नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

16 August, 2014

जीवन में फिर आस जगाओ .....!!

जल जल के जलता है जल
कैसे बीतेंगे ये पल ,
जल बिन निर्जल नैन  हुए ,
नीरस मन के बैन हुए

मेघ घटा आई घन लाई
उमड़ घुमड़ चहुं दिस अब छाई-
बरसो मेघा मत तरसाओ ,
झर झर बुंदियन रस बरसाओ...!!

बूंदों में सुर-ताल मिलाओ ,
राग मियां मल्हार सुनाओ,
जिया की मोरे प्यास बुझाओ,
जीवन में फिर आस जगाओ ....!!

15 comments:

  1. जल से की गयी निर्मल मनुहार।
    वाह.… खूबसूरत। .

    ReplyDelete
  2. जल ही जल करता छल छल....बहता नभ से है अविरल...सावन की याद दिलाती सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, रविवार, दिनांक :- 17/08/2014 को "एक लड़की की शिनाख्त" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1708 पर.

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच में मेरी रचना लेने हेतु हृदय से आभार माननीय राजीव कुमार झा जी !!

    ReplyDelete
  5. सुन्दर एवं शीतल रचना ।

    ReplyDelete
  6. मेघ आपका कहा कभी न टालेंगे...
    सुन्दर भाव

    अनु

    ReplyDelete
  7. मन को शीतलता देती हुई रचना.

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  9. अनुपम भाव संयोजन ....

    ReplyDelete
  10. सुंदर शब्द-संयोजन

    ReplyDelete
  11. मनमोहक प्रस्तुति...

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!