नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

20 March, 2013

तुम्हें पुकारती .......!!


राग के भाव ...मन के भाव कितने विचित्र हैं ...इतनी सुंदर राग बसंत में सुख और दुःख एक साथ कैसे गाया जा सकता है ....?आप  खुद भी सोचिये.. .......बहुत  हंसने  के  बाद  एक  घड़ी  शांत  बैठने  का  मन  करता  ही  है
...है न  ...!
क्यों सहसा मन के भाव बदल जाते हैं .....??क्या हमारे मन पर सिर्फ हमारा ही नियंत्रण है ....?या सच मे हम
सिर्फ कठपुतली मात्र .........!!ईश्वर ही रखते हैं हमारे मन पर नियंत्रण ....?


चौबीस घंटे ....इन आठों प्रहारों में क्या हम पूरे समय खुश रहते हैं ...?या ....क्या हम पूरे समय दुखी रहते हैं ...????ताज्जुब है .....एक ही दिन में....कभी मन खुश कभी उदास .......सभी भाव जीता है !....!!
मन की बातें निराली ही हैं ....

जितना ही ईश्वर के समीप हम  जाते हैं ....उतना ही दुख गहराता है .....ये सोच कर कि प्रभु से कितनी दूर
...........हैं हम ....!!
ऐसा ही तो ज्ञान मार्ग भी है ......
जितना पढ़ते हैं ...उतना ही समझ में आता है की हम कितना कम जानते हैं .....
जब राग का विस्तार लेती हूँ  ....तभी स्वयं का विस्तार भी समझ में आता है ....बड़े बड़े गायक जिस राग को गाते चले जाते हैं ,उसे थोड़ी देर ही गा कर लगता है स्वरों को दोहरा ही रही हूँ ....साधक के लिए उसकी कला ही प्रियतम है ....उसका सबकुछ ....!!कला तो एक  है ...कभी न खत्म होने वाली .....इसी कला को साधने हेतु निरंतर प्रार्थना की जाती है .....!!और हर कलाकार के अंदर रहता है एक सहज विरह भाव ...

बसंत पर विरह की कविता न हो मन नहीं मानता ...या शायद बसंत चर्चा ही पूर्ण नहीं होती.....!!जितना आनंद बसंत की श्रृंगार रस की कविता पढ़ कर आता है ...उतना ही प्रबल अमिट भाव विरह श्रृंगार भी देता है ....!!और .....

जो छाया हो बसंत चाहूँ ओर ....
मेघ गरज गरज  मचा रहे हों शोर ....
फिर सहसा बरस भी जाएँ पुरजोर ....

और..... सुर ही ना  सधे .......अविरल अश्रुधारा सी बहती रहे ....बहती रहे .....

हृदय की वेदना का कोई अंत ही नहीं .....


*******

बिन मौसम जो छाए थे  ... बदरा ....
नैनन   बरस  घुलता था  कजरा  ....


निर्जन पथ, छाई ऐसी कारी अंधियारी ....
दामिनी प्रकाश पुंज वारती ...!!


 मैं सूने नयनन सों.....
पंथ थी बुहारती ...!!


देर तक खड़ी रही ...
दूर तक निहारती ....!!


मौन वेदना मेरी ....
थी तुम्हें पुकारती .......!!



सशक्त  वंदना   मेरी .....
है तुम्हें पुकारती ....!!
राग  बसंत तुम्ही से है ....
बसंत बाहर तुम ही से है ...
हे निर्गुण ...अब बन सगुण  ....
नाद मेरी.... स्वर मेरे ...
दरस दो ........ पथ के , जीवन रथ के  सारथी .....!!

38 comments:

  1. मौन वेदना मेरी ....
    थी तुम्हें पुकारती .......!!.bahut badhiya ....mn par apna niyantran kahan?

    ReplyDelete
  2. आपने सच कहा अनुपमा जी ,,,कि मन एक ही दिन में....कभी खुश कभी उदास .सभी भाव का जीता है !....!!

    Recent Post: सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार,

    ReplyDelete
  3. हैं सबसे मधुर वो गीत जिन्हें हम दर्द के सुर में गाते हैं...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ..बिरह के भाव हैं पर शब्द फिर भी बहुत मधुर हैं.

    ReplyDelete
  5. हर शब्द पुकार और प्रार्थना की शक्ति लिये हो तो ईश्वर भी विवश हो उतर आते हैं।

    ReplyDelete
  6. आपने कितना दुरुस्त कहा कि ... हर कलाकार के अंदर रहता है एक सहज विरह भाव ..इसी के दम पर तो वो अपना दर्द बयाँ करता है और प्रार्थना का स्वर ईश्वर को समर्पित करता है .....

