नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

04 July, 2013

चंपई गुलाबी पंखुड़ी पर ...


स्मित  बनफूलों का
सौम्य तारुण्य ...!!
चंपई गुलाबी  पंखुड़ी पर ...
चाँदनी  का
चांदी सा छाया लावण्य ...!!
भीनी भीनी सी खुशबू  ले .....
बहती हुई ये अलमस्त पवन ...
बूंद बूंद बरस रहा है ...
मेघा का रस पावन ...

स्निग्ध  चांदनी में डूबा
कल्पनातीत वैभव ....
सरसता  हुआ मन ...!!
रुका  हुआ क्षण ...!!
अनिमेष सुषमा का ,
कर रहा रसास्वादन .....!!!!

अंबर की  रस फुहार ....
हो रही बार-बार ....
बरस रहा आसाढ़ ......
भीग रहा मन चेतन ...!!

कैसी अनुभूति है ...??
छुपी कोई अदृश्य आकृति है ....???
कौन है यहाँ
जो मुझे रोक लेता है ...????
नमन करने तुम्हारी कृति पर ...
और ...अपनी सीली सीली सी ...
मदमस्त सुरभि से ...
तुम्हारी उपस्थिति का भान कराता है ...

मेरे  ह्रदय के आरव   श्रृंगों  को .....
भिगोने लगता  है
वाणी के उजास  से ......
चेतना आप्लावित  होती है
अंतस तक ....!!
और इस तरह
तुम ही करते हो ....
मेरा मार्ग प्रदर्शन ....
और प्रशस्त  भी ....!!




38 comments:

  1. बहुत सुन्दर ..कितना कुछ कह दिया ... शब्दों में...अनुपमा जी

    ReplyDelete
  2. मेरे ह्रदय के आरव श्रृंगों को .....
    भिगोने लगता है वाणी के उजास से ......
    चेतना आप्लावित होती है अंतस तक ....!!
    और इस तरह तुम ही करते हो ....
    मेरा मार्ग प्रदर्शन ....और प्रशस्त भी ....!!

    बहुत ही सुंदर.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर,बेहतरीन भाव!

    ReplyDelete
  4. वाह....
    बहुत सुन्दर.....
    मन को खुश करती रचना.

    अनु

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  6. वाह अनुपममा जी बिलकुल आप ही की तरह अनुपम भाव संयोजन... कोमल एहसासों से बुनी बहुत ही सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन क्रांतिकारी विचारक और संगठनकर्ता थे भगवती भाई - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार शिवम भाई ....!!

      Delete
  8. बेहद सुन्दर।
    ख़ूबसूरत शब्द, और आध्यात्मिक चेतना से भरी हुई रचना।
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर,लेखनी को शुभकामनाये


    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/01/yaadain-yad-aati-h.html

    ReplyDelete
  10. कोमल मन भावों का अद्भुत चित्रण।

    ReplyDelete
  11. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल शनिवार 06/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार यशोदा ....!!

      Delete
  12. कितनी प्यारी रचना है. अंतर्मन को आक्लिन्न और आलोकित करती हुई.

    ReplyDelete
  13. ईश्वर की उपस्थिती का आभास प्रकृति के हर रूप में होता है .... उत्तम भावों से रची सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  14. waah...anupam shabd saundarya...apki har rachna ki khasiyat uska shabd vinyas hota hai..sundar aur sarthak rachna ke liye badhai.

    ReplyDelete
  15. मेरे ह्रदय के आरव श्रृंगों को .....
    भिगोने लगता है वाणी के उजास से ......
    चेतना आप्लावित होती है अंतस तक ....!!
    और इस तरह तुम ही करते हो ....
    मेरा मार्ग प्रदर्शन ....और प्रशस्त भी ....!!

    बहुत सुंदर ! अनुपमा जी,सचमुच परमात्मा प्रकृति के माध्यम से हमें कुछ कहना चाहता है...

    ReplyDelete
  16. अंतर्मन को आलोकित करती हुई
    बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  17. वाह बहुत सुंदर, मन प्रसन्‍न हो गया

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना... !!

    ReplyDelete
  19. सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति।।

    ReplyDelete
  20. सूबह सुबह, मन फ्रेश हो गया...

    मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  21. शब्दों के माध्यम से जड़, चेतन दोनों का स्पष्ट चित्रण कर जाती है आप. अद्भुत है दी .

    ReplyDelete
  22. बहुत ही प्यारी मनभावन रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  23. भींगी-भींगी सी अनुभूति..अद्भुत..

    ReplyDelete
  24. स्निग्ध चांदनी में डूबा कल्पनातीत वैभव ....
    सरसता हुआ मन ...!!
    रुका हुआ क्षण ...!!
    अनिमेष सुषमा का कर रहा रसास्वादन .....!!!!

    अंबर की रस फुहार ....हो रही बार-बार ....
    बरस रहा आसाढ़ ......भीग रहा मन चेतन ...!!

    चित्रण कोमल भाव लिए स्निग्ध प्रकृति का अनुपम चित्रण

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर और कोमल चित्रण आषाढी बरखा का ,साथ ही एक अलोकिक अनुभूति...बूंदों की रिमझिम में तो वैसे भी सबकुछ भीगा भीगा सा खूबसूरत
    ही लगता है .....साभार.....

    ReplyDelete
  26. वाह वाह बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  27. बरसात और चंपा का खिलना वाह क्या खूब लिखा है ।

    ReplyDelete
  28. सुन्दर कोमल मनोहर रचना भाषिक और अर्थ सौंदर्य लिए .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर.........बरस रहा आसाढ़ ......भीग रहा मन चेतन ...!!

    ReplyDelete
  30. शुभ वचनो हेतु हृदय से आभार .....!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!