नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

28 May, 2021

जाग री

 


जाग री ,

बीती विभावरी 

खिल गए सप्त रंग 


उड़ते बन पखेरू,

मन पखेरू 

विभास के संग ,

शब्द प्रचय से संचित,

मुतियन बुँदियन भीग रहा मन 

प्राची का प्रचेतित रंग ,

बरसे घन 

घनन घनन 

बन जलतरंग 

जीवन उमंग 

छाया अद्भुत आनंद  !!


अनुपमा त्रिपाठी 

  ''सुकृति ''

16 comments:

  1. गतिमय, गीतमय शब्दलहरी..

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 30 मई 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद आपका !

      Delete
  3. भोर के सुंदर रंगों से भीगता मन का आंगन ! सुंदर कृति

    ReplyDelete
  4. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (30 -5-21) को "सोचा न था"( (चर्चा अंक 4081) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद आपका।

      Delete
  5. बहुत ही खूबसूरत सृजन

    ReplyDelete
  6. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बरसे घन

    घनन घनन

    बन जलतरंग

    जीवन उमंग

    छाया अद्भुत आनंद !!--बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. कविता में संगीत का एहसास हो रहा । बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  9. मुतियन बुँदियन भीग रहा मन

    प्राची का प्रचेतित रंग ,
    वाह!!!
    बहुत सुन्दर मनमोहक सृजन।

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत मनभावन कृति

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत मनभावन कृति

    ReplyDelete
  12. वाह सुंदर शब्दांकन।
    सरस ।

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!