नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

29 September, 2011

क्वांर की धूप में .... !!

.
Black buck antelope.
आँगन -आँगन  ....गलियारे ...
मैदान ..मैदान...
कोने-कोने में ...पड़ने लगी है ...
खिलने लगी है धूप  ......
आज फिर आ गया है क्वांर (अश्विन)....!!
तपती क्वांर की   धूप में ....
तप करता है ...
तपता है जैसे मन ...
तपता इस मृग का तन ....
कौन  है  जो  नहीं  तपा .....?
कौन  है जो  बचा  रहा ...?
कभी जब रोकती है.. 
हलकी सी धुप की गर्माहट हमें ...
अलसाई सी इस धूप में ...
जो सो गया वो खो गया ...!!

मौसम  का  क्वांर  तो  आता   है 
 जीवन  में    क्वांर भी  लाता  है....
हमारे जीवन का...?
या इस मृग के जीवन का...?

प्रेरणा पाती हूँ इसकी तपस्या से ...
घंटों धूप में बैठा ....
Basking in the sun.
सहता है धूप की तपिश ....
तप से तप कर ...
जैसे  आग  में  जल  कर..
  कंचन   निखरता है  ...
 निखर  जाता  है मृग  का  तन  भी  ....

धूप में जल-जल कर ....
तप कर ...
तप का उन्माद जब छाया ..
 बन  जाती  है अनमोल  उसकी  काया  ... 
 यही है ..जीवन की..अद्भुत  माया.....!!


According to the Hindu mythology Blackbuck or Krishna Jinka is considered as the vehicle (vahana) of the Moon-god Chandrama.
According to the Garuda Purana of Hindu Mythology, Krishna Jinka bestows prosperity in the areas where they live. The skin of Krishna Mrigam plays an important role in Hinduism, and Brahmin boys are traditionally required to wear a strip of unleathered hide after performing Upanayanam.More importantly...when the antelope sits in the sun for hours together in this season, the skin gets tanned, making it look more beautiful and the colour of the skin becomes more  precious.

Please read this text as just an information to enrich knowledge .
क्वांर से अभिप्राय ...आश्विन मास से है .ये हिंदी महिना सावन ,भादों के बाद क्वांर आता है |इसी क्वांर के महीने में ये हिरन अपने शरीर की काया पलट लेता है ...और फिर उसे देखने दूर-दूर से लोग आते हैं|इसी बात को ध्यान में रखकर ये पोस्ट लिखी है|