नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

25 January, 2015

प्रेम तब भी जीवित होगा...!!

मैं शब्द हूँ
नाद ब्रह्म ...
प्रकृति में रचा बसा ...!!
हूँ तो भाव भी हैं
किन्तु ,
न रहूँगा तब भी
भावों का अभाव न होगा !!
प्रतिध्वनित होती रहेगी
गूंज मौन की ,
उस हद से परे भी
प्रकृति की नाद में ,
जल की कल कल में
वायु के वेग में
अग्नि की लौ में  ,
आकाश के विस्तार में,
धृति  के धैर्य में,
रंग में ,बसंत में,
पहुंचेगी मेरी सदा  तुम तक
प्रभास तब भी जीवित होगा
 प्रेम तब भी जीवित होगा...!!

9 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति, गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये।

    ReplyDelete
  2. प्रेम तो ॐ का चारण है ... रहेगा सृष्टि में हमारे न होने के बाद भी ...
    गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर सार्थक प्रस्तुति, गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये। 

    ReplyDelete
  4. वाह, कम शब्दों में आपने सबकुछ जीवंत कर दिया।

    ReplyDelete
  5. प्रेम तो शब्दातीत भी है...बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना अनुपमा जी

    ReplyDelete
  6. कौन बाँध सकता है प्रेम को सीमाओं में. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. प्रेम ही परमेश्वर है । शब्द - ब्रह्म है , शाश्वत है ।
    सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  9. ढाई आखर प्रेम का ...

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!