नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

05 May, 2013

सृजन .....हाइकु ...

आस का पंछी ......
उड़े निर्बाध जब ...
खिले सृजन  ....

कैसे रचाऊँ ..
नित नया सृजन ...
ये शब्द पूछें ...!!

उड़े बयार .....
शब्द उड़ा ले जाए  ....
भरें उड़ान ...

पंख पसार ...
उड़  जा उस पार ....
संदेसा ले जा ....

उड़ती जाऊं ...
मैं ढूंढ ढूंढ लाऊँ ...
शुभ   सृजन.....

जागा सवेरा ....
अब उड़ते  पंछी ...
नील वितान ....

37 comments:

  1. उड़ती जाऊं ...
    मैं ढूंढ ढूंढ लाऊँ ...
    शुभ सृजन.....
    बहुत उम्दा,हाइकू बेहतरीन लगे ,,,

    RECENT POST: दीदार होता है,

    ReplyDelete
  2. सहज और सरल वर्णन..सुन्दर..

    ReplyDelete
  3. जागा सवेरा ....
    अब उड़ते पंछी ...
    नील वितान ....

    सारे हाईकू बहुत सुंदर हैं और गहन भाव लिये हैं.

    बधाई.

    ReplyDelete
  4. कैसे रचाऊँ ..
    नित नया सृजन ...
    ये शब्द पूछें ...!!

    अनंत विस्तार वाले संसार मे सृजन भी अनंत हो...शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  5. सबेरा कितने रंग भरता है!

    ReplyDelete
  6. उड़े बयार .....
    शब्द उड़ा ले जाए ....
    भरें उड़ान ..
    ...बहुत ही प्यारे हाइकू ..अनु ...!

    ReplyDelete
  7. जागा सवेरा ....
    अब उड़ते पंछी ...
    नील वितान ...

    प्रकृति का अनुपम वर्णन

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर हाइकू, शुभकामनाएं.

    रामारम.

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत ही सुन्दर सुन्दर हाइकू प्रस्तुत किये हैं. बधाई

    ReplyDelete
  10. उड़े बयार .....
    शब्द उड़ा ले जाए ....
    भरें उड़ान ..

    कैसे न कहूँ
    सर्वश्रेष्ठ हो तुम
    मन मोहनी ......

    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके इस स्नेह और प्रेम से अभिभूत हूँ ...!!मन खिल गया .....ह्रदय से आभार ...!!

      Delete
    2. bahut sunndar anupama ji .waah

      Delete
  11. सृजन तो सृष्टि का अभिन्न अंग है . शब्दों और भावो के माध्यम में पल्लवित काव्य सृजन मानव कल्याण के प्रति सतर्क हो बस यही कामना है . बहुत सुन्दर लिखा है दी.

    ReplyDelete
  12. जागा सवेरा ....
    अब उड़ते पंछी ...
    नील वितान ....

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए आभार...!
    --
    सुखद सलोने सपनों में खोइए..!
    ज़िन्दगी का भार प्यार से ढोइए...!!
    शुभ रात्रि ....!

    ReplyDelete
  14. कैसे रचाऊँ ..
    नित नया सृजन ...
    ये शब्द पूछें ...!!बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  15. वाकई सुंदर ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  16. जब शब्द भरे उड़ान तो अपना हो जाए नील वितान..

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह बहुत सुन्दर बात अमृता जी ....!!
      अच्छी लगी ...

      Delete
  17. वाह .. कमाल के हैं सभी हाइकू ...

    ReplyDelete
  18. वाह खूबसूरत हाइकु

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर सृजन... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब !बहुत खूब !बहुत खूब!कोमल पदावली और भाषा शैली में भाव कणिकाएं बिम्ब लिए जीवन का .

    ReplyDelete
  21. आती-जाती बयार में उड़ते शब्द इकठ्ठा हुए और रच गए हायकू !
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  22. सबेरा....बहुत बढ़िया रंग!!

    ReplyDelete
  23. Beautiful composition. Loved the second one :)

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर हाइकू अनुपमा ,सुंदर शब्द और भाव भरे हाइकू
    शुभकामनाएं .......!!

    ReplyDelete
  25. :) lovely
    sabhi haaiiku bahut badhiya!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!