नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

02 October, 2012

टिमटिमाता हुआ ... एक दिया ..

जीवन की काल कोठरी में  ....
मन की काल कोठारी में ....
कुछ प्रकाश तो था ...
क्षीण   होती आशाओं में ....
फिर भी विकीर्ण होता हुआ ..
कुछ उजास तो था ...!!

उठता है सतत ...
जो धुंआ इस लौ से ..
स्वयं की भीती से-
स्वयं ही लड़ता....
प्रज्ज्वल ..कांतिमय ..
भय से निर्भीक होता हुआ..
भोर के विश्वास का प्रभास देता हुआ .....
शंका का विनाश करता हुआ ..
सत्य की टिमटिमाती सी लौ ....
प्रकाश पुंज अविनाशी ....!!

उच्छ्वास  को उल्लास में बदलता हुआ ...

नित नवल नूतन विभास
 प्रस्फुटित करता  हुआ ..
टिमटिमाता था ..
स्वयं जलकर भी ...
प्रकाश ही देता था ..
छोटी सी लौ ...आरत ह्रदय .. .....
जलता हुआ ..टिमटिमाता हुआ ...एक दिया ..




एक विश्वास है मन में .......आस्था है ....बापू ....इस  नव भारत में ,इस भारती में  .....कुछ सत्य  अभी बाकी है ..........!!!!!!!!!और उसी पर अडिग अविचल अपनी सभ्यता संस्कृति से जुड़े रहकर ही हम कर रहे हैं नव भारत का निर्माण ....!!!!!!!
जय हिन्द ।




आइये बापू को ,शास्त्री जी को श्रद्धापूर्वक नमन करते हुए ये गीत सुनते हैं .......................................


41 comments:

  1. अमृता जी आपका काव्य चित्रण अच्छा लगा । मेरी नई पोस्ट 'बहती गंगा' पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय प्रेम सरोवर जी आपने मेरी इस रचना को सराहा ....हृदय से आभार ...आपने इसे अमृता जी की कृति समझा ....सच कहूँ मन मे बहुत प्रसन्नता हुई ...क्योंकि मैं जानती हूँ अमृता जी की कृतियाँ अत्यंत गहराई लिए होती हैं ....मैं उनकी अनन्य प्रशंसखों मे से एक हूँ ....कभी उनकी तरह लिख पाऊँ मेरा सौभाग्य ही होगा ....!!मैं इसको प्रभु का प्रसाद ही मान रही हूँ ....शायद लेखन में सही दिशा है ...मेरी यह सोचकर ....
      आपका आभार स्नेह एवं आशीर्वाद बनाए रखें ...

      Delete
  2. जब तक दिया टिमटायेगा, राह दिखाता रहेगा।

    ReplyDelete
  3. गाँधी रूपी दिये की रौशनी में हमने देखना बंद कर दिया है अब , या शायद जानबूझकर नहीं देखते , अब तो हम खुद को अँधेरे में रखते है और अँधेरे का निर्माण भी करते है . काजल की कोठरी .में उम्मीद का दिया टिमटिमा रहा है , जरुरत है उसमे इच्छाशक्ति रूपी घी सालने की और लौ को प्रबल बनाने की . बहुत सुँदर

    ReplyDelete
  4. एक विश्वास है मन मे .......आस्था है ....बापू ....इस नव भारत में ,इस भारती मे .....कुछ सत्य अभी बाकी है ..........!!!!!!!!!और उसी पर अडिग अविचल अपनी सभ्यता संस्कृति से जुड़े रहकर ही हम कर रहे हैं नव भारत का निर्माण .

    गजब का विश्वास और आग्रह .बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. सादर नमन बापू को ||

    ReplyDelete
  6. baapu aur shastri ji ko sadar naman....

    ReplyDelete

  7. विन्रम श्रद्धांजलि......
    कुछ यादेँ हैं पास मेरे उन्ही को मैं याद करता हूँ
    साधारण से हैं शब्द मेरे उन्ही में मैं बात करता हूँ||
    ---अकेला
    आभार!

    ReplyDelete
  8. आम जनता आज भी एक विश्वास के सहारे ही तो जी रही है ... आस्था टूटे नहीं राह प्रदीप्त हो यही कामना है ... सुंदर प्रस्तुति

    बापू और शास्त्री जी को नमन

    ReplyDelete
  9. उम्मीद की एल लौ बाकी है.

    ReplyDelete
  10. उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार रविकर जी ...!!

      Delete
  11. उत्कृष्ट रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  12. बहुत सु्दर रचना

    भय से निर्भीक होता हुआ..
    भोर के विश्वास का प्रभास देता हुआ .....
    शंका का विनाश करता हुआ ..
    सत्य की टिमटिमाती सी लौ ....
    प्रकाश पुंज अविनाशी ....!!

    क्या कहने


    ReplyDelete
  13. जब समय हो मेरे नए ब्लाग पर स्वागत है
    http://tvstationlive.blogspot.in/2012/09/blog-post.html?spref=fb

    ReplyDelete
  14. एक बेहतरीन कविता से आपने देश के दो महान सपूतों ओ याद किया है।
    बापू और शास्त्री जी को नमन।

    ReplyDelete
  15. उम्दा रचना...


