नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

05 April, 2013

अनुभुति की सुकृति ....!!

अनुभूति ...से अनुभूत ...
अनुभूति से अनुरंजित ...
अनुभूति के अनुकूल ...
अनुभूति  से अनुरक्त ...
अनुभूति  से अभिभूत ...
अनुभूति का अनुनेह ...
अनुभूति की अनुगूंज ...
अनुभूति  की अनुशंसा ...
अनुभूति  की अनुकृति ...
ऐसे ही बह चली ....
अनुभुति से सुकृति...
अनुभूति  की सुकृति ....



मेरे ब्लॉग की आज तीसरी वर्षगाँठ .....
इसी प्रकार आनंदमई यात्रा चलती रहे .....
आप सभी से सौहार्द्र अपेक्षित .....
सादर आभार ....!!

42 comments:

  1. ब्लॉग की तीसरी वर्षगांठ ...सुखद अनुभूति हुई ..... बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. आदरेया अनुपमा जी ब्लॉग की तृतीय वर्षगाँठ हेतु हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं यह सुनहरा सिलसिला यूँ ही आगे बढ़ता जाये और नए आयाम कायम करे. सादर

    ReplyDelete
  3. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 06/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार यशोदा ....हलचल पर अपनी रचना की हलचल देख मन खुश हो रहा है .....!!

      Delete
  4. बहुत - बहुत बधाई
    और ढेरों शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  5. बहुत बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. bahut-bahut badhai ...........hame bhi bahut kuch anubhuti hoti aapki sundar shabdon se saji rachna se ..........

    ReplyDelete
  7. ऐसे ही अनंतकाल तक बहती रहे अनुपम सुकृति ....
    ब्‍लॉग की तीसरी वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत बधाई
    एवं शुभकामनाएं
    सादर

    ReplyDelete
  8. यूँ ही अनवरत चलती रहे आपकी ब्लॉग यात्रा... हार्दिक बधाई व ढेर सारी शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार संध्या जी ब्लोग्वार्ता पर आज 'सुकृति' को स्थान दिया ...!!

      Delete
  9. तीसरी वर्ष गांठ की बधाई और शुभ कामनाएं
    LATEST POST सुहाने सपने

    ReplyDelete
  10. अनुपम अनुभूति....
    सुकृति की अनुपमा का अभिनन्दन...

    अनुलता का अपनापन...
    :-)


    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर और आत्मीय अभिव्यक्ति अनु .....!!
      बहुत बहुत आभार .....!!

      Delete
  11. अनुभुति और अनुभूति दोनों का अंतर मन को भ्रमित कर गया ......

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार अंतर बताने के लिए ...!सब जगह अनुभूति ही होना चाहिए था ...!!अब ठीक कर दिया है ....!!

      Delete
  12. ब्लोगिंग के तीन वर्ष पूरा करने के लिए बहुत२ बधाई,शुभकामनाए,,,

    Recent post : होली की हुडदंग कमेंट्स के संग

    ReplyDelete
  13. आज की ब्लॉग बुलेटिन क्यों 'ठीक है' न !? - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शिवम भाई ....!!

      Delete
  14. हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  15. ब्लॉग की तीसरी वर्षगाँठ पर हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें, अनुपमा दीदी !

    ReplyDelete
  16. तीसरी वर्षगाँठ पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई

    ReplyDelete
  17. अनुभूतियाँ इसी सहजता से बहती चली आयें -ब्लाग सरसाती और पाठक का मन हरषाती रहें !
    हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  18. ब्लॉग की तीसरी वर्षगाँठ की हार्दिक शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  19. ब्लॉग की तीसरी वर्षगाँठ ...बहुत बहुत बहुत मुबारक हो...यूहीं लिखती रहिये सतत ....

    ReplyDelete
  20. बहुत बहुत बधाई यू ही जारी रहे ये सफर

    ReplyDelete
  21. Isi tarah Anubhooti se anubhoot rahen, badhaee.

    ReplyDelete
  22. ब्लॉग के तीसरे वर्षगांठ पर बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  23. अनुपम 'अनुपमा' की अभिलिखित अनुभूति ..अभिशब्दित..अभिशब्दित ..अभिशब्दित..

    ReplyDelete
  24. यह अनुभूति तो संजीवनी है .... मूर्छित को होश में ले आये - शुभकामनायें

    ReplyDelete
  25. तीसरी वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई ... आशा है आगे भी बहुत कुछ सीखने को मिलता रहेगा आपसे ..
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete





  26. ब्लॉग की तीसरी वर्षगांठ पर बहुत बहुत बधाई !
    आदरणीया अनुपमा जी

    अनुपमा जी की अनुपम अनुभूतियों की सुकृतियों से ब्लॉग जगत सदैव आनंदित और लाभान्वित होता रहे... यही कामना है !

    आपको सपरिवार नव संवत्सर २०७० की बहुत बहुत बधाई !
    हार्दिक शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं...

    -राजेन्द्र स्वर्णकार


    ReplyDelete
  27. आपका संगीत शब्दों से स्वर निकाल लाता है, आप ऐसे ही लिखती रहें, तीसरी वर्षगाँठ की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  28. ब्लॉग की तीसरी वर्षगांठ मुबारक हो ....
    रचना पढ़ हुई ये सुखद अनुभूति,
    अनुपमा की अनुभूति की सुंदर-सुकृति...
    हो जैसे शीर्षक-गीत,सी अनुभूति...
    रचना पढ कर लगा जैसे तुम्हारे ब्लॉग का title-song हो!!
    बधाई ओर हार्दिक-शुभ कामनाएं साथ ही नव वर्ष की भी...
    तुम्हारी लेखनी बस ऐसे ही चलती रहे ओर हम लोग तुम्हारे लेखन की गंगा में डुबकियां लगाते रहें.....


    ReplyDelete
  29. Tisari varshgath ki hardik subhkamnayen.

    ReplyDelete
  30. आप सभी का ह्रदय से आभार ....इन शुभकामनाओं के लिए ....!!

    ReplyDelete
  31. आपकी कवितायेँ केवल शब्दों की गूँज नहीं बल्कि ईश्वरीय प्रकृति और आत्मीय अनुभूति की कारक होती है . सुकून प्रदायी संगीत और शब्दों की जुगलबंदी , अतिशय प्रसन्नता का अनुभव कराती है . आप लिखती रहे अनन्त तक और हम हृदयानुभूति को संजोते रहे .

    ReplyDelete
  32. mujhe der ho gayi thodi...fir bhi teen saal pure hone ki bahut bahut badhai aapko :) :)

    ReplyDelete
  33. आपके प्रयास ने ,अनुभूति के अनुप्रास ने, आज अनुभूति ही अनुभूति दे दी ....अति सुंदर।

    ReplyDelete
  34. आपके प्रयास ने और अनुभूति के अनुप्रास ने सुंदर रचना की अनुभूति करा दी ....

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!