नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

24 November, 2011

मेरा प्रतिबिम्ब ही है.. जीवन ...!!


जैसा  पानी का रंग है ...
 वैसा मन  का रंग है ...
 और जीवन ..का रंग है ...
 कोई रंग ही नहीं ...
पर दिया अपना रंग मैंने इसे ...
और रंग दिया जीवन अपने ही रंग में ...


या ...
जैसा  गीली माटी का रूप है ....
वैसा मन का रूप है ....
और जीवन का रूप है ...
अपना कोई स्वरूप ही नहीं....
पर चाक पर  दिया -
एक  रूप मैंने इसे ..
और ढाल लिया जीवन..
 अपने मन के स्वरूप में ..


शीश महल की तरह ...
अपनी ही छब दिखाता है ये जीवन ....
विविध रंग-रूप में सिमटा...लिपटा..या फैला ....
मेरा  ही  प्रतिबिम्ब है  जीवन ...
मेरा ही रंग ...मेरा ही रूप ...
मेरी ही दृष्टि ...छाई चाहूं ओर...
चाहूं ओर ..मैं ही  हूँ ..
मेरे ही हर दान से मिला..
 प्रतिदान वरदान.....
हर रोध से मिला..
 अवरोध ..प्रतिरोध...
हर क्रिया  से मिली प्रतिक्रिया ...
और हर बिम्ब से मिला प्रतिबिम्ब ...
हाँ निश्चय ही .....


मेरा  प्रतिबिम्ब ही  है.. जीवन ...!!


Oct.,2011,when I was in U.K ,one of my articles was published in the news paper titled , ''The gift of music .''for  ''Thought of the week.''Please spare a few minutes if u can.Thanks.

37 comments:

  1. Hi..
    Man main jo bhi, bhav hain hote..
    Jeevan vaisa ban jaata..
    Rang ghule jaise paani main..
    Paani vaisa rang jaata..

    Asthir man main, aashaon ke deep jalayega jo bhi..
    Antarman ka kona kona, ashaon se bhar jaata..

    Sundar Kavita..

    Deepak Shukla..

    ReplyDelete
  2. sach kaha...jis roop me dhal jata hai jeewan. sunder abhivyakti.

    ReplyDelete
  3. मेरे ही हर दान से मिला..
    प्रतिदान वरदान.....
    हर रोध से मिला..
    अवरोध ..प्रतिरोध...
    हर क्रिया से मिली प्रतिक्रिया ...
    और हर बिम्ब से मिला प्रतिबिम्ब ...
    हाँ निश्चय ही .....
    मेरा प्रतिबिम्ब है.. जीवन ..

    बिलकुल सही .....

    ReplyDelete
  4. अनुपमा जी,
    मेरा ही प्रतिबिम्ब है ...जीवन
    बहुत खुबशुरत प्यारी लाजबाब रचना
    सुंदर पोस्ट ..मुझे पसंद आई रचना ...
    मेरे नए पोस्ट पर आइये स्वागत है ..

    ReplyDelete
  5. कविता के भाव अच्छे लगे।

    ReplyDelete
  6. "All of us are bestowed with rare qualities, only thing is, we don’t identify them and somehow just get involved in our worldly life, too busy to note the very treasurers we hold inside us."
    well said, anupama ji! The article is really inspiring, Thanks for sharing the link!

    This poem is also very beautiful!

    ReplyDelete
  7. चिन्तन, कर्म एक दूसरे के साथ हाथों में हाथ डाले चलते रहते हैं और जीवन परिभाषित करते रहते हैं।

    ReplyDelete
  8. Thanks Anupama ji for reading the article and giving me the extra bit of ur precious time .

    ReplyDelete
  9. हर बिम्ब से मिला प्रतिबिम्ब ...
    हाँ निश्चय ही .....


    मेरा प्रतिबिम्ब ही है.. जीवन ...!!

    Wah !!! kya baat hai..Bahut sundar

    ReplyDelete
  10. थैंक्स,थैंक्स थैंक्स
    फिर आता हूँ टिपण्णी करने.

    ReplyDelete
  11. विविध रंग-रूप में सिमटा...लिपटा..या फैला ....
    मेरा ही प्रतिबिम्ब है जीवन ...
    मेरा ही रंग ...मेरा ही रूप ...
    मेरी ही दृष्टि ...छाई चाहूं ओर...
    चाहूं ओर ..मैं ही हूँ .
    bahut sunder bhav liye .bahut hi anupam rachanaa.badhaai aapko .