    दोनों को शत शत नमन!!

    ReplyDelete
  16. कुछ प्रकाश तो था ...
    क्षीर्ण (क्षीण ) होती आशाओं में ..........क्षीण


    उच्छास(उच्छ्वास ) को उल्लास में बदलता हुआ ........उच्छ्वास ........


    एक विश्वास है मन मे .(में )......आस्था है ....बापू ....इस नव भारत में ,इस भारती मे (में )........में /.......में ....

    प्रासंगिक रचना गांधी जयंती पर .बधाई .

    ReplyDelete
  17. आभार ...बहुत आभार ...आपकी पारखी नज़रों का रहता है ...मेरी रचना को इंतज़ार ...अपना स्नेह एवं आशीर्वाद बनाए रखें ....!!

    ReplyDelete
  18. महान विभूतियों की याद में एक महान रचना |

    ReplyDelete
  19. उच्छ्वास से उल्लास में बदलता हुआ एक छोटा दिया ही काफी है अंतर्मन की रौशनी के लिए !
    बापू और शास्त्रीजी ऐसे ही दीपक थे !
    बहुत खूबसूरत लेखन !

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना गांधी जी और लाल बहादुर शास्त्री जी को नमन

    ReplyDelete
  21. बहुत खूबसूरत लेखन !गांधी जी और लाल बहादुर शास्त्री जी को नमन

    ReplyDelete
  22. बापू और शास्त्री जी को शत शत नमन। आज बहुत दुख होता है जो लोग फेसबूक मे बापू के बारे मे उल्टा सीधा कमेंट करते हैं। जो इंसान देश के लिए उमरभर लड़ता रहा उसके लिए आजकी पीढ़ी की सोच बहुत तुछ हो गई। खूबसूरत रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  23. संध्या जी बहुत आभार आज ब्लॉग4वार्ता पर मेरी रचना लेने के लिए ...!!

    ReplyDelete
  24. बधाई हो!
    बीत गया है दो अक्टूबर!
    अब एक साल बाद ही याद आयेंगी ये महान विभूतियाँ!

    ReplyDelete
  25. सुन्दर कविता और सुनहरी कलम पर उत्साहवर्धन हेतु विनम्र आभार |

    ReplyDelete
  26. सत्य की टिमटिमाती सी लौ ....
    प्रकाश पुंज अविनाशी ....!!

    वाह! बहुत ही अनुपम प्रस्तुति है आपकी.

    अमृता और अनुपमा एक ही लग रहीं हैं.
    अनुपमा की हर कृति अमृता
    और अमृता की हर कृति अनुपमा
    दिखती है मुझे.क्यूंकि,एक ही सत्य की
    टिमटिमाती सी लौं प्रकाश पुंज अविनाशी है
    दोनों के हृदय में.

    हार्दिक आभार,अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छे भाव. लौ मद्धिम ही सही पर दीपक का प्रदीप्त रहना बहुत जरूरी है. नवभारत के निर्माण के लिए उस दीपक की सतत रौशनी बहुत ज़रूरी है.

    ReplyDelete
  28. खूबसूरत....बहुत ही सुन्दर कविता है...पोजिटिव कविता कहूँगा...एक उम्मीद और आस जगाती हुई :)

    ReplyDelete
  29. आपकी रचना ...अपनी बात कहने का आपका अंदाज़ बहुत पसंद आया....बधाई

    ReplyDelete
  30. दीप छोटा किन्तु प्रेरणा बड़ी प्रदान करता है। ठीक उसी तरह जैसे आपकी टिप्पणी।

    ReplyDelete
  31. दीप छोटा किन्तु प्रेरणा बड़ी प्रदान करता है। ठीक उसी तरह जैसे आपकी टिप्पणी।

    ReplyDelete
  32. आपने बहुत ही अच्‍छा लिखा है ... इस उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार

    ReplyDelete

  33. सभ्यता संस्कृति हमारी आत्मा है इसीसे नव निर्माण की अपेक्षा कर सकते है !भावपूर्ण प्रस्तुती ...

    ReplyDelete
  34. क्या अनुपमा जी , आपने कुछ नहीं बहुत ही ज्यादा नहीं कह दिया ऊपर प्रत्युत्तर में . मैं जब भी आपको पढ़ती हूँ तो मंत्रमुग्ध हो जाती हूँ..अभी भी मेरी वही भाव-दशा है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमृता जी ....मुझसे अपनी खुशी छुपाई नहीं जाती |कभी कभी इतनी ज्यादा छलक जाती है की मैं स्वयं ही समझ नहीं पाती हूँ |आपकी महानता ही छिपी है आपके लेखन में ,मैं उसी को गुनने का प्रयत्न करती रहती हूँ ...!!सच कहूँ अच्छा लगता है ये सोच कर कि आप मेरी प्रशंसक हैं |बहुत आभार आपका ...यही प्रेम बनाए रहिएगा ...!!

      Delete
  35. आशा का एक नन्हा सा दीप भी निराशा के महातम को क्षण में दूर कर देता है..बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना ! बापू को नमन.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!