    ReplyDelete
  10. इतना प्यारा ,इतना मधुर आमंत्रण - आना पड़ेगा मेघों को ,आयेंगे अवश्य !

    ReplyDelete
  11. बड़े खयाल की बंदिश जैसी भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  12. उम्मीद है बरखा रानी हर सुर और लय साथ लेकर आई होगी इस मानसून में. सुन्दर कृति.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!