    ReplyDelete
  7. मुझे तो लगता है कि वेदना की कविताओं में प्रेम की कविताओं से अधिक शक्ति है। इसका रंग आपकी कविता में नजर आ रहा है।

    ReplyDelete
  8. अंतर्मन से की गयी पुकार ......

    ReplyDelete
  9. jab dil se uthe pukaar wahi kavita hai ..bahut sundar lagi yah

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर और अंतर्तम से निकली रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. मौन वेदना मेरी ....
    थी तुम्हें पुकारती .......!!

    अनुपमा जी, विरह के बाद ही मिलन का सुख मिलता है..!

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सार्थक प्रस्तुति,मन की गति बदलती रहती है.

    "स्वस्थ जीवन पर-त्वचा की देखभाल"

    ReplyDelete
  13. मधुर वेदना के स्वर...बहुत सुन्दर रचना, बधाई...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार संध्या जी ....ब्लॉग वार्ता पर मेरी रचना को स्थान देने के लिए ....!!

      Delete
  14. सुध-बुध बिसरा बस पढ़ती रही ......
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ह्रदय से आभार विभा जी ब्लॉग ज्वाइन किया ...मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है ...!!

      Delete
  15. जितना ही ईश्वर के समीप हम जाते हैं ....उतना ही दुख गहराता है .....ये सोच कर कि प्रभु से कितनी दूर
    ...........हैं हम ....!!


    कभी कभी मौन भी गहराता है

    ReplyDelete
  16. विरह और मिलन तो परस्पर जुड़े हुए हैं...एक दूसरे से उनका अस्तित्व है ......एक के बिना दूजा असमर्थ...निरर्थक..अस्तित्व हीन ......बहुत सुन्दर प्रस्तुति अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार सरस जी ...!!मेरे ब्लॉग पर आपका ह्रदय से स्वागत है ...!!

      Delete
    2. प्रेम के ये भी अन्य रूप हैं ,
      एक दूसरे में घुले मिले
      एक के बिना दूसरा अधूरा .....
      बहुत सुंदर अनुपमा ....
      साभार......



      Delete
  17. भाव और स्वर दोनों जहाँ अभिन्न हो उठें वही तन्मय संगीत बन जाता है !

    ReplyDelete

  18. अनुपमा जी आप सही है ,मन तो चंचल है ही, परतु मन का भाव उस से भी तेजी से बदलते है ,एक क्षण में कुछ तो दूसरी क्षण कुछ और ...कैसे वस किया जाय.....भगवत भावना में तो उन्माद
    latest post भक्तों की अभिलाषा
    latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

    ReplyDelete
  19. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार अरुण ...!!

      Delete
  20. बेहद सुन्दर, भावपूर्ण .. आपको इसे सुरबद्ध करके audio भी ब्लॉग पर डालना चाहिए ...
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार मधुरेश ....ज़रूर कोशिश करूंगी ...!!

      Delete
  21. प्रेम और विरह पूरक से दिखते हैं . जितना जाना , कम ही जाना !

    ReplyDelete
  22. 'वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान। निकलकर आँखों से चुपचाप, बही होगी कविता अनजान..।'सुमित्रा नन्दन पंत जी की यह पंक्तियाँ बरबस याद आ गईं .....

    भावप्रवण रचना

    ReplyDelete
  23. एक ही सिक्के के दो पहलू . पर दुख किसे चाहिये । तब तोहम प्रर्तना करते है सदा वसंतम् ह्रदयार विंदे । हमारे ह्रदय कमल पर सदा वसंत छाया रहे ।

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति अनुपमा जी!
    आप लेखका होने के साथ-साथ अच्छी गायिका भी हैं.... इसी कारण इस बात को और भी अच्छे से समझा सकीं.....
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  25. प्रभू के आत्मीय रंग में रंगी रचना ... अंतस तक प्रभू के होने का एहसास लिए ...
    ..

    ReplyDelete

  26. बहुत सुन्दर ...अनुपमा जी..
    पधारें " चाँद से करती हूँ बातें "

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति आदरेया हार्दिक बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  28. वाह ..... बेहतरीन

    ReplyDelete
  29. आप सभी का ह्रदय से आभार ....

    ReplyDelete
  30. बहुत प्यारी रचना अनुपमा जी....
    madhuresh की बात से सहमत हूँ..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!