नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

22 April, 2014

संवेदनाओं का पतझड़ है.…??

अडिग अटल विराट
घने वटवृक्ष तले
स्थिर खड़ी  रही
एक पैर पर
तपस्यारत
पतझड़ में  भी
एक भी शब्द नहीं झरा,
प्रेम से घर का कोना कोना भरा ,
मेरे आहाते में .....
मेरी ज़मीन पर ,
सारे वृक्ष हरे भरे,लहलहाते
चिलचिलाती धूप में भी कोमल छांव ,
यहीं तो है मेरे मन की ठाँव
हरीतिमा छाई ,
निस्सीम कल्पनातीत वैभव,
मन ही तो है-
तुम्हारा वास है यहाँ ,
समृद्ध है ........
कैसे कह दूं मेरे घर में
संवेदनाओं का पतझड़ है.…??

21 comments:

  1. संवेदनशीलता बेहद आवश्यक है , इसे बापस लाना होगा ! मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  2. मन ही तो है................

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन मां सब जानती है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार मेरी कृति को यहाँ स्थान दिया ....!!

      Delete
  4. वाह बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  5. सदाबहार तरुओं में पतझर नहीं होता , शब्द भी अटके रह जाते हैं कभी-कभी.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया.....

    ReplyDelete
  8. पतझर और बहार... दोनों ही संवेदनाओं के अलग अलग रूप हैं... पतझर को देख कर ही सदाबहार फूलों से लदे पेड़ की खूबसूरती दुगुनी दिखने लगी जिस कारण कविता का जन्म हुआ....

    ReplyDelete
  9. उत्कृष्ट भाव..उत्कृष्ट कविता ..

    ReplyDelete
  10. वाह .... बहुत खूब

    ReplyDelete
  11. मर्मस्पर्शी ...अति सुन्दर

    ReplyDelete
  12. वाह बहुत सुन्दर.....
    संवेदनाओं के नए अंकुर फूटे हैं.......

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. संवेदनशील लोगों से घिरी हूँ .... :-)
      कैसे कह दूं मेरे घर में
      संवेदनाओं का पतझड़ है.…??

      Delete
  13. अनुपमा जी, संवेदना के अंकुर इसी तरह फूटते रहें..सुंदर कविता..

    ReplyDelete
  14. आपकि बहुत अच्छी सोच है, और बहुत हि अच्छी जानकारी।
    जरुर पधारे HCT- Hindi Computer Tips

    ReplyDelete
  15. संवेदनाओं के नए अंकुर फूटे हैं.......मर्मस्पर्शी ...अति सुन्दर

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर। शुभ संकल्प और शुभ संगत एक दूसरे के पूरक भी हैं और सहवासी भी।

    ReplyDelete
  17. संवेदनाओं का पतझड़ कहें या अनुभूतियों की गंगा का कल-कल प्रवाह !

    कविता बहुत अच्छी लगी ।

    ReplyDelete
  18. जीवन में कितना कुछ है..पतझड़ की जगह नहीं है. सुन्दर कृति.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!