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अच्छे भाव हैं कविता के।

    सादर

    ReplyDelete
  13. जैसा गीली माटी का रूप है ....
    वैसा मन का रूप है ....
    और जीवन का रूप है ...sach yahi hai ... excellent likha hai

    ReplyDelete
  14. मेरे ही हर दान से मिला..
    प्रतिदान वरदान.....
    हर रोध से मिला..
    अवरोध ..प्रतिरोध...
    बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  15. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  16. बहुत ही सुन्दर पोस्ट.....सच है हम जो सोचते हैं हम वही बन जाते हैं......हैट्स ऑफ इसके लिए |

    ReplyDelete
  17. शीश महल की तरह ...
    अपनी ही छब दिखाता है ये जीवन ...
    सच्ची और अच्छी रचना...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  18. मेरा भी प्रतिबिम्ब है जीवन ...उत्तम भाव ..

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर भाव हैं और चित्र भी

    ReplyDelete
  20. या जीवन प्रतिबिम्ब है . निश्चय ही अच्छी रचना .

    ReplyDelete
  21. आपने अपना रंग और रूप तो नही बतलाया
    आपके प्रति बिम्ब से मैं तो यही समझ पाया
    कि सत् चित आनंद अनुपम सुन्दर हैं आप
    सुन्दर रचनाओं से हीं हरतीं हैं मन का संताप.

    आपकी अनुपम प्रस्तुति को सादर नमन,अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  22. डॉ॰ मोनिका शर्मा said...
    मेरे ही हर दान से मिला..
    प्रतिदान वरदान.....
    हर रोध से मिला..
    अवरोध ..प्रतिरोध...
    हर क्रिया से मिली प्रतिक्रिया ...
    और हर बिम्ब से मिला प्रतिबिम्ब ...
    हाँ निश्चय ही .....
    मेरा प्रतिबिम्ब है.. जीवन ..जीवन के सच को शब्दों में पिरो दिया आपने....

    ReplyDelete
  23. कल 27/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  24. जीवन की सजती छटा, रंगों का है राग…

    सुन्दर रचना...
    सादर...

    ReplyDelete
  25. पर चाक पर दिया -
    एक रूप मैंने इसे ..
    और ढाल लिया जीवन..
    अपने मन के स्वरूप में ..

    मेरे ही हर दान से मिला..
    प्रतिदान वरदान.....
    हर रोध से मिला..
    अवरोध ..प्रतिरोध...
    हर क्रिया से मिली प्रतिक्रिया ...
    और हर बिम्ब से मिला प्रतिबिम्ब ...
    हाँ निश्चय ही .....


    मेरा प्रतिबिम्ब ही है.. जीवन ...!!

    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ .. जीवन दर्शन को कहती हुई ..

    ReplyDelete
  26. बहुत रोचक और सुंदर प्रस्तुति.। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  27. मेरे प्रतिबिम्ब पर आपके विचार ...
    मानती हूँ आप सब का आभार ....
    आते रहें बारम्बार ...

    ReplyDelete
  28. नये अंदाज़ के साथ बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाये कम है!

    ReplyDelete
  29. सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  30. और हर बिम्ब से मिला प्रतिबिम्ब ...
    हाँ निश्चय ही .....


    मेरा प्रतिबिम्ब ही है.. जीवन ...!!bahut khub.

    ReplyDelete
  31. यशवंत जी कि हलचल से एक बार फिर आपकी इस पोस्ट पर.
    इस विनम्र निवेदन के साथ कि अपने बहुमूल्य विचार
    मेरी पोस्ट पर प्रस्तुत कीजियेगा,जिसे आपने अपनी
    हलचल में शामिल किया था.

    ReplyDelete
  32. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप आइये और अपने अनमोल संदेशों के द्वारा हमारा उत्साह बढाइये/आप हिंदी की सेवा इसी तरह अपने मेहनत और लगन से लिखी गई रचनाओं द्वारा करते रहें यही कामना है /आभार /लिंक नीचे दिया गया है /
    http://hbfint.blogspot.com/2011/11/19-happy-islamic-new-year.html

    ReplyDelete
  33. प्रेरणा ...बहुत आभार आपने मेरी कविता का चयन किया ....!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!