नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

09 November, 2011

सिलसिला...जीवन का .....!!!!!!!



 देख रही हूँ ...
शबनमी सर्द रात..
आती हुई ...
और फिर  ....
और गहराती हुई ...



नींद मुझसे कोसों दूर जाती हुई ....
एक  याद पल-पल..
आती हुई ...
और फिर....
और पास आती हुई ...

नाज़ुक से दिल को बहकाती  हुई ...
दो बूँद आंसू गालों पर...
 ढलकाती  हुई ....
और फिर ...
और उदास कर जाती हुई ...


फिर ...झींगुर  की  आवाज़....
मन भरमाती हुई ....
जैसे ..जागते जीवन का राग..
 सुनाती हुई ...
 और फिर.... सोई हुई आस जगाती हुई ...

आँखों ही आँखों में रात..
फिर जाती हुई ...!!
बीत  जाती हुई ......!!
और फिर....
जागी हुई सी आस...मेरे पास  छोड़ जाती हुई...........................................................................................................................................................

43 comments:

  1. ओह ..यह सिलसिला भी यूँ ही चलता रहता है ... भावुक रचना

    ReplyDelete
  2. नाज़ुक से दिल को बहकाती हुई ...
    दो बूँद आंसू गालों पर...
    ढलकाती हुई ....
    और फिर ...
    और उदास कर जाती हुई ...

    आपकी भावपूर्ण प्रस्तुति पढकर
    मन भावविभोर हो उठता है.

    आस से ही सिलसिला बना रहता है.

    आपकी बेहतरीन प्रस्तुति के लिए मैं
    क्या उपमा दूं,अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  3. आस...मेरे पास छोड़ जाती हुई.......
    सुंदर!
    आस विश्वास यूँ ही बना रहे जीवन में!

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  5. इसी सिलसिले में बीतता जीवन ... गहरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. raat ka sannata khuli aankhon ke bheetar kee uthaluthal ko kahta hai... subah ka intzaar hai

    ReplyDelete
  7. आँखों ही आँखों में रात..
    फिर जाती हुई ...!!
    बीत जाती हुई ......!!
    आस...मेरे पास छोड़ जाती हुई.........बहुत ही भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  8. आज 10 - 11 - 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चित्रात्मक कविता

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  11. रात, नींद और आस का यह सफर न जाने कितने युगों से चल रहा है... हर रात के बाद सवेरा होता है और एक नए जीवन का आरम्भ...भावभीनी कविता !

    ReplyDelete
  12. bahut sunder blog bhi,rachna bhi,bahut khoob likhti hai aap.hardik shubhkamnaye.
    sader,
    dr.bhoopendra
    rewa mp

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति , बधाई.

    ReplyDelete
  14. us aas ko kayam rakhna kitna zaroori hai...
    jise jhingur ki aawaaz surila karti hai aur sooraj ki kirane roshni pradan karti hai...

    ReplyDelete
  15. यही क्रम है,
    जीवन कम है।

    ReplyDelete
  16. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा आज दिनांक 11-11-2011 को शुक्रवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  17. सुन्दर भावपूर्ण रचना

    Gyan Darpan
    Matrimonial Site

    ReplyDelete
  18. जीवन में इस तरह का सिलसिला चलता रहता है और जीवन भी।

    ReplyDelete
  19. is..aas ko sambhaal kar jeena ji jeevan hai

    ReplyDelete
  20. मनोभाव का सुन्दर चित्रण

    ReplyDelete
  21. संवेदनशील रचना.. सुन्दर प्रस्तुति
    सादर...

    ReplyDelete
  22. नमस्कार अनुपमा जी...बहुत दिनों बाद ब्लागजगत में लौटा हूँ...कुछ दिनों तक व्यस्तता के कारण दूर था....बहुत ही भावात्मक अभिव्यक्ति है आपकी...लाजवाब।

    ReplyDelete
  23. और कल फिर आयेगी
    इठलाती हुई
    या जरा झुंझलाती हुई
    छोड़ कर जाये कहाँ
    ये रात.

    बहुत नाजुक से भावों को सँवार गई यह अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  24. सही कहा आपने

    बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्दर कविता बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  26. बहुत ही सुन्दर कविता बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  27. आस है तो श्वास है।
    बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  28. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना ! हर एक पंक्तियाँ दिल को छू गई! चित्र बहुत सुन्दर लगा!

    ReplyDelete
  29. नेता जी की जय हो.
    (माफ़ कीजियेगा सुनीता जी को हाथ
    जोड़े आप यूँ ही तो नजर आ रही हैं)

    मैंने तो अपना वोट आप ही को दिया जी.
    आपकी रंगों से सजी हलचल भी कम तो नही.

    ReplyDelete
  30. sahej kar rakh leti hu main har beeti yaad
    jaane fir kabhi aise pal aaye na aaye

    bahut sunder, dill ko chhoo jane wala lekhan

    abhaar

    Naaz

    ReplyDelete
  31. वाह दी ! दर्द भी और उससे निकलने कि उम्मीद भी तत्क्षण ही !
    बहुत खूब यही तो है जीवन कि समग्रता !

    ReplyDelete
  32. सुभानाल्लाह वो हिज्र की रात का मंज़र........बहुत खूब|

    ReplyDelete
  33. चन्द्र भूषण गाफिल जी बहुत बहुत आभार ...मेरी कविता चर्चा -मंच पर लेने के लिए ....!!

    ReplyDelete
  34. सुन्दर भावपूर्ण रचना।...

    ReplyDelete
  35. आप सभी ने इस जीवन यात्रा को पसंद किया बहुत बहुत धन्यवाद ...!!

    ReplyDelete
  36. राकेश जी आप को विशेष रूप से धन्यवाद देना चाहती हूँ|मेरी हलचल पर आपने वोट दिया ..!!आपका वोट बड़ा मूल्यवान है क्योंकि आप बहुत अच्छे से समीक्षा करते हैं ....|आपका कीमती वोट महत्वपूर्ण है ....स्नेह बनाये रखें ....!!

    ReplyDelete
  37. संगीता जी आपका आभार ....तेताला पर इसे लिया ....!!

    ReplyDelete
  38. बहुत गहरी और लम्बी रात थी
    सुन्दर वर्णन

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!