नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

31 May, 2016

इस ठहरे हुए वक़्त में ....!

किसलय का डोलता अंचल ,
नदी पर गहरी स्थिर लहरें चंचल
झींगुर की रुनक झुनक सी नाद ...
करती  हैं कैसा संवाद
पग  धरती विभावरी ,
धरती श्यामल शीतलता  भरी,
आ रही  रजनी परी ...!!
कोलाहल से दूर  का  कलरव ,
मन शांत प्रशांत नीरव
अनृत से प्रस्थान करते ,
नीड़ की ओर उड़ते पखेरू ,
मणिकार की मणि सा ...
स्निग्द्ध धवल मार्ग दर्शाता विधु
शब्द बुनते भाव इस तरह
फिर लरजती  लरजाती सी  उतरती है ,
मन में
जैसे
कोई मणि सी कविता ...!!



15 comments:

  1. अहा ! बहुत सुन्दर शब्द चयन ... कोमल भाव

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 02-06-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2361 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका दिलबाग जी |इस मंच से मेरे शब्द ,मेरे भाव बहुत लोगों तक पहुँचेंगे ,कृतार्थ हूँ आपने मेरी अभिव्यक्ति को सम्मान दिया |

      Delete
  3. सुन्दर भावों को प्रस्तुत करती मनमोहक रचना.

    ReplyDelete
  4. सुंदर भावों से ओतप्रोत रचना , बधाई

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 28 जून 2016 को लिंक की गई है............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका आदरणीय !!

      Delete
  7. सच में मणि सी ही कविता ।

    ReplyDelete
  8. सच में अति सुन्दर भावमय कविता। बधाई।

    ReplyDelete
  9. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 09 अगस्त 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. हार्दिक धन्यवाद यशोदा जी!!

    ReplyDelete
  11. मनमोहक रचना संगीता जी | प्रकृति ही कविता की सबसे बड़ी प्रेरणा है |हार्दिक शुभकामनाएं आपको |

    ReplyDelete
  12. वाह ! संध्याकाल का सुरम्य चित्रण !

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!