नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

16 December, 2013

कुछ शब्दों की लौ सी …




सृष्टि का एक भाग
अंधकारमय करता हुआ ,
 विधि के प्रवर्तन से बंधा
जब डूबता है सूरज
सागर के  अतल प्रशांत  में
सत्य का अस्तित्व बोध  लिए,
कुछ शब्दों की लौ सी,
वह  अटल आशा  संचारित  रही
मोह-पटल  के स्वर्णिम  एकांत  में .....!!

उस लौ के साथ
तब ....कुछ शब्द रचना
और रचते ही जाना
जिससे पहुँच सके तुम तक 
अंतस की वो पीड़ा   मेरी 
क्यूंकि शब्द शब्द व्यथा  गहराती है
टेर हृदय की क्षीण सी पड़ती 
पल पल बीतती ज़िंदगी 
मुट्ठी भर  रेत सी फिसलती जाती है ....!!


29 comments:

  1. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. sundar rachna ........antim panktiyo ne dil ko chu liya.........

    ReplyDelete
  3. सच कहा ..तिमिर के क्षणों में यही शब्द-दीप और उनकी आवलियाँ अनंत प्रकाश भरती रहती हैं. सुन्दर कृति.

    ReplyDelete
  4. शब्दों में लिपटी निकली है, पीड़ा मेरी।

    ReplyDelete
  5. कुछ शब्दों की लौ सी,
    वह अटल आशा संचारित रही
    मोह-पटल के स्वर्णिम एकांत में .....!!

    बहुत सुंदर भाव...मोह रत्रि कितनी भी घनी हो...स्वर्णिम प्रकाश छिपाए रहती है...

    ReplyDelete
  6. सच है यह जिंदगी रेत सा मुट्ठी से निकलती जा रही है !
    नई पोस्ट चंदा मामा
    नई पोस्ट विरोध

    ReplyDelete
  7. "जिससे पहुँच सके तुम तक
    अंतस की वो पीड़ा मेरी "

    अपनी सी...
    जैसे हो मेरे ही मन की बात!
    ***
    बेहद सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  8. कोमल भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  9. बेहद भावपूर्ण और सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. और यूँ ही रचते रहने से रेत भी हथेलियों से चिपका रहता है ..सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  11. बहुत ही उम्दा,भावपूर्ण प्रस्तुति...!
    RECENT POST -: एक बूँद ओस की.

    ReplyDelete
  12. समय का चक्र और सूरज वाह अद्भूत

    ReplyDelete
  13. सुन्दर प्रस्तुति अनुपमा जी

    ReplyDelete
  14. कुछ शब्दों की लौ सी,
    वह अटल आशा संचारित रही
    मोह-पटल के स्वर्णिम एकांत में ....

    मननीय अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  15. सूर्योदय और सूर्यास्त ऐसे दो प्राकृतिक पर्तीक हैं जिनसे कई कहानियाम, कवितायें, दर्शन जन्म लेते रहे हैं.. आज आपने जो कविता लिखी वह इसी प्रतीक के माध्यम से प्रारम्भ होकर एक मौन प्रार्थना/पुकार प्रस्तुत करती है!! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  16. bahut sundar bhavpurn rachna..!!

    ReplyDelete
  17. जिंदगी पल पल फिसल रही है ... इसी दर्शन को सूर्य और अंधेरे के शांत लम्हों में उतारा है ... लाजवाब भाव ...

    ReplyDelete
  18. अंतस की पीड़ा के शब्द शब्द को उन तक पहुचाने में सफल सौम्य कविता ... बहुत सुंदर .....

    ReplyDelete
  19. सूर्य रश्मियों के सामान तेजोमय शब्दों में गुंथी और तमसो मां ज्योतिर्गमय की सीख देती पंक्तियाँ . बहुत सुन्दर कविता दी.

    ReplyDelete
  20. बहुत भावपूर्ण...
    पल पल बीतती ज़िंदगी
    मुट्ठी भर रेत सी फिसलती जाती है ....!!
    और अंतस की टीस यूँ ही शब्दों में सँवरती है. बधाई.

    ReplyDelete
  21. बहुत बहुत आभार आप सभी का मेरी रचना पर आपने अपने विचार दिये ...!!

    ReplyDelete
  22. पीड़ा - एक दिशा से उदित
    एक दिशा में अस्त
    पीड़ा सूर्य नहीं
    तो उदयाचल से अस्ताचल की यात्रा निश्चित नहीं
    ऐसे में शब्द सहयात्री होते हैं

    ReplyDelete
  23. सूर्यास्त से गहन पीड़ा का भाव लेते हुए शब्दों में उतरना .... सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  24. बहुत ही खूबसूरत रचना अनुपमा जी ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  25. Really Appreciable cum Inspirational

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!