नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

26 June, 2013

देवभूमि बन .... रहने दो मन ...

छाई कैसी अंधियारी ....!!
गगन मेघ  काले  देख ...
मछली सी तड़प उठी ...
कलप उठी पीर....
 बहे अंसुअन नीर ....

त्रिदेव ...बंद करो त्रिनेत्र का तांडव ...
बहुत भुगत चुकी अब ....

होने दो ..फिर आज ...
नित  प्रात  की ...
निज  प्रात ...!!
अढ़सठ तीरथ घट भीतर मेरे ....
स्फटिक के शिवलिंग सजात ...!!

मोगरे के पुष्प तोड़ ...
जग  से मुख मोड़  ...

आज घट भीतर करूँ अर्पण ....
स्वीकारो मेरा कुसुम तर्पण ...

पुनः करूँ वंदन .....
वंदनवार बनाऊँ ...
मन-मंदिर  सजाऊँ ...

प्रकृति सा प्राकृत ....
पुनः   करो सुकृत ...
देवभूमि बन ....
अब रहे  मन ...




39 comments:

  1. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 29/06/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार यशोदा मेरी रचना हलचल पर लेने हेतु ....!!

      Delete
  2. सच में त्रिपुरारी अपना तीसरा नेत्र खोल दिया था , लेकिन वो भोले भंडारी है , आर्तनाद सुनके पिघल भी जाते है .

    ReplyDelete
  3. सच्ची प्रार्थना ...जरूर सुनेंगे भोले नाथ.

    ReplyDelete
  4. देवभूमि की पीड़ा .... देवता को सुननी ही होगी .... मन से की गयी प्रार्थना प्रभु सुनेंगे ही .... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  5. आज घट भीतर करूँ अर्पण ....
    स्वीकारो मेरा कुसुम तर्पण ...
    सुंदर प्रार्थना....

    ReplyDelete
  6. सामायिक-सुंदर कविता

    ReplyDelete
  7. आपकी मनोकामना पूर्ण हो
    और चारो ओर शांति व्याप्त हो
    ऐसी ही मैं भी दुआ कर रही
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. सच्चे मन से की गयी प्रार्थना में बहुत शक्ति होती है..
    सुन्दर...
    :-)

    ReplyDelete
  9. त्रिदेव ...बंद करो त्रिनेत्र का तांडव ...
    बहुत भुगत चुकी अब ....

    खुबसूरत ईश वंदना

    ReplyDelete
  10. ...जरूर सुनेंगे सच्ची प्रार्थना

    ReplyDelete
  11. धुर्जटि से सुन्दर विनती. उन्हें अपनी निद्रा तोड़ हम सब को सुनने की शीघ्र जरूरत है.

    ReplyDelete
  12. प्रांजल रचना भाव और अर्थ सौन्दर्य बिम्ब विधान की श्रेष्ठता लिए .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  13. होने दो आज.. नित प्रात की.. !! निज प्रात... !! गहन भाव लिए हुए... सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रार्थना।

    ReplyDelete
  15. he bholeshankar...........ab to kuchh karo
    khubsurat prarthna...

    ReplyDelete
  16. बहुत मनमोहक प्रार्थना ... मन भीतर मंदिर देव तुम आ बसों ... सादर

    ReplyDelete
  17. देवभूमि यह सचमुच!
    किन्तु दानवी-क्रीड़ा नर की
    भग्न कर रही सब कुछ!
    इन विषम प्रहरों में यह प्रार्थना ही कुछ आश्वस्त करती है!





    ReplyDelete
  18. आपकी प्रार्थना सफल हो............

    ReplyDelete

  19. तीसरा नेत्र हम बच्चों के पास ही है .शिव के बच्चों के पास .शिव ने ही हमें यह ज्ञान दिया है .वह तांडव नहीं करता .तांडव कराते हैं हमारे कर्म ,प्रकृति के साथ हमारी छेड़छाड़ .ॐ शान्ति .शुक्रिया आपकी टिप्पणियों का .

    ReplyDelete
  20. बारम्बार वन्दनीय है ये वंदना..

    ReplyDelete
  21. प्रकृति सहेजे अपनी गरिमा,
    शेष क्षोभ का विशद बिखरना।

    ReplyDelete
  22. इश्वर ये प्रार्थना ज़रूर सुने ....ऐसी विनाशलीला कभी न हो ...पर मनुष्यों को
    भी सद्बुद्धि मिले ....ये जो घटा है हमारे कर्म फल ही हैं....

    ReplyDelete
  23. आप के दिल से निकली प्रार्थना समस्त
    मानव और जीव के हित में है ....
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  24. बहुत ही भाव विभोर करती रचना अनुपमा जी ! मन मंदिर में ही पूजा अर्चना अर्पण तर्पण कर लें वही उचित होगा ! इन दिनों त्रिपुरारी रुष्ट प्रतीत होते हैं ! जाने कब उनका यह रोष शांत होगा ! बहुत सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  25. देवभूमि बन रहे अब मन ।
    सुंदर प्रार्थना अवश्य फलित होगी ।

    ReplyDelete
  26. आभार आप सभी का आपने मेरे हृदय के उद्गार पर अपने अपने विचार दिये ...!!प्रलय ही आई थी उत्तराखंड में.....!!
    लोगों की बिपदा देख कर बहुत दुख हो रहा था ...!!
    शिव सबको सद्बुद्धि दें की अपनी भूमि की रक्षा हम स्वयं कर सकें ...!!

    ReplyDelete
  27. The metaphor in this poem and the pain it portrays is tremendous.

    ReplyDelete
  28. अनुपमा जी, सचमुच आज देश के लिए बहुत बड़ी आपदा की घड़ी है, दिल से निकली दुआ कभी व्यर्थ नहीं जाती..ह्रदय से उठे उद्गार पहुंचे हैं अवश्य अस्तित्त्व तक..

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर.सटीक.बधाई!

    ReplyDelete
  30. कैसे मिल पाएंगे ?जो लोग,खो गए घर से,
    मां को,समझाने में ही,उम्र गुज़र जायेंगी !

    ReplyDelete
  31. प्रार्थना हम सबकी भी यही है, कृपा करेंगे भोलेनाथ,यहाँ भी पधारे



    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_3.html

    ReplyDelete
  32. शुक्रिया अनुपमा जी उत्साह बढाने का .ॐ शान्ति .चार दिनी सेमीनार में ४ -७ जुलाई ,२ ० १ ३ ,अल्बानी (न्युयोर्क )में हूँ .ॐ शान्ति .
    .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  33. बहुत ही सुन्दर, मनोरम वंदन।

    ReplyDelete
  34. सभी के हृदय की प्रार्थना को स्वर देती कविता!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!