नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

30 August, 2010

मौसम गाए--राग मारवा या मियां मल्हार ....!!!-18


झड़ -झड़ के पतझड़ --
सूना -सूना सा---
नीरव -नीरस सा
-
शांत सा --
कर देता था--

 वातावरण...... -
धरा मौन 
कर लेती थी धारण --
जीवन अग्रसर ....
साँसे फिर भी निरंतर ...
गूंजता था सन्नाटा --
बेचैनी बढ़ जाती थी ....
निराशा छाजाती थी ...
फिर भी ---
एक आवाज़ आती थी ..
पवन के साथ उड़ने की ....

टूटे -टूटेपत्तों के
 गिरने की ...
सूखे -सूखे पत्तों के 

खड़खडाने की ....
हस्ती मिट गयी थी जिनकी -
चिर निद्रा में विलीन -
धरा में लीन-
बन गए थे अवशेष...

रह गयी थी एक खोज --
एक भटकन शेष .....
पतझड़ है या..

 कोई राग मारवा गा रहा है ...!!!!

पतझड़ सावन या बहार -
हर मौसम के दिन

......चार-चार -
स्थिर सी

बाटजोहती थी पृथ्वी -
सगुन मनावत .......

कब नेह बरसेगा..
  मोरे आँगन --
नव पल्लवी का 

होगा आगमन ..
फूट पड़ेंगी

 नवल कोपलें.....
........कब .....................?
पड़ती जब मेधा की

 प्रथम बूँद --
तृषित थी धरा 

अब देख रही
 पलकें मूँद .....
आहा बीत चुका

 पतझड़ का मौसम -
आ गया सावन..
 मन भावन -
बरस पड़ी जब

 सुमधुर घटा--
बिखरी चहुँ ओर..

 मतवारी सी छठा--
रिमझिम रस बहार बरसे ॥
लेकर प्रियतम का प्यार बरसे ॥

भर -भर गीतों की फुहार बरसे ...
गा ले रे मनवा मधुर मधुर गीत ...
ये पल भी जाएँ तोरे न बीत ...
थम जाए बस समय की ये धारा॥
मौसम ने गाया राग मियां - मल्हार प्यारा .....!!!!!!!!!!!!!!!!!

24 comments:

  1. bahut hi khubsurat rachna ke liye badhai......
    pehli baar aapke blog ka rukh kiya...

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद शेखर जी
    रागों की अनुभूती को
    कविता में पिरोने की कोशिश की है -
    पुनः धन्यवाद .

    ReplyDelete
  3. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  4. आपको और आपके परिवार को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद संजय जी -
    आप और आपके परिवार को भी -

    ReplyDelete
  6. एक भावभीनी रचना |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत बयां हो गया यह तो .

    ReplyDelete
  8. राग मारवा और राग मल्हार का ज्ञान कराती, सकारात्मक भाव जगाती, प्यारी कविता।

    ReplyDelete
  9. आपकी कविता के ऊपर का हिस्सा मन में उथल पुथल मचा गया...और अंत में बरखा आने पर, तृषित धरती के जल मय हो जाने पर मानो मन की धरती भी हर्षित हो उठी.

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.

    आभार.

    ReplyDelete
  10. Ati sunder bhavpoorna rachana, lagta hai jaise koi madhur sangeet sun liya . Shabdon ka chayan aur tana-bana bhi bahoot khoob
    .

    ReplyDelete
  11. Ati sunder , bhavpoorna rachana. shabdon ka chayan jaise sunder raag roopi mala me piroye moti.

    ReplyDelete
  12. "थम जाए बस समय की ये धारा॥
    मौसम ने गाया राग मियां - मल्हार प्यारा "

    बहुत ही बढ़िया।

    सादर

    ReplyDelete
  13. वाह बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  15. प्रियतम का प्यार बरसता सा ..प्यारा नगमा

    ReplyDelete
  16. अदभुत,अनुपम ,बेमिशाल.
    आपने तो अनुपमा जी कर दिया है धमाल.
    नई पुरानी हलचल से यहाँ आकर
    मन मग्न हुआ मौसम की सुन मधुर मधुर ताल.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  17. पतझर के बाद फिर मौसम बदलता है यूँ ही दुःख के बाद सुख भी आता है और सरसता बनी रहती है ..सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  18. निर्झर की झर-खर बहती सुंदर रचना.शीर्षक ने बहुत प्रभावित किया.

    ReplyDelete
  19. आनंद ने निःशब्दता की स्थति दे दी है....

    क्या लिखा है आपने...ओह !!!!

    ReplyDelete
  20. कल 10/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. रितुओंका आवागमन ...उनका बदलना ...कभी इतना सुरीला नहीं लगा .....आपने वह संगीत सुना दिया .....अनुपमाजी!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!