नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

19 July, 2021

प्रेम तब भी जीवित होगा


मैं शब्द हूँ

नाद ब्रह्म ...

प्रकृति में रचा बसा ...!!

हूँ तो भाव भी हैं

किन्तु ,

मौन रहूँगा तब भी


भावों का अभाव न होगा !!

प्रतिध्वनित होती रहेगी

गूंज  मेरी , अनहद में 

उस हद से परे भी

प्रकृति की नाद में ,

जल की कल कल में

वायु के वेग में

अग्नि की लौ में  ,

धृति  के धैर्य में,रंग में ,बसंत में,

और आकाश के विस्तार में

पहुंचेगी मेरी सदा तुम तक !

प्रभास तब भी जीवित होगा !!

 प्रेम तब भी जीवित होगा ...!!!


अनुपमा त्रिपाठी 

''सुकृति ''



13 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार(२१-०७-२०२१) को
    'सावन'(चर्चा अंक- ४१३२)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से सादर धन्यवाद अनीता जी, मेरी रचना के चयन हेतु!

      Delete
  2. मौन रहकर भी जो सारे भावों का जन्मदाता है वही तो प्रेम का प्रदाता है, सुंदर रचना!

    ReplyDelete
  3. शब्द से सब गुंजित है। सारी ऊर्जा का स्रोत वह प्रथम शब्द। गहरी अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. धृति के धैर्य में,रंग में ,बसंत में,

    और आकाश के विस्तार में

    पहुंचेगी मेरी सदा तुम तक !

    प्रभास तब भी जीवित होगा !!

    प्रेम तब भी जीवित होगा ...!!!बेहद उत्कृष्ट सृजन - - साधुवाद।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. वाह, शब्दों की माया का सुंदर वर्णन।

    ReplyDelete
  9. अति सुन्दर सृजन एवं भाव ।

    ReplyDelete
  10. बहुत ही लाजवाब सृजन
    वाह!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!