नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

04 March, 2015

बूंद रंग अपने भरोगे ...


शब्द की उस आकृति को
भाव की उस स्वकृति  को ,
शब्द शब्द गढ़  दूँ अगर तो
भाव कैसे पढ़ सकोगे .....?

जीवन  की यह वेदना है ,
जब नहीं संवाद न संवेदना है ,
शब्द मेरे ही हों किन्तु
भाव रंग अपने भरोगे...!!

है जगत की रीत यह तो ,
दो घड़ी की प्रीत यह तो,
जल भरा यह कलश मेरा ,
भाव रंग अपने भरोगे ....!!

*************

स्याही से
लिखते हुए
उज्ज्वल भाव भी
स्याह क्यों दिखते हैं ......?




6 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 5-3-2015 को चर्चा मंच पर हम कहाँ जा रहे हैं { चर्चा - 1908 } पर दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. सार्थक चर्चा में मेरी रचना को स्थान देने हेतु हृदय से आभार दिलबाग जी !!

      Delete
  2. उज्ज्वल भाव श्याम रंग में रँग कर गूढ़-गहन हो जाते हैं !

    ReplyDelete
  3. बूँद-बूँद में भाव। यही तो जीवन है।

    ReplyDelete
  4. कागज पर उतरते ही सच झूठ हो जाता है...सच इतना सूक्ष्म है कि कागज पर उतर ही नहीं पता कि खो जाता है...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर "है जगत की रीत यह तो, दो घड़ी की प्रीत यह तो."

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!