नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

24 July, 2022

उनींदी पलकों पर छाई !!



उनींदी पलकों पर छाई

सपनो की लाली ,

 भोर  से थी जो चुराई ,

आहट  सी

कानो में जो गूंजती थी ,

लगा ,फिर आने को है

अहीरभैरव सी ,

कोई रागिनी अनुरागिनी सी कविता !!


   अनुपमा त्रिपाठी 

     ''सुकृति "

11 comments:

  1. आपकी लिखी रचना सोमवार 25 जुलाई 2022 को
    पांच लिंकों का आनंद पर... साझा की गई है
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    ReplyDelete
  2. ऐसा लग रहा कि रुनझुन रुनझुन पायल बज उठी हो ..... सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद दी!!❤️

      Delete
  3. सच ! बहुत सुंदर छायाचित्र जैसी रचना ।

    ReplyDelete
  4. भोर का सुंदर स्वागत!!

    ReplyDelete
  5. भोर का सुंदर स्वागत!

    ReplyDelete
  6. रुनझुन सी मधुर अनुभूति हुई
    खूबसूरत सृजन।
    सादर।

    ReplyDelete
  7. वाह!!!
    भोर सी मनमोहक।

    ReplyDelete
  8. यूं ही प्रकृति से कुछ न कुछ चुराती रहें और कलम चलाती रहें

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचना

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!