नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

28 September, 2019

यूँ मुस्कुरा रहा हूँ मैं

कुछ दूर मुझसे यूँ  मेरा क़िरदार जा बसा ,
वही खोज तरन्नुम की जहाँ खो गया हूँ मैं

वाबस्ता नहीं  मुझसे ये दीदारे हुनर भी ,
इक बूँद में सागर का जिगर बांचता हूँ मैं

तू है तो ज़माने का नमक भी क़ुबूल है ,
तेरे हुनर से गीत-ग़ज़ल राचता  हूँ मैं












लिखने का फ़न तो रस्मों अदायगी ही सही
पढ़ पढ़ के तेरे गीत यूँ मुस्कुरा रहा हूँ मैं

अनुपमा त्रिपाठी
 "सुकृति "

11 comments:


  1. जय मां हाटेशवरी.......
    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    29/09/2019 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    http s://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. हाँ , मुस्कुराहट तो आ ही गई ।

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन/उम्दा सृजन।

    ReplyDelete
  5. वाह ! सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छा लेख है Movie4me you share a useful information.

    ReplyDelete
  8. What's up, yes this post is in fact fastidious and I have learned lot of things
    from it concerning blogging. thanks.

    ReplyDelete
  9. उम्दा लिखावट ऐसी लाइने बहुत कम पढने के लिए मिलती है धन्यवाद् (सिर्फ आधार और पैनकार्ड से लिजिये तुरंत घर बैठे लोन)

    ReplyDelete
  10. Thanks For Sharing The Amazing content. I Will also share with my
    friends. Great Content thanks a lot.
    wish from tamilnadu

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!